/गोपाल कांडा हो गिरफ्तार और हुड्डा सरकार बर्खास्त हो: ओमप्रकाश चौटाला

गोपाल कांडा हो गिरफ्तार और हुड्डा सरकार बर्खास्त हो: ओमप्रकाश चौटाला

-जयश्री राठौड़||
चंडीगढ़: इनेलो प्रमुख व हरियाणा क पूर्व मुख्यमंत्री ओमप्रकाश चौटाला ने गीतिका शर्मा आत्महत्या

गीतिका शर्मा और उसका आत्महत्या से पहले लिखा गया पत्र

कांड के मुख्य आरोपी हरियाणा के ग़ृह राज्य मंत्री गोपाल कांडा को तुरंत गिरफतार किए जाने और हुडडा सरकार को तुरंत बर्खास्त किए जाने की मांग की है। इनेलो प्रमुख ने कहा कि भ्रष्टाचार की सारी सीमाएं लांघ चुकी जोड़ तोड़ व दलबदल के बलबूते सत्ता में आई हुड्डा सरकार अब चरित्रहीनता की सारी सीमाऐं पार कर चुकी है और इसे सत्ता में बने रहने का कोई

नैतिक व लोकतांत्रिक अधिकार नही रह गया है। उन्होंने ने कहा कि अपराधिक गतिविधियों व अनैतिक कार्यों में संलिप्त गोपाल कांडा जैसे लोगों को जब प्रदेश की कानून व्यवस्था की जिम्मेवारी सौंप कर गृह राज्य मंत्री बनाया गया है तो ऐसे लोगों से प्रदेश में अच्छी कानून व्यवस्था की स्थिति कायम करने की क्या उ मीद की जा सकती है। इनेलो प्रमुख ने कहा कि गोपाल कांडा व उनके परिवार की पहले भी आपराधिक पृष्टभूमि रही है और उनके खिलाफ पहले भी कई मामले दर्ज हो चुके हैं। उन्होंने कहा कि गोपाल कांडा की गाड़ी व उनके करीबी लोग पहले एक गैंगरेप के मामले में चर्चा में रहे हैं और कांडा व उनके परिवार पर अंतर्राष्ट्रीय स्तर के एक क्रिकेट खिलाड़ी के साथ मारपीट करने, आयकर अधिकारियों पर हमला करने, सिरसा में बंद के दौरान इनेलो कार्यकर्ताओं पर हमला करने और डयूटी पर तैनात पुलिस कर्मचारी के साथ मारपीट करने और वन विभाग की भूमि पर अतिक्रमण करने जैसे अनेक विवादस्पद मामले दर्ज रहे हैं।
गोपाल कांडा पर पहले सामूहिक बलात्कार का भी आरोप लग चुका है

श्री चौटाला ने कहा कि अब दिल्ली पुलिस द्वारा अशोक विहार स्थित भारत नगर निवासी एयर होस्टस गीतिका शर्मा को आत्महत्या के लिए मजबूर करने के आरोप में हरियाणा के गृह राज्य मंत्री के खिलाफ आपराधिक मामला दर्ज किया गया है। गीतिका शर्मा ने गोपाल कांडा पर उनका उत्पीडऩ व शोषण करने का आरोप लगाते हुए आज सुबह आत्महत्या कर ली थी और घटना स्थल पर पाए गए मृतका के सुसाईड नोट में कांडा को उसकी मौत का जि मेदार ठहराया गया है। इसी के आधार पर दिल्ली पुलिस ने कांडा के खिलाफ गीतिका को आत्महत्या के लिए उकसाने के आरोप में मामला दर्ज किया है। इनेलो प्रमुख ने कहा कि कांडा को न सिर्फ गिरफ्तार किया जाए बल्कि उन्हें मंत्रिमंडल से

इनेलो प्रमुख ओम प्रकाश चौटाला

बर्खास्त करने के साथ ही उनकी विधानसभा की सदस्यता भी रद्द की जाए। चौटाला ने कहा कि हुड्डा सरकार के दो मंत्री पहले करनाल जिले के कबोपुरा गांव के पूर्व सरपंच कर्मसिंह हत्याकांड को लेकर विवादों में रहे हैं। कर्मसिंह के परिवार ने हरियाणा के पूर्व परिवहन मंत्री ओमप्रकाश जैन व पूर्व मुख्य संसदीय सचिव जिले राम शर्मा पर उनसे नौकरी के नाम पर पैसे लेने और पैसे वापिस मांगने पर कर्मसिंह की हत्या करवाए जाने का आरोप लगाया था। इस हत्याकांड के कुछ दिन बाद कर्मसिंह के नजदीकी रिश्तेदार व इस हत्याकांड के मुख्य गवाह की भी हत्या कर दी गई थी। कर्मसिंह के परिवार ने सरकार पर आरोपियों को बचाने व मामले को खुर्दबुर्द करने का आरोप लगाया था।  इनेलो प्रमुख ने कहा कि भ्रष्टाचार की सारी सीमाऐं लांघ चुकी हुड्डा सरकार के मंत्री व विधायक अनैतिक कार्यों में संलिप्त पाए जा रहे हैं। उन्होंने कहा कि कुछ दिन पहले सीबीआई सूत्रों के हवाले से यह बात उजागर हुई थी कि रोहतक स्थित अपना घर कांड में हरियाणा विधानसभा के तीन मौजूदा विधायकों की संलिप्तता भी सामने आई है। उन्होंने कहा कि इन विधायकों पर अकसर देर रात अंगरक्षकों के साथ अपना घर शेल्टर होम में जाने के आरोप लग रहे हैं। महम के विधायक आनंद सिंह डांगी व रोहतक के विधायक भारत भूषण बत्रा पर अपना घर संचालिका जसवंती देवी को राज्य स्तरीय इंदिरा गांधी महिला शक्ति पुरस्कार दिए जाने की सिफारिश किए जाने का भी मामला सामने आया है। इन्हीं विधायकों की सिफारिश पर राज्य सरकार ने एक लाख रूपये नकद पुरस्कार सहित जसवंती देवी को ने सिर्फ प्रशंसा पत्र दिया गया बल्कि उसे तथाकथित सराहनीय सेवाओं व समाज सेवा के लिए स मानित करते हुए लाखों रूपये की ग्रांट भी दी गई। उन्होंने कहाकि दलबदल व खरीदोफरोख्त के बलबूते पर सत्ता में आई हुड्डा सरकार को सत्ता में बने रहने का कोई अधिकार नहीं है इसलिए इस सरकार को तुरंत बर्खास्त किया जाए और सभी मामलों की न्यायिक जांच करवाई जाए।

Facebook Comments

संबंधित खबरें:

मीडिया दरबार के मॉडरेटर 1979 से पत्रकारिता से जुड़े हैं. एक साप्ताहिक से शुरूआत के बाद अस्सी के दशक में स्वतंत्र पत्रकार बतौर खोजी पत्रकारिता में कदम रखा, हिंदी के अधिकांश राष्ट्रीय अख़बारों में हस्ताक्षर. उसी दौरान राजस्थान के अजमेर जिले के एक सशक्त राजनैतिक परिवार द्वारा एक युवती के साथ किये गए खिलवाड़ पर नवभारत टाइम्स के लिए लिखी रिपोर्ट वरिष्ठ पत्रकार श्री मिलाप चंद डंडिया की पुस्तक "मुखौटों के पीछे - असली चेहरों को उजागर करते पचास वर्ष" में भी संकलित की गयी है. कुछ समय के लिए चौथी दुनियां के मुख्य उपसंपादक रहे किन्तु नौकरी कर पाने के लक्खन न होने से तेईस दिन में ही चौथी दुनिया को अलविदा कह आये. नब्बे के दशक से पिछले दशक तक दूरदर्शन पर समसामयिक विषयों पर प्रायोजित श्रेणी में कार्यक्रम बनाते रहे. अब वैकल्पिक मीडिया पर सक्रिय.