Loading...
You are here:  Home  >  राजनीति  >  Current Article

जिस गंदगी को गाली दी, उसी में जा गिरे रामदेव

By   /  August 18, 2012  /  102 Comments

    Print       Email
इस खबर को अपने मित्रों से साझा करें..

करीब डेढ़ साल पहले 25 फरवरी 2011 को अनेक न्यूज पोर्टल पर अपने एक आलेख में मैने आशंका जाहिर की थी कि कहीं खुद की चाल भी न भूल जाएं। आखिर वही हुआ, जिस गंदगी को वे पानी पी पी कर गालियां दे रहे थे, आखिर उसी गंदगी में जा कर गिरे।
बेशक हमारे लोकतांत्रिक देश में किसी भी विषय पर किसी को भी विचार रखने की आजादी है। इस लिहाज से बाबा रामदेव को भी पूरा अधिकार है। विशेष रूप से देश हित में काले धन और भ्रष्टाचार के खिलाफ बोलना और उसके प्रति जनता में जागृति भी स्वागत योग्य है। इसी वजह से कुछ लोग तो शुरुआत में ही बाबा में जयप्रकाश नारायण तक के दर्शन करने लगे थे। अब तो करेंगे ही, क्योंकि बाबा अब उसी राह पर चल पड़े हैं। जयप्रकाश नारायण ने भी व्यवस्था परिवर्तन के नाम पर कांग्रेस सरकार के खिलाफ मुहिम छेड़ी। मुहिम इस अर्थ में कामयाब भी रही कि कांग्रेस सरकार उखड़ गई, मगर व्यवस्था जस की तस ही रही। उस मुहिम की परिणति में जो जनता पार्टी बनी, उसका हश्र क्या हुआ, किसी से छिपा हुआ नहीं है।

बाबा पहले तो बार बार यही कहते रहे कि उनकी किसी दल विशेष से कोई दुश्मनी नहीं है, मगर आखिर कांग्रेस मात्र के खिलाफ बिगुल बजाने के साथ ही उनका एजेंडा साफ हो गया है। बाबा का अभियान देश प्रेम से निकल कर कांग्रेस विरोध तक सिकुड़ कर रह गया है। इसे यूं भी कह सकते हैं कि बाबा का अभियान एनडीए की रामदेव लीला बन कर रह गया है। पिछले साल रामलीला मैदान में संपन्न हुई रणछोड़ लीला के बाद साख की जो शेष पूंजी बची थी, वो 13 अगस्त को रामलीला मैदान में कांग्रेस विरोध के नाम पर एनडीए के हाथों लुट गयी।

ऐसा नहीं कि हमारे देश में आध्यात्मिक व धर्म गुरू राजतंत्र के जमाने से राजनीति में शुचिता पर नहीं बोलते थे। वे तो राजाओं को दिशा देने तक का पूरा दायित्व निभाते रहे हैं। हालांकि बाबा रामदेव कोई धर्म गुरू नहीं, मात्र योग शिक्षक हैं, मगर जीवन चर्या और वेशभूषा की वजह से अनेक लोग उनमें भी धर्म गुरू के दर्शन करते रहे हैं। लाखों लोगों की उनमें व्यक्तिगत निष्ठा है। उनके शिष्य मानें या न मानें, मगर यह कड़वा सच है कि राजनीतिक क्षेत्र में अतिक्रमण करते हुए जिस प्रकार आग उगलते हैं, जिस प्रकार अकेली कांगे्रस के खिलाफ निम्न स्तरीय भाषा का उपयोग करते हैं, उससे उनकी छवि तो प्रभावित हुई ही है। उनकी मुहिम कितनी कामयाब होगी, ये तो वक्त ही बताएगा, मगर मगर योग गुरू के रूप में उन्होंने जो अंतरराष्ट्रीय ख्याति व प्रतिष्ठा अर्जित की है, उस पर आई आंच को वे बचा नहीं पाएंगे। असल में गुरु तुल्य कोई शख्स राजनीति का मार्गदर्शन करे तब तक तो उचित ही प्रतीत होता है, किंतु अगर वह स्वयं ही राजनीति में कूद पड़ता है तो फिर कितनी भी कोशिश करे, काजल की कोठरी में काला दाग लगना अवश्यंभावी है।

यह सर्वविदित ही है कि जब वे केवल योग की बात करते हैं तो उसमें कोई विवाद नहीं करता, लेकिन भगवा वस्त्रों के प्रति आम आदमी की श्रद्धा का नाजायज फायदा उठाते हुए राजनीतिक टीका-टिप्पणी की तो उन्हें भी दिग्विजय सिंह जैसे शातिर राजनीतिज्ञों की घटिया टिप्पणियों का सामना करना पड़ा। तब बाबा के शिष्यों को बहुत बुरा लगता था। भला ऐसा कैसे हो सकता था कि केवल वे ही हमला करते रहते। हालांकि शुरू में वे यह रट लगाए रहते थे कि उनकी कांग्रेस से कोई दुश्मनी नहीं है, मगर काले धन के बारे में बोलते हुए गाहे-बगाहे नेहरू-गांधी परिवार को ही निशाना बनाते रहे। शनै: शनै: उनकी भाषा भी कटु होती गई, जिसमें दंभ साफ नजर आता था।

रहा सवाल जिस कालेधन की वे बात करते हैं, क्या वे उस काले धन की वजह से ही आज वे सरकार पर हमला बोलने की हैसियत में नहीं आ गए हैं। हालांकि यह सही है कि अकूत संपत्तियां बाबा रामदेव के नाम पर अथवा निजी नहीं हैं, मगर चंद वर्षों में ही उनकी सालाना आमदनी 400 करोड़ रुपए तक पहुंचने का तथ्य चौंकाने वाला ही है। कुछ टीवी चैनलों में भी बाबा की भागीदारी है। बाबा के पास स्कॉटलैंड में दो मिलियन पौंड की कीमत का एक टापू भी बताया जाता है, हालांकि उनका कहना है वह किसी दानदाता दंपत्ति ने उन्हें भेंट किया है। भले ही बाबा ने खुद के नाम पर एक भी पैसा नहीं किया हो, मगर इतनी अपार धन संपदा ईमानदारों की आमदनी से तो आई हुई नहीं मानी जा सकती। निश्चित रूप से इसमें काले धन का योगदान है। इस लिहाज से पूंजीवाद का विरोध करने वाले बाबा खुद भी परोक्ष रूप से पूंजीपति हो गए हैं। और इसी पूंजी के दम पर वे अब खम ठोक कर कह रहे हैं कि कांगे्रस को उखाड़ कर नई सरकार बनाएंगे।

