/अंकिता सिंह खुद को गोपाल कांडा की दूसरी पत्नी बताती थी …

अंकिता सिंह खुद को गोपाल कांडा की दूसरी पत्नी बताती थी …

गीतिका शर्मा आत्महत्या प्रकरण में शनिवार को नया मोड आ गया. गोवा पुलिस ने राज फाश किया कि इस मामले की एक अहम किरदार अंकिता सिंह मुख्य आरोपी हरियाणा के पूर्व मंत्री गोपाल गोयल कांडा की दूसरी पत्नी है. गोवा के एसपी विजय सिंह ने बताया कि खुद अंकिता ने यह बात पुलिस को तब बताई थी जब गीतिका ने 2009 में अंकिता और नुपूर के खिलाफ उसका लैपटॉप, कैमरा, मोबाइल व अन्य सामान होटल से जबरन उठा ले जाने की शिकायत पुलिस को दी थी. तब अंकिता ने पूछताछ के दौरान कहा था कि गोपाल कांडा उसके पति हैं तथा वह उनकी दूसरी पत्नी है.

गोवा के एसपी विजय सिंह ने का कहना है कि हाल ही में गीतिका आत्महत्या का मामला सामने आया है, लेकिन तब हमारी जांच व कार्रवाई उसकी दी गई रिपोर्ट पर कार्रवाई तक सीमित थी. हमें गीतिका शर्मा ने जो रिपोर्ट दी थी उसमें कहा गया था कि अंकिता और नुपूर एक रात होटल आई और उसके साथ मारपीट की तथा जबरन उसके कमरे से लैपटॉप, कैमरा, मोबाइल व अन्य सामान उठा ले गई. अंकिता सिंह का कहना था कि यह सब सामान कंपनी का है. पुलिस ने तब दर्ज शिकायत पर कार्रवाई करते हुए अंकिता को थाने बुलाया था. उसके दिए बयान अब भी कोर्ट में पेश दस्तावेजों में हैं. गीतिका शर्मा के सुसाइड नोट में दर्ज अंकिता सिंह सिंगापुर में है. उसने पुलिस को भरोसा दिया है कि वह भारत आकर पूछताछ में सहयोग करेगी.

सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार अंकिता सिंह करीब आठ साल पहले गुड़गांव के साउथ सिटी वन स्थित रक्षक अपार्टमेंट के एक फ्लैट में रहा करती थी. उसके यहां गोपाल कांडा का खूब आना जाना था. सूत्र बताते हैं कि घर के लिए फर्नीचर, गद्दे व अन्य सामान भी कांडा ने ही खरीदकर दिया था. शापिंग करने अंकिता डीटी सेंटर गई थी और उसने अपना परिचय मिसेज कांडा के नाम से ही दिया था. सामान वह पसंद कर आई थी और पीछे से कांडा के आदमी सामान की कीमत अदा कर आए थे. अंकिता ने वर्ष 2004 में सोसायटी के फ्लैट में रहने आई थी. स्थानीय निवासी दबी जुबान से बताते हैं कि फ्लैट पहले कांडा ने ही किसी संबंधी के नाम पर खरीदा था. यहां करीब दो साल तक अंकिता यहां रही फिर वह गोवा चली गई. उस फ्लैट में इन दिनों कोई और रह रहा है. यहां रहने वाले एक परिवार ने जब गीतिका प्रकरण के बाद टेलीविजन पर अंकिता सिंह की भी तस्वीर देखी तो उन्हें पता चला कि खुद को मिसेज कांडा कहने वाली अंकिता की असलियत क्या है.

बताया जाता है कि अंकिता को कांडा से एक बच्चा भी है. दिल्ली पुलिस को प्राप्त सूचना में इस बात की जानकारी नहीं है कि अंकिता भारत कब आएगी. अंकिता करीब दस साल से कांडा के संपर्क में है. गोवा में जब कांडा ने कैसीनो खरीदा तो उसे चलाने की जिम्मेदारी उसने फिल्म अभिनेत्री नूपुर मेहता और अंकिता सिंह को ही दी. कांडा को राजनीतिक मुकाम हासिल कराने में अंकिता की मां रेणु सिंह ने अहम भूमिका निभाई. वे न केवल कांडा को राजनीति में आगे बढने के रास्ते सुझाती थीं बल्कि कांडा के चुनाव में भी प्रबंधन की दृष्टि से उन्होंने महत्वपूर्ण भूमिका निभाई थी.

Facebook Comments

संबंधित खबरें:

मीडिया दरबार के मॉडरेटर 1979 से पत्रकारिता से जुड़े हैं. एक साप्ताहिक से शुरूआत के बाद अस्सी के दशक में स्वतंत्र पत्रकार बतौर खोजी पत्रकारिता में कदम रखा, हिंदी के अधिकांश राष्ट्रीय अख़बारों में हस्ताक्षर. उसी दौरान राजस्थान के अजमेर जिले के एक सशक्त राजनैतिक परिवार द्वारा एक युवती के साथ किये गए खिलवाड़ पर नवभारत टाइम्स के लिए लिखी रिपोर्ट वरिष्ठ पत्रकार श्री मिलाप चंद डंडिया की पुस्तक "मुखौटों के पीछे - असली चेहरों को उजागर करते पचास वर्ष" में भी संकलित की गयी है. कुछ समय के लिए चौथी दुनियां के मुख्य उपसंपादक रहे किन्तु नौकरी कर पाने के लक्खन न होने से तेईस दिन में ही चौथी दुनिया को अलविदा कह आये. नब्बे के दशक से पिछले दशक तक दूरदर्शन पर समसामयिक विषयों पर प्रायोजित श्रेणी में कार्यक्रम बनाते रहे. अब वैकल्पिक मीडिया पर सक्रिय.