Share this on WhatsApp
Subscribe to RSS
कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे mediadarbar@gmail.com पर भेजें | इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है। पाठक चाहे आलेखों से सहमत हों या असहमत, किसी भी लेख पर टिप्पणी करने को स्वतंत्र हैं। हम उन टिप्पणियों को बिना किसी भेद-भाव के निडरता से प्रकाशित भी करते हैं चाहे वह हमारी आलोचना ही क्यों न हो। आपसे अनुरोध है कि टिप्पणियों की भाषा संयत एवं शालीन रखें -मॉडरेटर

ताज़ा खबरेंshow all most recent news

देशद्रोही नारे लगाने के आरोप में JNU से उमर, अनिर्बान और मुजीब निलंबित, कन्हैया पर जुर्माना.. देशद्रोही नारे लगाने के आरोप में JNU से उमर, अनिर्बान और मुजीब निलंबित, कन्हैया पर जुर्माना..(0)
प्रभाकर ग्वाल की बर्खास्तगी: आधुनिक समय का स्याह यथार्थ.. प्रभाकर ग्वाल की बर्खास्तगी: आधुनिक समय का स्याह यथार्थ..(0)
जल संकट के चलते डेढ़ वर्ष बाद बोतलबंद पानी का धंधा 160 अरब रुपये का हो जायेगा.. जल संकट के चलते डेढ़ वर्ष बाद बोतलबंद पानी का धंधा 160 अरब रुपये का हो जायेगा..(0)
नहीं कहा भाजपा सरकार से सरकारी बंगले का किराया कम करने को : प्रियंका गांधी वाड्रा नहीं कहा भाजपा सरकार से सरकारी बंगले का किराया कम करने को : प्रियंका गांधी वाड्रा(0)
आईआईटी की फीस वृद्धि के राजनैतिक निहितार्थ.. आईआईटी की फीस वृद्धि के राजनैतिक निहितार्थ..(0)
हरेक बात पर कहते हो घर छोड़ो.. हरेक बात पर कहते हो घर छोड़ो..(0)
पुल गिरा है कोई पहाड़ नहीं.. पुल गिरा है कोई पहाड़ नहीं..(2)
ताकतवर लोगों के लिए टैक्स से बचना इतना आसान कैसे.. ताकतवर लोगों के लिए टैक्स से बचना इतना आसान कैसे..(1)
मास मीडिया में बिना डिग्री डिप्लोमा के नहीं निकाल पाएंगे अखबार.. मास मीडिया में बिना डिग्री डिप्लोमा के नहीं निकाल पाएंगे अखबार..(1)
पुरस्कार का मापदंड.. पुरस्कार का मापदंड..(1)
भारत माता की जय: व्यंग्य भारत माता की जय: व्यंग्य(1)
कन्हैया तुम बहक गये, दंगे और दमन को अलग नज़रों से नहीं देखा जा सकता.. कन्हैया तुम बहक गये, दंगे और दमन को अलग नज़रों से नहीं देखा जा सकता..(1)
कोई ‘पुरुष उत्पीड़न’ कहे, तो हंसियेगा मत.. कोई ‘पुरुष उत्पीड़न’ कहे, तो हंसियेगा मत..(1)
show all most recent news

मीडियाshow all मीडिया articles

हरेक बात पर कहते हो घर छोड़ो..
हरेक बात पर कहते हो घर छोड़ो..(0)

-आरिफा एविस || घर के मुखिया ने कहा यह वक्त छोटी-छोटी बातों को दिमाग से सोचने का नहीं है. यह वक्त दिल से सोचने का समय है, क्योंकि छोटी-छोटी बातें ही आगे चलकर बड़ी हो जाती हैं. मैंने घर में सफाई अभियान चला रखा है और यह किसी भी स्तर पर भारत छोड़ो आन्दोलन से कम

पुल गिरा है कोई पहाड़ नहीं..
पुल गिरा है कोई पहाड़ नहीं..(2)

-आरिफा एविस॥ पुल गिरा है कोई पहाड़ नहीं गिरा जो इतनी आफत कर रखी है. रोज ही तो दुर्घटनाएं होती हैं. अब सबका रोना रोने लगे तो हो गया देश का विकास.और विकास तो कुरबानी मांगता है खेती का विकास बोले तो किसानों की आत्महत्या. उद्योगों का विकास बोले तो मजदूरों की छटनी, तालाबंदी. सामाजिक

मास मीडिया में बिना डिग्री डिप्लोमा के नहीं निकाल पाएंगे अखबार..
मास मीडिया में बिना डिग्री डिप्लोमा के नहीं निकाल पाएंगे अखबार..(1)

इस समय आरएनआई में पंजीकृत 90 प्रतिशत मुद्रकों के पास पत्रकारिता की योग्यता नहीं, फर्जी पत्रकारों की मश्कें कसने की तैयारी में भी सरकार.. -मोदस्सिर कादरी (साई)|| नई दिल्ली । देशभर में समाचार पत्रों की बढ़ती संख्या और इनकी आड़ में चलाए जा रहे गोरखधंधे को ध्यान में रखते हुए सरकार अखबारों के पंजीकरण पर

read more

अपराधshow all अपराध articles

कोई ‘पुरुष उत्पीड़न’ कहे, तो हंसियेगा मत..
कोई ‘पुरुष उत्पीड़न’ कहे, तो हंसियेगा मत..(1)

महिलाओं द्वारा उत्पीड़न कानूनों का पुरुषों के खिलाफ दुरुपयोग तेज़ी से बढ़ रहा है। ये महिलाओं के सचमुच हो रहे शोषण और उत्पीड़न के मामलों को भी कमज़ोर करता है.. -अरविन्द शुक्ला॥ लखनऊ। लगभग एक दशक पहले दिल्ली में दीवारों पर एक संस्था के विज्ञापन पुते रहते थे, जो महिलाओं के उत्पीड़न के शिकार पुरुषों

लखनऊ में रेपिस्‍टों का हमला, सीएम आवास के पास फेंकी बालिका की नंगी लाश..
लखनऊ में रेपिस्‍टों का हमला, सीएम आवास के पास फेंकी बालिका की नंगी लाश..(0)

लखनऊ में रेपिस्‍टों का हमला, सीएम आवास के पास फेंकी बच्ची की नंगी लाश.. बेटियों की नंगी लाशों का सैलाब अब मुख्यमंत्री आवास तक पहुंचा.. आज फिर मिली नृशंस हत्या के बाद एक स्कूली बच्ची की हत्या.. सीएम आवास, 1090 और डीजीपी के घर से ,चंद कदम दूर मिली लाश.. मोहनलालगंज के जघन्‍य हत्‍याकाण्ड के

यूपी पुलिस में लैमारी और झपटमारी का ताजा चोखा धंधा बना 1090 वीमेन हेल्‍प लाइन..
यूपी पुलिस में लैमारी और झपटमारी का ताजा चोखा धंधा बना 1090 वीमेन हेल्‍प लाइन..(0)

जोशीली अलंकृता सिंह के नायाब प्रोजेक्‍ट को झपट लिया पुलिस के मुंहलगे अफसरों ने.. महिला सहायता सेल, यानी रंगमंच पर हवा में तलवार भांजते विदूषक की दिलचस्‍प अदायें.. -कुमार सौवीर॥ लखनऊ: दोस्‍तों, यह हादसा उस एक खुशनुमा प्रयास की दुर्गति-परिणति है, जो आज 1090 वीमेन हेल्‍प लाइन के तौर पर कुख्‍यात होता जा रहा है।

read more

राजनीतिshow all राजनीति articles

नहीं कहा भाजपा सरकार से सरकारी बंगले का किराया कम करने को : प्रियंका गांधी वाड्रा
नहीं कहा भाजपा सरकार से सरकारी बंगले का किराया कम करने को : प्रियंका गांधी वाड्रा(0)

प्रियंका गांधी वाड्रा ने इन दावों को खारिज कर दिया कि लुटियंस दिल्ली में उनके सरकारी बंगले का मासिक किराया उनके अनुरोध पर कम कर दिया गया था। उन्होंने कहा कि इस राशि का निर्धारण साल 2002 में तत्कालीन भाजपा सरकार ने किया था और इस श्रेणी में अन्य लोगों के लिए भी वही किराया

कन्हैया तुम बहक गये, दंगे और दमन को अलग नज़रों से नहीं देखा जा सकता..
कन्हैया तुम बहक गये, दंगे और दमन को अलग नज़रों से नहीं देखा जा सकता..(1)

–मुकेश कुमार सिंह॥ जेएनयू छात्रसंघ के अध्यक्ष कन्हैया कुमार को मिली पहचान ही शायद अब उसकी दुश्मन बन चुकी है। प्रसिद्धि ने उसे अहंकारी बना दिया। अहंकार ने उसका विवेक-हर लिया। कन्हैया कोई पहला शख़्स नहीं है कि जिसे मीडिया की बदौलत रातों-रात मिली अपार पहचान को लेकर बदहज़मी हो गयी हो। चटपट प्रसिद्धि पाना

नायक नहीं आंदोलन महत्वपूर्ण है..
नायक नहीं आंदोलन महत्वपूर्ण है..(1)

मसीहा की तलाश में पागल हमारा समाज केजरीवाल से कन्हैया तक के कंधों पर अपनी उम्मीदों का बोझ डालने को बेकरार है. लेकिन इतिहास बताता है कि समाज जनता बदलती है. आंदोलन नेता पैदा करते हैं, नेता आंदोलन नहीं.. -अशोक कुमार पांडेय॥ दिल्ली के जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय के बाहर और भीतर पिछले दिनों जो कुछ

read more
देशद्रोही नारे लगाने के आरोप में JNU से उमर, अनिर्बान और मुजीब निलंबित, कन्हैया पर जुर्माना..
देशद्रोही नारे लगाने के आरोप में JNU से उमर, अनिर्बान और मुजीब निलंबित, कन्हैया पर जुर्माना..(0)

नई दिल्ली : 9 फ़रवरी JNU में देशद्रोही नारे लगाने के आरोपी उमर खालिद, अनिर्बान और मुजीब को निलंबित कर

प्रभाकर ग्वाल की बर्खास्तगी: आधुनिक समय का स्याह यथार्थ..
प्रभाकर ग्वाल की बर्खास्तगी: आधुनिक समय का स्याह यथार्थ..(0)

-मसूद अख्तर|| सुकमा के सीजेएम प्रभाकर ग्वाल की बर्खास्तगी इसलिए नहीं की गयी कि वे अपने कर्तव्य का निर्वाह नहीं

जल संकट के चलते डेढ़ वर्ष बाद बोतलबंद पानी का धंधा 160 अरब रुपये का हो जायेगा..
जल संकट के चलते डेढ़ वर्ष बाद बोतलबंद पानी का धंधा 160 अरब रुपये का हो जायेगा..(0)

–पुण्य प्रसून बाजपेयी|| तो पानी का संकट भारत के लिये खतरे की घंटी है। क्योंकि दुनिया में जिस तेजी से

ताकतवर लोगों के लिए टैक्स से बचना इतना आसान कैसे..
ताकतवर लोगों के लिए टैक्स से बचना इतना आसान कैसे..(1)

-रवीश कुमार|| क्या कभी आपने हिसाब किया है कि आप इंटरनेट, अखबार और न्यूज़ चैनलों पर महीने का कितना खर्च

साम्प्रदायिक दंगे और उनका इलाज..
साम्प्रदायिक दंगे और उनका इलाज..(0)

1919 के जलियाँवाला बाग हत्याकाण्ड के बाद ब्रिटिश सरकार ने साम्प्रदायिक दंगों का खूब प्रचार शुरू किया.. इसके असर से

नेकर का रंग या साइज़ का बदलना संघ की हार है..
नेकर का रंग या साइज़ का बदलना संघ की हार है..(3)

-रवीश कुमार॥   दिल्ली आने से पहले हाफ पैंट का इतना सामाजिक चलन नहीं देखा था। नब्बे के दशक में

आर्ट ऑफ लिविंग की भेंट चढ़े 200 किसान परिवार, पीएम से लेकर सीएम सब खामोश..
आर्ट ऑफ लिविंग की भेंट चढ़े 200 किसान परिवार, पीएम से लेकर सीएम सब खामोश..(2)

लम्बे समय तक हरियाणा के भाजपा प्रमुख और हरियाणा की वर्तमान भाजपा सरकार के मंत्री अभिमन्यु के अख़बार के अनुसार

ओस्‍ताद, अरे वही तो है चंद्रकला। थोथा चना, बाजै घना..
ओस्‍ताद, अरे वही तो है चंद्रकला। थोथा चना, बाजै घना..(0)

फर्क मां-बेटे के दरमियान का, और लटके-झटके माशा अल्‍लाह.. अरे आप ईमानदार हैं तो साबित कीजिए, नाटक-हंगामा काहे.. कमीशन बढ़ा

बड़ी शान से निकली दलित दुल्हे की बिन्दोली..
बड़ी शान से निकली दलित दुल्हे की बिन्दोली..(3)

और फिर वह भी हो गया, जो आज से पहले कभी नहीं हुआ था. राजस्थान के भीलवाड़ा के एक गांव

सरोज बैरवा का संघर्ष, चाहती है कि घोड़ी पर चढ़ कर निकले भैया की बिन्दोली ..
सरोज बैरवा का संघर्ष, चाहती है कि घोड़ी पर चढ़ कर निकले भैया की बिन्दोली ..(0)

– भंवर मेघवंशी॥ राजस्थान के भीलवाड़ा जिले के गुलाबपुरा थाना क्षेत्र के भादवों की कोटड़ी गाँव में कल 3 फरवरी

विकास की बाँसुरी, फ़ासिस्ज़्म के तम्बू..
विकास की बाँसुरी, फ़ासिस्ज़्म के तम्बू..(2)

रोहित वेमुला की आत्महत्या एक निराश युवा की निजी त्रासदी नहीं है. उसकी आत्महत्या देश की त्रासदी है, जिस पर

क्लासरूम बनाम स्टाफरूम..
क्लासरूम बनाम स्टाफरूम..(0)

-दिलीप सी मण्डल।। भारत के कैंपस में असंतोष सतह के नीच अरसे से खदबदा रहा था. हैदराबाद सेंट्रल यूनिवर्सिटी के

read more

शिक्षाshow all शिक्षा articles

आईआईटी की फीस वृद्धि के राजनैतिक निहितार्थ..
आईआईटी की फीस वृद्धि के राजनैतिक निहितार्थ..(0)

-आरिफा एविस॥ आईआईटी में पढ़ने वाले छात्रों को अब दोगुना फीस देनी होगी जो 90 हजार से बढ़कर दो लाख

क्लासरूम बनाम स्टाफरूम..
क्लासरूम बनाम स्टाफरूम..(0)

-दिलीप सी मण्डल।। भारत के कैंपस में असंतोष सतह के नीच अरसे से खदबदा रहा था. हैदराबाद सेंट्रल यूनिवर्सिटी के

राजस्थान सरकार का दलितों को तोहफा, अम्बेडकर लॉ यूनिवर्सिटी बंद करने का फैसला..
राजस्थान सरकार का दलितों को तोहफा, अम्बेडकर लॉ यूनिवर्सिटी बंद करने का फैसला..(2)

एक तरफ केंद्र की भाजपा सरकार संविधान निर्माता बाबा साहब अम्बेडकर की 125 वी जयंती का समारोह मना रही है,

read more

समाजshow all समाज articles

पाकिस्तान के हिंगलाज मंदिर में जसवंत के स्वास्थ्य के लिए हो रहा यज्ञ..
पाकिस्तान के हिंगलाज मंदिर में जसवंत के स्वास्थ्य के लिए हो रहा यज्ञ..(0)

-चन्दन सिंह भाटी।। बाड़मेर पूर्व वित्त विदेश रक्षा मंत्री जसवंत सिंह के स्वास्थ्य की बेहतरी के लिए भारत के साथ

निर्बाध दैहिक सुख प्राप्ति है लिव-इन-रिलेशन…
निर्बाध दैहिक सुख प्राप्ति है लिव-इन-रिलेशन…(2)

माननीय न्यायालय की टिप्पणी के बाद लिव-इन-रिलेशन फिर चर्चा में है. महिला मुक्ति के समर्थक ऐसे किसी भी विषय का

सत्येंद्र दुबे याद हैं ना?
सत्येंद्र दुबे याद हैं ना?(0)

  मुझे नहीं मालूम सत्येंद्र सर कि आज आप हमारे बीच होते तो कुछ समय पहले भ्रष्टाचार के खिलाफ़ आवाम

read more

ईमेल सदस्यता लें..

मीडिया दरबार पर प्रकाशित होने वाली हर खबर अपने ईमेल पर पाने के लिए मुफ्त सदस्यता लीजिये..

ताज़ा ख़बरें..

हमें फेसबुक पर पसंद करें..

Contacts and information

मीडिया दरबार - जहाँ लगता है दरबार. आप ही राजा हैं इस दरबार के और कटघरे में है मीडिया. हम तो मात्र एक मंच हैं और मीडिया पर अपनी निगाह जमायें हैं, जहाँ भी मीडिया में कुछ गलत होता दिखाई देता है उसे हम आपके सामने रख देते हैं और चलाते हैं मुकद्दमा. जिसपर सुनवाई करते हैं आप, जहाँ न्याय करते हैं आप. जी हाँ, यह एक अलग किस्म का दरबार है. मीडिया दरबार...

Social networks

Most popular categories

© 2014 All rights reserved.
%d bloggers like this: