Loading...
You are here:  Home  >  दुनियां  >  देश  >  Current Article

देश के घर अँधेरे में और पाकिस्तान को करेंगे रोशन….

By   /  September 3, 2012  /  7 Comments

    Print       Email
इस खबर को अपने मित्रों से साझा करें..

राजस्थान में एक कहावत है “घर का पूत कुंवारा डोले, पाड़ोसीयां का ब्याव” यानी घर में खुद की औलादें कुंवारी बैठी हैं और हम पड़ोसियों की संतानों की शादियाँ करवा रहे हैं. ऐसा ही कुछ बिजली के मामले में हो रहा है. देश में बिजली सप्लाई ढंग से हो नहीं पाती, आज भी हर गांव तक बिजली पहुंचा नहीं पाए, आये दिन बिजली कटौती जीवन का हिस्सा बन चुकी है और तो और अब तो ग्रिड भी फ़ैल होने लगे हैं तथा पूरा देश अँधेरे में डूबने लगा है मगर भारत सरकार है कि पाकिस्तान को बिजली देने की सोच रही है.

अमरीका को भारत की राजदूत निरुपमा राव ने कहा है कि भारत पाकिस्तान को 500 मेगावॉट बिजली देने की संभावना पर विचार कर रहा है. निरुपमा राव ने सोशल नेटवर्किंग वेबसाइट ट्विटर के माध्यम से ट्वीट किया, “नेपाल और बांग्लादेश की बिजली ज़रूरतों पर भी भारत विचार कर रहा है.”

ताज़ा आंकड़ों के मुताबिक भारत में सालाना 1,70,000 मेगावाट बिजली का उत्पादन होता है लेकिन मांग के मुकाबले ये उत्पादन कहीं कम है. योजना आयोग के अनुसार देश में पीक समय में बिजली की कमी 10 फीसदी होती है जबकि सामान्यतया सात फीसदी बिजली की कमी होती है. लेकिन बिजली का कम उत्पादन ही बिजली की कटौती की वजह नहीं है, इसकी पीछे स्थानीय स्तर पर बिजली चोरी और बड़े स्तर पर राज्यों के अपनी सीमा से ज़्यादा बिजली खींचना भी ज़िम्मेवार है.

ज़ाहिर है हाल ही में देश के दो पावर ग्रिड के एक साथ फेल होने से परेशान हुई जनता ने भारत की पूर्व विदेश सचिव निरुपमा राव के इस ट्वीट पर तीखी प्रतिक्रिया दी.
‘भूखे पेट दान…’

इस पर देबाशीष दत्ता (@abGOLikha) ने लिखा, “गुड़गांव जैसे बड़े शहरों में घंटों बिजली नहीं रहती, छोटे शहरों का क्या हाल होगा.. अमरीका की तरह पहले हमें अपना घर ठीक करना चाहिए, फिर दूसरों की सोचें.”

@ashutoshmerchy ने लिखा – “भूखे पेट दान देने में समझदारी नहीं है…”

@roshandawrani ने लिखा – “मैं उत्तर प्रदेश का रहनेवाला हूं जहां रोज़ाना घंटो बिजली नहीं रहती, मुझे नहीं मालुम था हमारे पास बेचने के लिए अतिरिक्त बिजली है…”

इन सब ट्वीट्स पर निरुपमा राव ने जवाब देते हुए कहा कि भारत के नेशनल ग्रिड में वर्ष 2007 से 2012 के बीच 55,000 मेगावॉट बिजली की क्षमता बढ़ाई गई, जिसमें वर्ष 2011-2012 में ही 20,500 मेगावॉट बिजली शामिल है.

उन्होंने कहा, “ये मानना ग़लत होगा कि इस मदद की वजह से भारत को बिजली की कमी हो जाएगी, ये हमारी मंशा कभी भी नहीं रही है और साथ ही ये ध्यान रखना ज़रूरी है कि पड़ोसी देशों को दी जाने वाली प्रस्तावित बिजली की मात्रा बहुत कम है.”

राव ने कहा कि भारत कोई द्वीप नहीं है, इसलिए उसका अपने क्षेत्र के पड़ोसियों की ज़रूरतों का ध्यान रख हर मुमकिन मदद के बारे में सोचना लाज़मी है.

Facebook Comments

इस खबर को अपने मित्रों से साझा करें..
    Print       Email

About the author

मीडिया दरबार के मॉडरेटर 1979 से पत्रकारिता से जुड़े हैं. एक साप्ताहिक से शुरूआत के बाद अस्सी के दशक में स्वतंत्र पत्रकार बतौर खोजी पत्रकारिता में कदम रखा, हिंदी के अधिकांश राष्ट्रीय अख़बारों में हस्ताक्षर. उसी दौरान राजस्थान के अजमेर जिले के एक सशक्त राजनैतिक परिवार द्वारा एक युवती के साथ किये गए खिलवाड़ पर नवभारत टाइम्स के लिए लिखी रिपोर्ट वरिष्ठ पत्रकार श्री मिलाप चंद डंडिया की पुस्तक "मुखौटों के पीछे - असली चेहरों को उजागर करते पचास वर्ष" में भी संकलित की गयी है. कुछ समय के लिए चौथी दुनियां के मुख्य उपसंपादक रहे किन्तु नौकरी कर पाने के लक्खन न होने से तेईस दिन में ही चौथी दुनिया को अलविदा कह आये. नब्बे के दशक से पिछले दशक तक दूरदर्शन पर समसामयिक विषयों पर प्रायोजित श्रेणी में कार्यक्रम बनाते रहे. अब वैकल्पिक मीडिया पर सक्रिय.

7 Comments

  1. JABTAK BHARAT ME KONGRES RAHEGA , PAKISTAN BANGLADESH TARAKKI KARENGE.

  2. Vasant Joshi says:

    Pahle apne desh ki bijli aapurti to theek kar lo, tab kisi aur ki sochna.

  3. mahendra gupta says:

    पाकिस्तान के प्रति सद्भावना दिखा कर सरकार अपना वोट बैंक बना रही है साथ ही अपने आका अमेरिका को भी खुश कर रही है.निरुपमा राव का यह कहना कि इससे बिजली में कमी नहीं आएगी,हास्यास्पद है.जो चीज सामने दिख रही है उसे यह कांग्रेस सरकार उसके प्रतिनिधि ही नकार सकते हैं.इनकी आँखों पर तो पर्दा पड़गया है

  4. Bharat says:

    eska matlab humare desh mai adhera kaayam rahega..

  5. Brijesh Patel Dedania says:

    Ab aisha lag raha he ki ek nathu ram godse ki jarurat he,

  6. Brijesh Patel Dedania says:

    Bihar or UP me kitne hi gaon me bijli nahi he pehle unka socho phir pakistan me dena,

  7. इसमें नया क्या है? सन 1947 से आज तक भारत सरकार ये ही तो करती आ रही है…….. तब भी सरकार कांग्रेस की थी और आज भी……………

पाठक चाहे आलेखों से सहमत हों या असहमत, किसी भी लेख पर टिप्पणी करने को स्वतंत्र हैं. हम उन टिप्पणियों को बिना किसी भेद-भाव के निडरता से प्रकाशित भी करते हैं चाहे वह हमारी आलोचना ही क्यों न हो. आपसे अनुरोध है कि टिप्पणियों की भाषा संयत एवं शालीन रखें - मॉडरेटर

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

You might also like...

नरेंद्र मोदी दिवालिया होने के कगार पर खड़े अनिल अम्बानी का कौन सा क़र्ज़ा उतार रहे हैं..

Read More →
Page Reader Press Enter to Read Page Content Out Loud Press Enter to Pause or Restart Reading Page Content Out Loud Press Enter to Stop Reading Page Content Out Loud Screen Reader Support
%d bloggers like this: