/सुभाष पार्क का अवैध मस्जिद विवाद सुप्रीम कोर्ट में..

सुभाष पार्क का अवैध मस्जिद विवाद सुप्रीम कोर्ट में..

सुभाष पार्क स्थित विवादित मस्जिद स्थल मामले को दिल्ली उच्च न्यायालय की सीमाओं से ऊपर निकलते हुए अखिल भारत हिन्दू महासभा के उपाध्यक्ष स्वामी एस एस बाबा ॐ जी ने तथा अखिल भारत हिन्दू युवक सभा के राष्ट्रिय महामंत्री श्री मुकेश शर्मा ने संयुक्त रूप से उच्चतम न्यायालय में विरोध पत्र (Caveat) दाखिल करते हुए मांग की है की दिल्ली उच्च न्यायालय के आदेशों का पालन तथा आदेश का एकतरफा स्थगनादेश जारी न करने की अपील की है. उपरोक्त विरोध पत्र (Caveat) में आग्रह किया गया है की अगर दिल्ली उच्च न्यायलय के निर्णय के विरुद्ध यदि शुएब इक़बाल कोई याचिका उच्चतम न्यायायलय में दायर करते हैं तो हिन्दू महासभा का पक्ष सुने बिना किसी भी प्रकार का निर्णय न सुनाया जाए.

स्वामी बाबा ॐ जी तथा मुकेश शर्मा ने संयुक्त रूप से बयान देते हुए कहा है कि दिल्ली पुलिस की ढुलमुल अनीति तथा अक्षम, असहाय तथा कायरतापूर्ण रवैये पर कडा विरोध दर्ज किया है.
नया अवैध्य ढांचा हटाने में किया जा रहा विलम्ब तथा न्याय कि स्थापना तथा न्यायलय के आदेश के सम्मान कि मांग को लेकर अखिल भारत हिन्दू महासभा द्वारा दिल्ली के पुलिस कमिश्नर श्री निखिल कुमार का घेराव किया जायेगा.

स्वामी बाबा ॐ जी तथा श्री मुकेश शर्मा जी ने कहा कि दिल्ली उच्च न्यायालय के आदेशों को साम्प्रदायिकता की आड़ में ठंडे बस्तों में डालने का षड्यंत्र किया जा रहा है.
उल्लेखनीय है कि उच्च न्यायालय के आदेश कि धज्जियां उड़ाते हुए पुरात्व सर्वेक्षण विभाग, दिल्ली नगर निगम तथा दिल्ली पुलिस ने दिनांक 04-08-2012 को 15 दिन कि अवधि पूर्ण हो जाने के बावजूद भी सुभाष पार्क के अवैध्य ढाँचे को नहीं गिराया. इस प्रकार के असंवैधानिक रवैये के कारण न्यायालय के आदेश की अवहेलना के अधिनियम के अधीन इसी सप्ताह स्वामी बाबा ॐ जी हिन्दू महासभा की और दिल्ली उच्च न्यायलय में याचिका दायर करेंगे.

मुस्लिम तुष्टिकरण नीति के अधीन भाजपा की नगर निगम तथा कांग्रेस की पुलिस तथा पुरातत्व सर्वेक्षण विभाग, यह तीनो ही षड्यंत्र पूर्वक केवल मुस्लिमो को प्रसन्न के लिए उस अवेध्य ढाँचे को नहीं तोड़ रहे हैं.

स्वामी बाबा ॐ जी द्वारा दायर विरोध याचिका के आधार पर भगोड़ा घोषित अपराधी जामा मस्जिद के विवादित शाही इमाम अहमद बुखारी के विरुद्ध जारी किये गये गैर-जमानती वारंट की अवधि को दिनांक 03-08-2012 को भी न्यायालय द्वारा बढ़ा दिया गया तथा लोधी कालोनी पुलिस थाना प्रभारी इश्वर सिंह द्वारा दिनांक 03-08-2012 को न्यायालय में प्रस्तुत किये गये झूठे पुलिस रिपोर्ट जिसमे पुलिस ने झूठा बयान दर्ज किया की शाही इमाम कहीं भी उपलब्ध नही है (UnTraceble) हैं, अतः उसके विरुद्ध न्यायलय के आदेश के अवमानना अधिनियम के अधीन स्वामी बाबा ॐ जी द्वारा न्यायलय में 03-08-2012 को नई याचिका दायर की गई है, तथा वर्तमान न्यायाधीश के न्यायालय से इस केस को आरम्भ से देख रहे महानगर दंडाधिकारी श्री राजेन्द्र सिंह के न्यायालय में पुनः स्थानांतरित करने सम्बन्धी याचिका भी जिला एवं स्तर न्यायाधीश के न्यायलय में याचिका दायर की है. शाही इमाम के षड्यन्त्रानुसार वर्तमान न्यायालय से शाही इमाम के विवाद से सम्बन्धित दस्तावेजों को गायब करने के विरुद्ध भी स्वामी एस एस बाबा ॐ जी ने न्यायालय में याचिका दायर की है.

(प्रेस विज्ञप्ति)

Facebook Comments

संबंधित खबरें:

मीडिया दरबार के मॉडरेटर 1979 से पत्रकारिता से जुड़े हैं. एक साप्ताहिक से शुरूआत के बाद अस्सी के दशक में स्वतंत्र पत्रकार बतौर खोजी पत्रकारिता में कदम रखा, हिंदी के अधिकांश राष्ट्रीय अख़बारों में हस्ताक्षर. उसी दौरान राजस्थान के अजमेर जिले के एक सशक्त राजनैतिक परिवार द्वारा एक युवती के साथ किये गए खिलवाड़ पर नवभारत टाइम्स के लिए लिखी रिपोर्ट वरिष्ठ पत्रकार श्री मिलाप चंद डंडिया की पुस्तक "मुखौटों के पीछे - असली चेहरों को उजागर करते पचास वर्ष" में भी संकलित की गयी है. कुछ समय के लिए चौथी दुनियां के मुख्य उपसंपादक रहे किन्तु नौकरी कर पाने के लक्खन न होने से तेईस दिन में ही चौथी दुनिया को अलविदा कह आये. नब्बे के दशक से पिछले दशक तक दूरदर्शन पर समसामयिक विषयों पर प्रायोजित श्रेणी में कार्यक्रम बनाते रहे. अब वैकल्पिक मीडिया पर सक्रिय.