Subscribe to RSS
कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे mediadarbar@gmail.com पर भेजें | इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है। पाठक चाहे आलेखों से सहमत हों या असहमत, किसी भी लेख पर टिप्पणी करने को स्वतंत्र हैं। हम उन टिप्पणियों को बिना किसी भेद-भाव के निडरता से प्रकाशित भी करते हैं चाहे वह हमारी आलोचना ही क्यों न हो। आपसे अनुरोध है कि टिप्पणियों की भाषा संयत एवं शालीन रखें -मॉडरेटर

लैपटॉप के लिए अखिलेश यादव से तगादा महंगा पड़ा दो छात्रों को…

अखिलेश यादव ने विगत  विधानसभा चुनावों के दौरान छात्रों को टैबलेट और लेपटोप देने की जबरदस्त

घोषणा की थी और सत्ता में आने के बाद इस घोषणा को अमली जामा पहनाने के लिए काम भी शुरु किया. मगर अभी तक किसी को टैबलेट या लेपटोप तो नहीं मिला मगर दो किशोरों द्वारा मुख्यमंत्री अखिलेश यादव को एसएमएस भेजकर लैपटॉप और टैबलेट का तगादा करना भारी पड़ गया.
सर्विलांस के जरिए उनका पता लगाकर एसटीएफ ने बुधवार को उन्हें हिरासत में ले लिया. हालांकि पुलिस लाइंस में उनसे थोड़ी देर पूछताछ के बाद छोड़ दिया गया, लेकिन जब तक वे एसटीएफ की गिरफ्त में रहे, परिजनों की सांसें अटकी रहीं.

सूत्रों के मुताबिक जिन ग्यारहवीं के छात्रों ने मुख्यमंत्री को एसएमएस भेजकर लैपटॉप देने की याद दिलाई थी, वे चिलौना गांव के रहने वाले हैं. सीएम को एसएमएस भेजने से पहले उन्होंने एक शिक्षक से लैपटॉप और टैबलेट मिलने के बारे में पूछताछ भी की थी मगर जब शिक्षक उन्हें इस बात की सही जानकारी नहीं दे पाया तो उन्होंने कहीं से मुख्यमंत्री का मोबाइल नंबर जुगाड़ कर सीधे अखिलेश यादव को  एसएमएस भेजकर अपनी बात उन तक पहुंचाई.

पुलिस सूत्रों के मुताबिक, जब उन्हें कोई जवाब नहीं मिला तो उन्होंने सीएम को फोन कर दिया और लैपटॉप के साथ साथ बिजली आदि के बारे में भी उल्टी सीधी बातें पूछ लीं. फिर क्या था, आ गयी इन किशोरों की शामत.  इसके बाद उनका नंबर सर्विलांस पर लगा दिया गया और उनका पता लगते ही लखनऊ एसटीएफ ने दोनों किशोरों को धर लिया.
पूछताछ में पकडे़ गए किशोरों ने बचपने में मैसेज और फोन करने की बात स्वीकार कर ली. एसपी रामपाल से जब इस घटना के बावत पूछा गया तो उन्होंने कुछ बताने से इन्कार कर दिया. एसटीएफ ने पूछताछ के बाद दोनों छात्रों को छोड़ दिया.

संबंधित खबरें:

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे mediadarbar@gmail.com पर भेजें | इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है। पाठक चाहे आलेखों से सहमत हों या असहमत, किसी भी लेख पर टिप्पणी करने को स्वतंत्र हैं। हम उन टिप्पणियों को बिना किसी भेद-भाव के निडरता से प्रकाशित भी करते हैं चाहे वह हमारी आलोचना ही क्यों न हो। आपसे अनुरोध है कि टिप्पणियों की भाषा संयत एवं शालीन रखें -मॉडरेटर

11 comments

#1Mohammad Uzair RaeeniFebruary 28, 2013, 3:01 PM

Mr. Akhilesh yadav is giving laptops to those student who had taken admission in any college or university this year but what about those student who had dropped this year and did not take admission in any college and preparing for entrance of I.I.T or A.I.E.E.E. or for somewhere els.

#2Rudra Pratap SinghJanuary 13, 2013, 4:12 PM

किसानो को ठगती सरकारें….

#3विनोद मिश्रSeptember 9, 2012, 5:24 PM

nice

#4ranjeet kumarSeptember 5, 2012, 4:37 PM

i am ranjeet kumar village bhamai viltigarh firozabad

#5Ranvijay SinghAugust 26, 2012, 6:56 AM

akhilesh ji ko yesa nahi karna chahiye tha , unhe khud milkar……..

#6Paigham E AmanAugust 15, 2012, 6:17 AM

वादे सिर्फ वादे होते है………..पर यार पब्लिक तो सीरियस हो जाती है………..

#7Balkrushna TiwariAugust 15, 2012, 12:45 AM

Aisa hi congress gujarat me kar rahi hai…Ghar dila ne ke form bharva rahi hai….

#8ठाकुर रवींद्र सिंहAugust 10, 2012, 4:53 AM

laptop ka loolipop…

#9Abhishek DixitAugust 9, 2012, 5:46 PM

इसमें एस टी एफ से उठवाने वाली कौन सी बात थी? अगर वाकई में अच्छा नेता बनना था तो उन्हें मिलने के लिए बुलवाना था कम से कम पुलिस तो नही भेजनी थी.

#10Ram Balak RoyAugust 9, 2012, 9:07 PM

kya अभी तक उप के स्टुडेंट को लैपटॉप नहीं मिला

#11Imran RayeenAugust 9, 2012, 9:40 AM

bese unhone kuch galat nahi kiya kisi ko bada yaad dilana koi gunah nahi he.

Add your comment

Nickname:
E-mail:
Website:
Comment:

Other articlesgo to homepage

सोनिया ने कहा कि नकली सपने दिखाने वालों को मिली जीत..

सोनिया ने कहा कि नकली सपने दिखाने वालों को मिली जीत..(1)

नई दिल्ली. दिल्ली में आज कांग्रेस के संकल्प सम्मेलन के दौरान कांग्रेस अध्यक्षा सोनिया ने केंद्र सरकार पर जमकर निशाना साधा. सोनिया ने सरकार पर आरोप लगाते हुए कहा है कि हमारी योजनाओं को ही सरकार घोषित कर रही है और उसका श्रेय ले रही है. सोनिया ने यूपीए के कार्यकाल की तारीफ करते हुए

परिवार का समाजवाद…

परिवार का समाजवाद…(2)

-तारकेश कुमार ओझा|| भारतीय राजनीति में कांग्रेस के स्वर्णकाल के दौरान विभिन्न नामों के साथ कांग्रेस जोड़ कर दर्जनों नई पार्टियां बनी. बाद में भी इसी तरह एक पार्टी बनी. जिसका नाम था तृणमूल कांग्रेस. पहले नाम को लेकर लोगों में भ्रम रहा. फिर समझ में आया कि तृणमूल कांग्रेस का मतलब है जिसका मूल

बनारस में खुलने वाले मिनी पी.एम.ओ की जगह को लेकर विवाद छिड़ा..

बनारस में खुलने वाले मिनी पी.एम.ओ की जगह को लेकर विवाद छिड़ा..(0)

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के संसदीय क्षेत्र वाराणसी में खुलने वाले मिनी पी.एम.ओ की जगह को लेकर विवाद खड़े हो गए हैं.. बनारस वासियों का कहना है कि जिस व्यक्ति की बिल्डिंग में मिनी पी.एम.ओ खुल रहा है, वो बनारस का एक कुख्यात नाम है.. इस के विरोध में कुछ बनारस निवासियों ने प्रधानमंत्री को एक पत्र भी मेल

ग्यारह करोड़ लोगों को हिंद महासागर में डुबाना होगा तब बनेगा कांग्रेस मुक्त भारत..

ग्यारह करोड़ लोगों को हिंद महासागर में डुबाना होगा तब बनेगा कांग्रेस मुक्त भारत..(0)

हरियाणा के प्रभारी कांग्रेस महासचिव शकील अहमद ने भारत को कांग्रेस-मुक्त बनाने के बीजेपी प्रमुख अमित शाह के बयान पर चुटकी लेते हुए कहा कि उन्हें इसके लिए देश के 11 करोड़ लोगों को हिंद महासागर में डुबाना होगा. अहमद ने कहा, हालांकि कांग्रेस को महज 44 सीटें मिली, लेकिन 11 करोड़ लोगों ने उसे

धर्मनिरपेक्षता की राजनीति पर संकट के बादल..

धर्मनिरपेक्षता की राजनीति पर संकट के बादल..(1)

  -शेष नारायण सिंह|| बीजेपी में हमारे एक मित्र हैं . उन्होंने अपने फेसबुक पेज पर लिखा कि जब उनको किसी को गाली देनी होती है तो वे उसे धर्मनिरपेक्ष कह देते हैं . मुझे अजीब लगा .वे भारत राष्ट्र को और भारत के संविधान को अपनी नासमझी की ज़द में ले रहे थे क्योंकि

read more

प्रसिद्ध खबरें..

Ajax spinner

ताज़ा पोस्ट्स

Contacts and information

मीडिया दरबार - जहाँ लगता है दरबार. आप ही राजा हैं इस दरबार के और कटघरे में है मीडिया. हम तो मात्र एक मंच हैं और मीडिया पर अपनी निगाह जमायें हैं, जहाँ भी मीडिया में कुछ गलत होता दिखाई देता है उसे हम आपके सामने रख देते हैं और चलाते हैं मुकद्दमा. जिसपर सुनवाई करते हैं आप, जहाँ न्याय करते हैं आप. जी हाँ, यह एक अलग किस्म का दरबार है. मीडिया दरबार...

Social networks

Most popular categories

© 2014 All rights reserved.