ऐसा प्रतीत होता है कि योग और स्वास्थ्य की प्रभावी शिक्षा के कारण करोड़ों लोगों के उनके अनुयायी बनने से बाबा भ्रम में पड़ गए हैं। उन्हें ऐसा लगने लगा है कि आगामी चुनाव में जब वे खुल कर भाजपा सहित कुछ पार्टियों के प्रत्याशियों को समर्थन देंगे तो वे सभी अनुयायी उनके कहे अनुसार मतदान करेंगे। योग के मामले में भले ही लोग राजनीतिक विचारधारा का परित्याग कर सहज भाव से उनके इर्द-गिर्द जमा हैं, लेकिन जैसे ही वे सक्रिय राजनीति का चोला धारण करेंगे, लोगों का रवैया भी बदल जाएगा।

जहां तक देश के मौजूदा राजनीतिक हालात का सवाल है, उसमें शुचिता, ईमानदारी व पारदर्शिता की बातें लगती तो रुचिकर हैं, मगर उससे कोई बड़ा बदलाव आ जाएगा, इस बात की संभावना कम ही है। ऐसा नहीं कि वे ऐसा प्रयास करने वाले पहले संत है, उनसे पहले करपात्रीजी महाराज और जयगुरुदेव ने भी अलख जगाने की पूरी कोशिश की, मगर उनका क्या हश्र हुआ, यह किसी ने छिपा हुआ नहीं है।  इसी प्रकार राजनीति में आने से पहले स्वामी चिन्मयानंद, रामविलास वेदांती, योगी आदित्यनाथ, साध्वी ऋतंभरा और सतपाल महाराज के प्रति कितनी आस्था थी, मगर अब उनमें लोगों की कितनी श्रद्धा है, यह भी सब जानते हैं। कहीं ऐसा न हो कि बाबा रामदेव भी न तो पूरे राजनीतिज्ञ हो पाएं और न ही योग गुरू जैसे ऊंचे आसन की गरिमा कायम रख पाएं।

कुल मिला कर यह बेहद अफसोस की बात है कि जनभावनाओं के अनुरूप पिछले एक डेढ़ साल में राजनीतिक दलों के खिलाफ दो बड़े आंदोलन पैदा हुए लेकिन अन्ना का आंदोलन राजनीतिक दल बनाने की घोषणा के साथा खत्म हो गया तो बाबा रामदेव का गैर कांग्रेसी राजनीतिक दलों का समर्थन लेकर व उनका समर्थन करने की घोषणा के साथ समाप्त हो गया।
-तेजवानी गिरधर

Facebook Comments

इस खबर को अपने मित्रों से साझा करें..
    Print       Email

About the author

अजमेर निवासी लेखक तेजवानी गिरधर दैनिक भास्कर में सिटी चीफ सहित अनेक दैनिक समाचार पत्रों में संपादकीय प्रभारी व संपादक रहे हैं। राजस्थान श्रमजीवी पत्रकार संघ के प्रदेश सचिव व जर्नलिस्ट एसोसिएशन ऑफ राजस्थान के अजमेर जिला अध्यक्ष रह चुके हैं। अजमेर के इतिहास पर उनका एक ग्रंथ प्रकाशित हो चुका है। वर्तमान में अपना स्थानीय न्यूज वेब पोर्टल संचालित करने के अतिरिक्त नियमित ब्लॉग लेखन भी कर रहे हैं।

102 Comments

  1. ऐसा नहीं कि हमारे देश में आध्यात्मिक व धर्म गुरू राजतंत्र के जमाने से राजनीति में शुचिता पर नहीं बोलते थे। वे तो राजाओं को दिशा देने तक का पूरा दायित्व निभाते रहे हैं। हालांकि बाबा रामदेव कोई धर्म गुरू नहीं, मात्र योग शिक्षक हैं, मगर जीवन चर्या और वेशभूषा की वजह से अनेक लोग उनमें भी धर्म गुरू के दर्शन करते रहे हैं।

    Read more: http://mediadarbar.com/10782/ramdeo-falls-in-the-garbage-wich-he-cursed/#ixzz2izpvVeYx

  2. ऐसा नहीं कि हमारे देश में आध्यात्मिक व धर्म गुरू राजतंत्र के जमाने से राजनीति में शुचिता पर नहीं बोलते थे। वे तो राजाओं को दिशा देने तक का पूरा दायित्व निभाते रहे हैं। हालांकि बाबा रामदेव कोई धर्म गुरू नहीं, मात्र योग शिक्षक हैं, मगर जीवन चर्या और वेशभूषा की वजह से अनेक लोग उनमें भी धर्म गुरू के दर्शन करते रहे हैं।

    Read more: http://mediadarbar.com/10782/ramdeo-falls-in-the-garbage-wich-he-cursed/#ixzz2izpvVeYx

  3. fardin khan says:

    तेरी बुद्धि और सोच पर कितने लोग थूक रहे हें इसका अंदाजा तो तुझे हो गया होगा अब. अनुलोम बिलों कर बुद्धि ठीक हो जाएगी ये मेरा आशीर्वाद है बालक खुश रहो खुशहाल रहो , जियो और जीने दो , जो नेक कार्य कर रहे हें उनका साथ नहीं दे सकते तो कम से कम जनता को इसे लेख लिख कर भर्मित न करो, इसी में तुम्हारा उद्धार है ,

  4. jitni speed se ham log kaam kar rahe hain utni speed se yes congress ke dalaal active ho rahe hain.

  5. jitni speed se ham log kaam kar rahe hain utni speed se yes congress ke dalaal active ho rahe hain.

  6. पंकज जोशी says:

    kya kya chura liya tere ghar se ye bhi bata de

  7. पंकज जोशी says:

    kya kya chura liya tere ghar se ye bhi bata de

  8. आप स्वामी रामदेव के बारे में लिखने की बजाये देश की समस्याओ को लिखे ताकि उन को सुधार जा सके.

  9. आप स्वामी रामदेव के बारे में लिखने की बजाये देश की समस्याओ को लिखे ताकि उन को सुधार जा सके.

  10. भाई लोगो आप अपनी अपनी नजरो से बताये की देश में कोन कोन सी समस्या ये है जैसे…..
    1. गरीबी 2. बेरोजगारी 3.अशिक्षा 4. महगाई 5.आंतकवाद ,हिंसा ,अपराध ,लुट, अपरहण 6. नक्सलवाद 7.भ्रष्टाचार 8. जमाखोरी 9.कालाधन10. कुपोषण11.महिला उत्पीडन ,देह व्यापार ,भूर्ण हत्या , बलात्कार दहेज पर्था 12..न्याय में देरी व् मंहगा 13.पाकिस्तान 14.चीन 15.नकली करेंसी 16.घुश्पैठ17. नशाखोरी, व्यसन 18. नकली व मिलावट 19. चरित्र का पतन 20. मुस्लिम तुष्टिकरण 21.इन्फ्रास्ट्रक्चर 22. बुनियादी सुविधाए जल बिजली 23 गाँव की बर्बादी 24 माइनिंग.
    आप लोगो से अपील है की आप उनका नाम लिखे ताकि हर पार्टी से पूछा जा सके की आप ने एस पर क्या काम किया है क्या आपकी विचार धारा है यदि कही काम किया है तो उसका साबुत है क्या आपके पास.

  11. भाई लोगो आप अपनी अपनी नजरो से बताये की देश में कोन कोन सी समस्या ये है जैसे…..
    1. गरीबी 2. बेरोजगारी 3.अशिक्षा 4. महगाई 5.आंतकवाद ,हिंसा ,अपराध ,लुट, अपरहण 6. नक्सलवाद 7.भ्रष्टाचार 8. जमाखोरी 9.कालाधन10. कुपोषण11.महिला उत्पीडन ,देह व्यापार ,भूर्ण हत्या , बलात्कार दहेज पर्था 12..न्याय में देरी व् मंहगा 13.पाकिस्तान 14.चीन 15.नकली करेंसी 16.घुश्पैठ17. नशाखोरी, व्यसन 18. नकली व मिलावट 19. चरित्र का पतन 20. मुस्लिम तुष्टिकरण 21.इन्फ्रास्ट्रक्चर 22. बुनियादी सुविधाए जल बिजली 23 गाँव की बर्बादी 24 माइनिंग.
    आप लोगो से अपील है की आप उनका नाम लिखे ताकि हर पार्टी से पूछा जा सके की आप ने एस पर क्या काम किया है क्या आपकी विचार धारा है यदि कही काम किया है तो उसका साबुत है क्या आपके पास.

  12. baba ramdev chor hai sala.

  13. baba ramdev chor hai sala.

  14. Manish Soni says:

    100 crod ke tukde milne par yahi lekh nikal ke samne aata ge.

  15. Manish Soni says:

    100 crod ke tukde milne par yahi lekh nikal ke samne aata ge.

  16. पंकज जोशी says:

    सूर्यनल्ली बलात्कार मामले में पी जे कुरियन के ऊपर तो कोई कार्यवाही नहीं हुई लेकिन फेसबुक पर उनके ऊपर कमेन्ट करने वाले की गिरफ्तारी और उस कमेन्ट को शेयर करने वाले 110 लोगों के खिलाफ भी रिपोर्ट दर्ज़ हो गयी है……. काटजू पकिस्तान के अखबार में मोदी के ऊपर लेख लिखें तो , वो तो अपनी अभिव्यक्ति की स्वतन्त्रता का इस्तेमाल कर रहे हैं,चाहे उससे आपके देश की छवि खराब होती हो,लेकिन सोशल मीडिया पर किसी मुलजिम बनायेगये नेता के खिलाफ आप कुछ नही कह सकते , अभी तक तो मुख्यमंत्री , राजनीतिक दलों के मुखिया के लिए कुछ कहने पर ही मानहानि होती थी अब तो विधानसभा के उप सभापति जिसके ऊपर ऐसासंगीन जुर्म का केस दर्ज़ करवाया गया हो उसके खिलाफ भी आप कुछ नही कह सकते……… मुबारक हो , हम दुनिया के सबसे बड़े लोकतन्त्र में रह रहेहैं ,जहाँ गड्ढा खोद के गिराने की साजिश करने वाले को नही बल्कि गड्ढे में गिरने वाले को सजा मिलती है है कि नहीं.

  17. पंकज जोशी says:

    सूर्यनल्ली बलात्कार मामले में पी जे कुरियन के ऊपर तो कोई कार्यवाही नहीं हुई लेकिन फेसबुक पर उनके ऊपर कमेन्ट करने वाले की गिरफ्तारी और उस कमेन्ट को शेयर करने वाले 110 लोगों के खिलाफ भी रिपोर्ट दर्ज़ हो गयी है……. काटजू पकिस्तान के अखबार में मोदी के ऊपर लेख लिखें तो , वो तो अपनी अभिव्यक्ति की स्वतन्त्रता का इस्तेमाल कर रहे हैं,चाहे उससे आपके देश की छवि खराब होती हो,लेकिन सोशल मीडिया पर किसी मुलजिम बनायेगये नेता के खिलाफ आप कुछ नही कह सकते , अभी तक तो मुख्यमंत्री , राजनीतिक दलों के मुखिया के लिए कुछ कहने पर ही मानहानि होती थी अब तो विधानसभा के उप सभापति जिसके ऊपर ऐसासंगीन जुर्म का केस दर्ज़ करवाया गया हो उसके खिलाफ भी आप कुछ नही कह सकते……… मुबारक हो , हम दुनिया के सबसे बड़े लोकतन्त्र में रह रहेहैं ,जहाँ गड्ढा खोद के गिराने की साजिश करने वाले को नही बल्कि गड्ढे में गिरने वाले को सजा मिलती है है कि नहीं.

  18. बाबा रामदेव जो ने बिलकुल सही किया है, मिर्ची किसको लग रही है और क्यों लग रही है ना तो ये पूछने वाली बात है और ना बताने वाली, घर बैठे बैठे समाचार पढ़कर राजनैतिक विश्लेषक बनना कोई बड़ी बात नहीं|.

    जमीन पर उतर कर देखिये, हालात क्या हो चुके हैं, आंदोलनों का क्या हश्र हो रहा है ये भी देखिये……. कोई अनशन करे तो करे.मरे तो मरे…….सरकार मुह फेर लेती है | क्योंकि उनको वोट देने का काम तो विशेष वोट बैंक ने ले रखा है..अब तो विदेशी भी शिरकत करने लगे हैं…………………तो परवाह किसे है की कोई मरे या जिए |.

    और हाँ ऐसे दो कौड़ी के लेख लिखना बंद करिए…बेकार हमार भी समय खराब होता है |…………. आशा है अमल करेंगे |.

  19. बाबा रामदेव जो ने बिलकुल सही किया है, मिर्ची किसको लग रही है और क्यों लग रही है ना तो ये पूछने वाली बात है और ना बताने वाली, घर बैठे बैठे समाचार पढ़कर राजनैतिक विश्लेषक बनना कोई बड़ी बात नहीं|.

    जमीन पर उतर कर देखिये, हालात क्या हो चुके हैं, आंदोलनों का क्या हश्र हो रहा है ये भी देखिये……. कोई अनशन करे तो करे.मरे तो मरे…….सरकार मुह फेर लेती है | क्योंकि उनको वोट देने का काम तो विशेष वोट बैंक ने ले रखा है..अब तो विदेशी भी शिरकत करने लगे हैं…………………तो परवाह किसे है की कोई मरे या जिए |.

    और हाँ ऐसे दो कौड़ी के लेख लिखना बंद करिए…बेकार हमार भी समय खराब होता है |…………. आशा है अमल करेंगे |.

  20. bAbA rAmdEv bilkUl sahi kar rhe h

  21. bAbA rAmdEv bilkUl sahi kar rhe h

  22. राकेश गोस्वामी says:

    aap kisi ko gaali mat do aap apnaa kaam karo waise bhi kuch logo ki shakl or naam mel nahi khaataa

  23. राकेश गोस्वामी says:

    aap kisi ko gaali mat do aap apnaa kaam karo waise bhi kuch logo ki shakl or naam mel nahi khaataa

  24. Sunil Shukla says:

    its just your opinion, worst article.

  25. Narayan Sarswat says:

    baba shirf bhratachar ke khilaf hi bolte hai, our jo neharu pariwar ke khilaf bolne ki bat to aisa hai koi galat kam karta hai to usake khilaf to bolna hi padega na….desh ko pichhale 9 salo me ghotalo se khub loota gaya our wo shirf khangress ke sasankal me hi loota gaya,….gahe bagahe aise lekh likh kar khangress ko bachane ya chhupane ki kausis ho rahi hai…..desh ko bahut hi gumrah kiya gaya hai..pichhale 65 salo se bahut hi loota gaya our tustikarn our vote bank ke liye dharam, jati, samuday, ko pseudosecular ka durupyaog kiya……..ab baba ya koi our sachi bat kahe to desh ke liye to achhi bat hai….rahi bat nakali gandhi family ki to wo apani stithi sapast kyo nahi karati.

  26. Narayan Sarswat says:

    baba shirf bhratachar ke khilaf hi bolte hai, our jo neharu pariwar ke khilaf bolne ki bat to aisa hai koi galat kam karta hai to usake khilaf to bolna hi padega na….desh ko pichhale 9 salo me ghotalo se khub loota gaya our wo shirf khangress ke sasankal me hi loota gaya,….gahe bagahe aise lekh likh kar khangress ko bachane ya chhupane ki kausis ho rahi hai…..desh ko bahut hi gumrah kiya gaya hai..pichhale 65 salo se bahut hi loota gaya our tustikarn our vote bank ke liye dharam, jati, samuday, ko pseudosecular ka durupyaog kiya……..ab baba ya koi our sachi bat kahe to desh ke liye to achhi bat hai….rahi bat nakali gandhi family ki to wo apani stithi sapast kyo nahi karati.

  27. Anil Arora says:

    राजनीति में धर्म मतलब ==== राष्ट्रवाद……
    धर्मं में राजनीति मतलब………..अधर्म ( कांग्रेस)…..

  28. Anil Arora says:

    राजनीति में धर्म मतलब ==== राष्ट्रवाद……
    धर्मं में राजनीति मतलब………..अधर्म ( कांग्रेस)…..

  29. राकेश गोस्वामी says:

    himaachal ke bure din ab shuroo ho gaye hai…….

  30. राकेश गोस्वामी says:

    himaachal ke bure din ab shuroo ho gaye hai…….

  31. राकेश गोस्वामी says:

    congresi suroo se hi nihaayat chutiyaa kism ke log hai………..

  32. राकेश गोस्वामी says:

    congresi suroo se hi nihaayat chutiyaa kism ke log hai………..

  33. राकेश गोस्वामी says:

    jo hindu nahi hai……wo use hindustaan or hindustaaniyo ke baare main bolne kaa koi adhikaar nahi hai…………..

  34. DRalok Garg says:

    fuddu log he aise baaten karte hain.saale mcd bikaau porngress vanshaj.

  35. Wo kese or nityanand ne samman kiya hoga bhagva chole ka niji swarth me vykti itna andha ho sakta hia wahi apke vichaorn se partit ho raha hia

  36. sant ke bhagwa chole ko inhone badnam kar diya hai.

  37. prakash says:

    क्या कांग्रेसी इतने बेवकुफ हैं ???? वो नहीं जानते उनका नेहरू लम्पट था ,,,इंदिरा के भी तीन-तीन अफैर थे ??? उसके बेटे भी दिल फेंक आशिक थे ????? और उसका पोता तो उनसे भी दो कदम आगे बलात्कारी भी है …..दलाल मीडीया को हड्डिया चटाने से सच्चाई छुप सकती है क्या ????

    क्या आपने बंदर की पूँछ पर पैर रक्खा है कभी ????? गलती से मैंने एक बार रख दिया था अम्बाजी गब्बर पर दर्शन के लिए गया था तब।।।
    और फिर मेरी जो वाट लगी थी,,,, सारे बंदरो का नंगा नाच देखा था मैंने उस दिन यह तो पब्लिक की वजह से मै बच गया था उस दिन.

    ठीक इसी तरह बाबा रामदेव जी ने सोनिया को वैटर कह कर कांग्रेस्सियों की पूँछ पर पैर पछाड़ा है उसके बाद शुरू हुए कांग्रेशियो के करतब और हाउ हाउ ..खी ,,खी,,,,,सुनकर मुझे वोह बन्दर याद आ रहे है ,,,,,

    उन भोले बंदरो को शायद पता नहीं होगा की बाबा रामदेव जी जो कहते है डंके कि चोट पर कहते हैं ,,,बिना सबूत के नहीं कहते ,,,,तुम्हारी मालकिन वैटरेस थी ,,,वो 100% नंगा सत्य है ,,,,तुम्हारी अनपढ़ मालकिन केम्ब्रिज शहर के वर्सिटी रेस्तोरां में वेट्रेस थी और हमारे लम्पट नेहरू के दोहित्र राजीव उस वक़्त वहा पढ़ने गए थे और उसी रेस्तोरा में अपने नाना के संस्कारो को दोहराते हुए एक वेट्रेस के इश्क में पड़ गए थे ,,,,वो तो साला इश्क में डूबा मगर ,,,,सारे देश को भी ,,,ले डूबा ,,,,,,

    नीचे जो फोटो है उसमे ऊपर ब्लू कलर की लिंक है उसे टाइप कर के इस सच्चाई को पूरी पढ़ सकते हैं

    क्या सौ करोड़ की जनता की डोर एक वेट्रेस के हाथ में सोंप कर हमारी नाक कटवाना चाहते हो आप ?????

    या नरेन्द्र मोदी जैसे हिंदुस्तानी शेर के सर पर ताज रख कर एक सुनहरा भारत बनाना चाहते हो ???? जवाब दो

    एक ही विकल्प मोदी ,,,,विक्रम बारोट …वन्दे मातरम

    • इन अपशब्दों के लिए आपका शुक्रिया, जैसे संस्कार होंगे और जैसी सोच होगी वैसा ही तो आदमी लिखेगा

  38. क्या कांग्रेसी इतने बेवकुफ हैं? वो नहीं जानते उनका नेहरू लम्पट था ,,,इंदिरा के भी तीन-तीन अफैर थे? उसके बेटे भी दिल फेंक आशिक थे? और उसका पोता तो उनसे भी दो कदम आगे बलात्कारी भी है…..दलाल मीडीया को हड्डिया चटाने से सच्चाई छुप सकती है क्या?

    क्या आपने बंदर की पूँछ पर पैर रक्खा है कभी? गलती से मैंने एक बार रख दिया था अम्बाजी गब्बर पर दर्शन के लिए गया था तब।।।.
    और फिर मेरी जो वाट लगी थी,,,, सारे बंदरो का नंगा नाच देखा था मैंने उस दिन यह तो पब्लिक की वजह से मै बच गया था उस दिन.

    ठीक इसी तरह बाबा रामदेव जी ने सोनिया को वैटर कह कर कांग्रेस्सियों की पूँछ पर पैर पछाड़ा है उसके बाद शुरू हुए कांग्रेशियो के करतब और हाउ हाउ..खी ,,खी,,,,,सुनकर मुझे वोह बन्दर याद आ रहे है ,,,,,

    उन भोले बंदरो को शायद पता नहीं होगा की बाबा रामदेव जी जो कहते है डंके कि चोट पर कहते हैं ,,,बिना सबूत के नहीं कहते ,,,,तुम्हारी मालकिन वैटरेस थी ,,,वो 100% नंगा सत्य है ,,,,तुम्हारी अनपढ़ मालकिन केम्ब्रिज शहर के वर्सिटी रेस्तोरां में वेट्रेस थी और हमारे लम्पट नेहरू के दोहित्र राजीव उस वक़्त वहा पढ़ने गए थे और उसी रेस्तोरा में अपने नाना के संस्कारो को दोहराते हुए एक वेट्रेस के इश्क में पड़ गए थे ,,,,वो तो साला इश्क में डूबा मगर ,,,,सारे देश को भी ,,,ले डूबा ,,,,,,

    नीचे जो फोटो है उसमे ऊपर ब्लू कलर की लिंक है उसे टाइप कर के इस सच्चाई को पूरी पढ़ सकते हैं.

    क्या सौ करोड़ की जनता की डोर एक वेट्रेस के हाथ में सोंप कर हमारी नाक कटवाना चाहते हो आप?

    या नरेन्द्र मोदी जैसे हिंदुस्तानी शेर के सर पर ताज रख कर एक सुनहरा भारत बनाना चाहते हो? जवाब दो

    एक ही विकल्प मोदी ,,,,विक्रम बारोट…वन्दे मातरम.

  39. क्या कांग्रेसी इतने बेवकुफ हैं? वो नहीं जानते उनका नेहरू लम्पट था ,,,इंदिरा के भी तीन-तीन अफैर थे? उसके बेटे भी दिल फेंक आशिक थे? और उसका पोता तो उनसे भी दो कदम आगे बलात्कारी भी है…..दलाल मीडीया को हड्डिया चटाने से सच्चाई छुप सकती है क्या?

    क्या आपने बंदर की पूँछ पर पैर रक्खा है कभी? गलती से मैंने एक बार रख दिया था अम्बाजी गब्बर पर दर्शन के लिए गया था तब।।।.
    और फिर मेरी जो वाट लगी थी,,,, सारे बंदरो का नंगा नाच देखा था मैंने उस दिन यह तो पब्लिक की वजह से मै बच गया था उस दिन.

    ठीक इसी तरह बाबा रामदेव जी ने सोनिया को वैटर कह कर कांग्रेस्सियों की पूँछ पर पैर पछाड़ा है उसके बाद शुरू हुए कांग्रेशियो के करतब और हाउ हाउ..खी ,,खी,,,,,सुनकर मुझे वोह बन्दर याद आ रहे है ,,,,

  40. Tejwani Girdhar isse adhik soch congressi me ho hi nahis kati hai

  41. Tejwani Girdhar apni man ko hi gaali de rahe ho tum bharat mata ke ek desh bhakt sant ka apmaan kar ke apke liye mata sonia hai itlaiyan to or baat hia

  42. doggi raja ne ghar bhar diya hoga iska

  43. congress ke kisi chamche ki soch ho tum

  44. Tejwani Girdhar mujhe aap bharst congress ki ek or gandi soch vykt karne vaale digvijay ke sishy lagte hen Aap

  45. Vikas Sharma chutiyon or murkhon ki pahchan hen aap

  46. jone says:

    कोई हरामी मेरी पोस्ट डिलीट कर रहा है

  47. sonia aryaa says:

    इस देश में केवल एक ही साधू सन्यासी ऐसा है जिसने इस देश के स्वाभिमान और पुराना गौरव वापस लाने के लिए आपनी जान दाव पे लगा दिया है …परम पूज्य स्वामी बाबा रामदेव जी आपना सब कुच दाव पे लगा के बस इस कोसिस में लागे हैं हिंदुस्तान का खोया स्वाभिमान फिर वापस मिले और ये देश फिर से विश्व गुरु कहलाये

    भारत में रोजाना भूख, गरीबी , कुपोषण से मरने वालों की संख्या 2000 से ऊपर है …और एक सन्यासी स्वामी रामदेव जी महाराज ने पतंजलि योगपीठ में ये घोषणा कर रखी है की हम हर रोज़ 1 लाख व्यक्तियों के भोजन की व्यवस्था कर सकते हैं वर्तमान में 2000 से ऊपर लोग रोजाना सन्त रविदास लँगर भवन में भोजन ग्रहण करते हैं और ये 100 % सत्य बात है आप खुद भी जा कर देख सकते हैं … सन्त रविदास लँगर भवन में स्वामी रामदेव जी ने ये सुविधा कर रखी है …उसके अलावा बाल्मिकी धर्मशाला जिसमे की आप 3 रात 2 दिन निशुल्क रह सकते हैं … और अनेकों प्रकार की सुविधायें गरीबों के लिए कर रखी है … और आज स्वामी रामदेव जी को लोगबाग उल्टा सीधा बोलते हैं … मीडिया द्वारा पूछे गए उलटे सीधे सवालों के जवाब देते हैं …और ये उनकी दिनचर्या में शामिल है …

    एक सन्त जिसे 200 से ज्यादा देशों ने सम्मान दिया और जिस सन्यासी ने विश्व पटल पर भारत की ऋषि परम्परा योग , आयुर्वेद को बढ़ावा दे कर पूरे विश्व में भारत का झण्डा गाड़ा जिसे कोई हिला नहीं सकता … और आज भी स्वामी रामदेव जी महाराज रोज़ सुबह 3 बजे उठ कर निरन्तर मेहनत करते हैं अपना जीवन राष्ट्र को अर्पित करते हैं … उसके बाद उनका रात को आराम करने समय 10 से 11 बजे है फिर वो सुबह जल्दी उठ कर योग , प्राणायाम करवाते हैं ! उसके बाद स्वामी जी विदेशों में जमा काले धन को लाने के लिए जन जन को बताते हैं , भ्रष्टाचार , भ्रष्ट व्यवस्था के खिलाफ खड़े होने के लिए प्रेरित करते हैं ! घण्टों घण्टों लगातार बोलते हैं … किसके लिए ?

    स्वामी रामदेव जी ने तो अपनी मासिक पत्रिका में भी ये लिख दिया है की में 4 जून 2011 की रात के घटना जो की मुझे जान से मारने की एक साजिश थी उस घटना के बाद से में अपनी लाइफ को बोनस लाइफ समझता हूँ और अपनी जिन्दगी को ईश्वर द्वारा बचायी गयी जिन्दगी समझ कर जी रहा हूँ…और जीता रहूँगा …

    शायद आप को पता नहीं होगा की स्वामी रामदेव जी ने 15 सालों से अन्नं ग्रहण नहीं किया वो सिर्फ दूध , फल -सब्जियों और उबले खाना ही अपनी दिनचर्या में ग्रहण करते हैं आप खुद देख सकते हैं और स्वामी रामदेव जी (भारत माता की पवित्र गोद ,भूमि ) जमीन पर ही सोते हैं भारत के अन्तिम व्यक्ति को जीते हैं …कोई लालच नहीं कोई स्वार्थ नहीं .. भारत के 11 करोड़ लोगों को स्वामी रामदेव जी ने प्रत्यक्ष रूप से योग,प्राणायाम सिखाया है भारतीय संस्कृति ऋषि परम्परा और भ्रष्ट तन्त्र से लड़ने के बारे में बताया है और अभी भी बता रहे हैं जनजागरण कर रहे हैं … स्वामी रामदेव जी अपनी जन जागरण की यात्रा में लगभग 11 लाख किलोमीटर की यात्रा कर चुके हैं और विश्व की सबसे ज्यादा सफल सभाएँ करने वाला संगठन भी भारत स्वाभिमान ही है वो भी स्वामी रामदेव जी की नेतृत्व में आज भी स्वामी रामदेव जी तप कर रहे हैं पल पल मानवता की भलाई के लिए कार्य कर रहे हैं … भारत के अन्तिम व्यक्ति को सामाजिक , आर्थिक और आध्यात्मिक न्याय दिलाने के लिए लड़ रहे हैं और लड़ते रहेंगें स्वामी रामदेव जी ने ये घोषणा भी कर दी है की अगर मुझे इस राष्ट्रयज्ञ में भारत माता को लुटने से बचाने के लिए अपने प्राणों की आहुति भी देनी पड़ी तो सबसे पहले सबसे आगे आ कर अपने प्राणों की आहुति दूँगा !

    जागो भारतियों जागो एक सच्चे सन्यासी के पुरुषार्थ को पहचानों … ये सन्यासी भारत माता को और आप को लुटने से बचाने आप सभी का मार्ग दर्शन बन कर आया है अगर अभी भी नहीं जागे तो फिर कभी नहीं

  48. ritu says:

    सोनिया केसे सबसे अमीर महिला बनी ये भी बता तो महान भर्स्ट कांर्गेस के गुर्गे महाराज

  49. rom says:

    धूर्त मकार खान्र्गेसिस की पहचान है तू बेशर्म इन्शान भार्स्ताचार की पैदाईश

  50. jone says:

    भर्स्ट कांग्रेस की सोच बखूबी पेस की है अपने जो हराम का खाते हें वो कांग्रेस का गुण गाते हें बीके हुए नीच धूर्त मकार लोग इस तरह की सोच पाले हें आज जिन्हें कांग्रेस का दुराचार व्यभिचार और भार्स्ताचार नहीं दीखता दिखा है सिर्फ बाबा . अक बार अपनी कुमाता सोनिया के बारमें भी लिखो वो केसे आज विश्व की ३ नो की अमीर राजनेता बनी है राजीव गाँधी जहाज उडाता था जीविका के लिए और क्या ये दहेज़ में लायी ये पेस इटली से और इस सोनिया की आमदनी पर एक लेख लिखो दम है या तो कल ही जेल में ठोक दिए जाओगे दिग्विजय जेसे लोग तुमसे खुश होकर जरुर कुछ ईमान देंगे , बाबा के खिलाफ लिखना आसान हिया एक बात और बाबा ही हिम्मत कर सकता है भार्स्ताचारी सरकार से लड़ने का क्यों की वह इमानदार है बेइमान नहीं आपकी तरह, बीका नहीं वो अगर बिक जाता तो आज राष्ट्रपति होता देश का ,

  51. mangelal jangir says:

    aane wali srkar ke liye to kongres ne etna ghara ghda khod diya ha usko bhrne me hi das sal lag jayege jnab or rhi bat ramdev ki to dost ye sochye ki yese log bhut kam hi janm lete ha jisme etna sahs ho hindustan ne hmesa yehi galti ki ha abto yesi galti mat kro

  52. भाई साहब, वो दिन गई जब पत्रकार किसी के खिलाफ कुछ भी लिख कर जबाबदेही से बच जाते थे॥ आज के जमाने मे बड़े बड़े पतरकरो को भी उनके लिखे का जबाब सुनना पड़ता है॥क्योकि इंटरनेट मीडिया मे हर पत्रकार को उसके लिखे लेखो पर लॉजिकल जबाब देना पड़ता है॥एक बेहतर विडियो दे रहा हु बाबा का॥उसकी देखिये , ये शायद आपकी समझ को थोड़ा बदले॥ http://www.youtube.com/watch?v=KDLe9FlVQBc&feature=em-uploademail

  53. बाबा रामदेव ने जिस गंदगी का विरोध किया है वो सोनिया गंदगी ही है॥अब आप कहते है की बाबा उसी गंदगी मे गिर गाये है॥मैंने तो सोनिया गांधी मे साथ उनकी कोई सीडी नही देखि और ना ही सुनी॥कोई फोटो शोतों भी हो तो आप जरूर शेयर करिए.

  54. Kishore Kumar Saxena says:

    अगर कला धन देश में वापस आता है तो अच्छा है न क्या आप नहीं चाहते की एक रुपया बराबर हो एक डोलर के ?

    • tejwani girdhar says:

      कैसी बात करते हैं, कौन नहीं चाहेगा, मगर क्या बाबा भगवान है जो जादू से ले आएगा, सब कुछ सामने आ जाएगा, आप भी यहीं हैं और मैं भी यही, बाबा की नई सरकार आएगी तो पता लग जाएगा, हम दोनों जश्न मनाएंगे

  55. ये गाली वैसी ही है, जैसे में आपको मां की गाली दूं महाराज, फिर कैसा लगेगा

  56. बाबा के किसी अंध भक्त की प्रतिक्रिया है

  57. very nice, hona hi chaahiye

  58. क्या आपको भी बाबा ने पैसे दिए हैं

  59. मुझे आप बाबा कं अंध भक्त नजर आते हैं, जिन्हें सही बात सुनना पसंद नहीं ,श्याम आर्य जी महाराज

  60. ये गाली वैसी ही है, जैसे में आपको मां की गाली दूं महाराज, फिर कैसा लगेगा

  61. aapko kyo taklif ho rahi hai

  62. rakesh bharti says:

    बहुत अच्छा लेख है बाबा रामदेओ जैसे लोगो का नकाब तो हटना ही चाहिए

  63. Aapke sampoorn roop se vishleshit lekhon ka main kaayal hota ja raha hoon Tejwaniji.kuchh buddhijeevi log bhi is bhram main jeete hain ki Anna aur Baba Ramdev hi bhrashtachar mita sakte hain, parantu jyaadater log andhvishwas aur andhbhakti main doobe hoker vastvikta ki pehchaan karna hi nahi chaahte, yehi is desh ki vidambna hai.ek prashn sabhi se hai ki-Ramdev ke socalled andolan main Haidwar ke sant samaaj ne kyon bahishkar kiya? media dwara Hardwar main hi survey karwake poochh liya jaye ki is baba ki asliyat kya hai.

  64. Vikas Sharma says:

    विचार विचार हे इसमे कॉंग्रेस ओर बीजेपी का सवाल बीच मे कैसे आ गया,में दोनोही पार्टी की विचारधारा से इतिफाक नही रखता हूँ,कॉंग्रेस ओर बीजेपी बाद मे बने हें,विचार मनुश्य जातके उदगम के साथ पैदा हुए हें,आपने कहा में पूर्वाग्रह रखता हूँ,जो ग़लत हे,मेने वैचारिक मंथन किया हे,क्या आप गाँधी, भ्गतसिंग, या विवेकानंद से कर सकते हें,क्या गाँधीको कॉंग्रेस केवल अपनी, भ्गतसिंग को कम्यूनिस्ट ओर, विवेकानंद कोबीजेपी अपनी बपोदी मान सकते हें,गाँधी के बड़े प्रन्शक लोहिया जी थे जी समाजवादी थे,संत एसी भाषा नही बोलते जैसी रामदेव बोलते हें,दवाओं का बड़ा कारोबार हे रामदेव का,जहाँ तक योगा का सवाल हे, पाँच दिन शरीर नही सधा था रामदेवजी का पिछले मूव्मेंट में,भारत में कितने ही लोग देवी पूजा में ९ दिन निराहार रह लेते हें,में खुद बचपनसे योगा कर लेता हूँ,, में आपसे साथ बेत्केर खुलकर बहस के लिए तैयार हूँ, टाइपिंग में अषुधियाँ हो रही हे

  65. Sunil Kumar says:

    are yaar sonia ne paise diye honge yes likhne wale ko bhi.

  66. Sunil Kumar says:

    bikau media

  67. Shyam Arya says:

    आप से बिल्कुल असहमत हूँ.आप कालिख पुर्वाग्रसित है. राम देव ने तो कांग्रेस को भी आमंत्रित किया था काला धन वापिस लेन के लिए ४ दिन तक कांग्रस का कोई जवाब नहीं आया. काला धन की वापिसी तो कांग्रेस सर्कार ही कर सकती है न की कोई दूसरा दल.परिणाम निशाना तो सत्तारूढ़ दल को ही होना था. बाबा चाणक्य सा कार्य कर रहे है इसमें भा. जा. पा. अगर चन्द्रगुप्त का उतरदायित्व लेती है तो यह राष्ट्र हित में ही होगा.मैंने प्राय: आप के विचरो में सदैव बाबा के प्रति कुंठा ग्रस्त देखा है.

  68. khub paisa mila hoga is lekh se,

  69. tiwari b l says:

    आप के द्वाराजो विवरण आलेख लिखा है मई कुछ भाग से पूरी तरह सहमत हूँ मगर आखिर मई जिस परिणाम की कल्ल्पना आप बनाना चाहते है वो ठीक नहीं लगाती भारत की जनता इएतना तो भालिभ्नती जानती हट की जो प्रशन बाबा के द्वारा काले धन का उठाया है *८०% सर भी अधिक लोग स्वीकार करके ही अपनामत बनायेंगे यी मुद्दा रहेगा ही ओर्र जिस तरह कांग्रेस अपनी निति या बचायो या इएसका जबाब देती फ़िरती है उसे से ये प्रमाणित हो जाता हिया की कालेधन मई सब से अधिक हिस्सा कांग्रेसियों का है इएस बात का किसी को भी जब नहीं चाहिए ये तो है ही बस बाबा का काम होगे सर्कार किसी की भी बने कालाधन भारत मई प्रशन बन चूका है ये बाबा की सफलता है

    • tejwani girdhar says:

      बेशक बाबा व अन्ना से मुद्दा तो बनाया ही है, मगर मेरा आलेख किसी और दिशा की ओर इशारा कर रहा है

      • roshan says:

        आप दिशा तय करने का काम करते हो क्या आज १६ में सेक्स पर आपकी क्या राय है सही है या गलत ,

    • Rakesh goswami says:

      आपको नमन करता हूँ

  70. kisee khangressi ka lekh hai yah..

  71. Ashok Tiwari says:

    bhrastachari durachari sab khangress me to baba kiske khilaf bolenge kya kewal narendra modi ke bare me bol diyen hote to media wale khoos ho jate kuchh to sharm karo besharmo kewal ek ramdev aur modiji he dikh rahe hain khangressi kamino ne boti muh me dal diya kya harami ke pillo.

  72. satyam mandowara says:

    इस लायक नहीं हे की कोई कमेंट्स किया जाये.एक दम घटिया लेख .

    • tejwani girdhar says:

      आपसे मांगी भी किसने है महाशय, सच कडवा ही होता है, यही लेख बढिया हो जाता अगर बाबा की तारीफ में कशीदे काढता

      • Rakesh goswami says:

        आप की सोच अति उत्तम है …मैं चाहता हूँ आप इसको अधिक से अधिक से विस्तृत करिए ताकि सब जान सकें की ये बाबा क्या है ? पर क्या आप नहीं जानते ये बाबा नहीं है ये देश भक्त है और देश भक्त को कोई सलाह मत किया करो ( अगर तुम कुछ नहीं कर सकते देश के लिए ) /
        मैं आपसे ब्यक्तिगत पूछना चाहता हूँ की आप क्या करोगे अगर हिन्दुस्तान की सरकार ने श्री राम सेतु को तोडा ??
        क्या आप भाषण दोगे या कर्तब्य निभाओगे देश का ?? तेजवानी जी जवाब जरूर देना /
        राकेश गोस्वामी

        • आपकी सोच एक मानसिकता विशेष को प्रतिबिंबित कर रही है

          • kirtika says:

            असली खान्ग्रेस्सी की यही पहचान है जबाब देते नहीं बना तो आरोप लगा दो बेशर्मियत और निर्लजता , दुराचार व्यभिचार सब कांग्रेस में कूट कूट कर भरे होते हें जिसकी सचाई आज देश जनता जानती है सिर्फ वो भर्स्ट और बेइमान लोग नहीं जिनका घर सोनिया और कांग्रेस के टुकडो पर चल रहा है तेजवानी गुधर उसीका एक नमूना है, बाबा किसी राजनीति में नहीं गए गुधर वो पापी राजनेति को सूधारने का काम कर रहे हें जो तुम जेसे निम्न सोच और तुच्छ कर्म के लोग नहीं समझ सकते हें इसके लिए तुम्हारा जन्म ही नहीं हुआ है तुम्हारा जन्म हुआ है एक परिवार की चाटुकारिता और जी हजुरी के लिए जहाँ तुम्हें जूठन डाली जाय और तुम ख़ुशी से जियो इस नीक कार्य में तुम अकेले नहीं हो और भी बहुत हें तुम्हारे भाई भर्स्ट खान्ग्रेस्सी मुबारक हो तुम्हे तुम्हारी सोच,

          • raaj says:

            बेवकूफ की असली पहचान हो आप.

        • ekbaal says:

          ये महासे बेशर्म है भाई जी

    • बडी मेहरबानी

      • sandeep dedh says:

        अपनी सोच बदलो तेजवानी सिर्फ एक राय है आपसे बर्ना देश वाशी कहीं इटली न भेज दें एक दिन यही हाल रहा आपका तो .

        • आपके पापा जी का राज है क्या, तुम मर्द ही नहीं हो, तभी तो इटली वाली आपकी छाती पर मूंग दल रही है

पाठक चाहे आलेखों से सहमत हों या असहमत, किसी भी लेख पर टिप्पणी करने को स्वतंत्र हैं. हम उन टिप्पणियों को बिना किसी भेद-भाव के निडरता से प्रकाशित भी करते हैं चाहे वह हमारी आलोचना ही क्यों न हो. आपसे अनुरोध है कि टिप्पणियों की भाषा संयत एवं शालीन रखें - मॉडरेटर

You might also like...

पाकिस्‍तान ने नहीं किया लेकिन भाजपा ने कर दिखाया..

Read More →
Page Reader Press Enter to Read Page Content Out Loud Press Enter to Pause or Restart Reading Page Content Out Loud Press Enter to Stop Reading Page Content Out Loud Screen Reader Support
%d bloggers like this: