Loading...
You are here:  Home  >  राजनीति  >  Current Article

मुलायम ने फिर यूपीए सरकार पर हमला बोला…

By   /  September 11, 2012  /  6 Comments

    Print       Email
इस खबर को अपने मित्रों से साझा करें..

यूपीए सरकार को बाहर से समर्थन दे रहे समाजवादी पार्टी के सुप्रीमो मुलायम सिंह यादव ने मंगलवार को केंद्र सरकार पर हमला बोलते हुए कहा है कि यूपीए सरकार में कई बड़े घोटाले हो रहे हैं जो चिंता का कारण है.

मुलायम सिंह ने कहा कि हम प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह या कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी के खिलाफ नहीं है लेकिन यूपीए सरकार में जो घोटाले हो रहे है उसके खिलाफ जरूर है. उन्होंने कहा कि हम उन तमाम सरकारी नीतियों के खिलाफ है, जिनके कारण देश की अर्थव्यवस्था की गाड़ी पटरी पर नहीं दौड़ रही है.

मुलायम सिंह यादव का कहना है कि सत्ता चलाने वालों को पता हीं नहीं है कि देश किस दिशा में जा रहा है. यही वजह है कि देश में एक के बाद एक घोटाले होते जा रहे है और सरकार गलत नीतियों को लागू कर रही है.

इससे पहले मंगलवार को ही समाजवादी पार्टी नेता रामगोपाल यादव ने कोयला ब्लॉक आवंटन मामले पर श्रीप्रकाश जायसवाल पर हमला बोला था. समाजवादी पार्टी नेता राम गोपाल यादव ने केंद्रीय कोयला मंत्री श्रीप्रकाश जायसवाल पर आरोप लगाया है कि उन्होंने मंत्री पद का दुरुपयोग करते हुए करते हुए गलत तरीके से कोल ब्लॉक का आवंटन किया.

राम गोपाल यादव ने एक न्यूज़ चैनल के साथ बातचीत में कहा था कि जायसवाल ने मंत्री बनने के एक घंटे और सात मिनट के भीतर ही तीन कोल ब्लाक आवंटित किये थे.

गौरतलब है कि श्रीप्रकाश जायसवाल को 28मई, 2009 को 12 बजकर 30 मिनट पर कोयला मंत्रालय में राज्य मंत्री बनाया जाता है. श्रीप्रकाश जायसवाल शपथ ग्रहण समारोह से निपट कर सीधे मंत्रालय पहुँचते हैं और 1 बज कर 47 मिनट पर 4 कोल ब्लाक का आवंटन कर देते हैं. ‘कर्मठ’ जायसवाल यहीं नहीं रुकते वो अगले दिन 28मई,2009 को फिर से 5 कोल ब्लाक का आवंटन कर देते हैं. जायसवाल की कार्यकुशलता की बानगी देखिये कि वे 24 घंटे के अंदर 9 कोल ब्लाक का आवंटन कर देते हैं. सवाल उठता है की जायसवाल ने ये सब फाइलें कब पढ़ी होंगी?

यहाँ यह सवाल भी खड़ा होता है कि यदि मुलायम सिंह यादव का जमीर यूपीए सरकार की कारगुजारियों से आहत है तो वे घोटालों की पर्याय बन चुकी यूपीए सरकार से समाजवादी पार्टी का समर्थन वापिस क्यों नहीं ले लेते? क्यों वैसाखी बन कर सहारा दे रहें हैं वर्तमान सरकार को? क्या उन्हें किसी और बड़े घोटाले के होने का इन्तजार है?

Facebook Comments

इस खबर को अपने मित्रों से साझा करें..
    Print       Email

About the author

मीडिया दरबार के मॉडरेटर 1979 से पत्रकारिता से जुड़े हैं. एक साप्ताहिक से शुरूआत के बाद अस्सी के दशक में स्वतंत्र पत्रकार बतौर खोजी पत्रकारिता में कदम रखा, हिंदी के अधिकांश राष्ट्रीय अख़बारों में हस्ताक्षर. उसी दौरान राजस्थान के अजमेर जिले के एक सशक्त राजनैतिक परिवार द्वारा एक युवती के साथ किये गए खिलवाड़ पर नवभारत टाइम्स के लिए लिखी रिपोर्ट वरिष्ठ पत्रकार श्री मिलाप चंद डंडिया की पुस्तक "मुखौटों के पीछे - असली चेहरों को उजागर करते पचास वर्ष" में भी संकलित की गयी है. कुछ समय के लिए चौथी दुनियां के मुख्य उपसंपादक रहे किन्तु नौकरी कर पाने के लक्खन न होने से तेईस दिन में ही चौथी दुनिया को अलविदा कह आये. नब्बे के दशक से पिछले दशक तक दूरदर्शन पर समसामयिक विषयों पर प्रायोजित श्रेणी में कार्यक्रम बनाते रहे. अब वैकल्पिक मीडिया पर सक्रिय.

6 Comments

  1. mulayam srkar chahatya hia kia saf bhia marjay lthia bhia ntuatya mulayam srkar deas koa bchanya kia koseas kar rhiya hiy but ya nhia maluakia jiskoa das ma nata chuna gya hiya ohia choar hia mtlab hamariya srakar khaud choar hia esliya srkar koa janta nhia deas nhia jab bharna hia surja lyand may pysa kisa jayaga jyahand jya bharat.

  2. डॉ. विक्रम देव "क्रांतिवीर" says:

    ॐ भाई मुल्ला मुआल्यम JI ! DRAMABAJI BAND KARIYE EK TARAF AP SARKAR PE HALLA BOLTE HAIN DUSRI TARAF SARKAR KE SANKAT MOCHAK BANTE HAIN. AISA NAHI CHALNE WALA YE JANTA HAI YE SABKUCHH JANTI HAI. AP YE BHI KAHTE HAIN KI MANMOHAN V SONIA KO DOSHI NAHI MANTE FIR DOSHI KAUN HAI? SARAKR KO CHALANE WALE TO APBHI BHI HAI. AB APBHI BATA DIJIYE KI UPA KE MAHALOOT KA KITNA HISSA APKO MILTA HAI? YADI AAP HISSEDAR NAHI HAIN TO MAMTA DIDI KI BHANTI SUPPORT WITHDRAW KARNE ME KIS BAAT KI DERI? HUM LOGON NE VOTE DEKAR , DILAKR APKI SARKAR BANVAI LEKIN APKI KARGUJARION SE HUM SHARMINDA HAIN. YE SONIA APKA KYA BIGAD SAKTI HAI? ADHI SE ADHIK APKO JAIL ME DAL DEGI USASE APKA KYA BIGDEGA? DR. NELSAON MANDELA JI TO 25 VARSH JAIL ME RAHE KYA UNSE UNKA KOI MAN-SAMMNA KAM HO GAYA? GANDHI MAHATMA TO AAYE DIN JAIL JATE RAHTE THE FIR AAP JAIL SE KYON DARTE HAIN.

  3. mahendra gupta says:

    कुछ नहीं यह तो सब दिखावटीपन है,ताकि जनता में भ्रम बना रहे कि स पा भी घोटाले के खिलाफ है,मुलायम में कहाँ सहस है कि कांग्रेस के खिलाफ कोई कदम ले सके.यह तो नूराकुश्ती है.सीबीआई को थोडा इशारा करते ही मुलायम अपनी धोती सँभालते वापस सोनिया की गोद में आ बैठेंगे.यह बात दोनों जानते हैं.यह तो कांग्रेस के टुकदेल हैं,इसलिए इनकी बात पर जनता को ज्यादा विश्वास करने की जरूरत नहीं.

  4. कोयला घोटाले में जिंदल का नाम अभी चर्चा में है,जिस न्यूज़ चानेल पर देखिये ओनली जिंदल !लेकिन जिस दिन जिदल के बारे में पहली बार घोटाले में नाम आया,उसी दिन एक न्यूज़ और आया की जिंदल को कोल ब्लाक आवंटन के लिए ओडिस्सा के चीफ मिनिस्टर श्री नवीन पटनायक था बीजेपी के श्री रवि शंकर प्रसाद जी ने सिफारिश की थी !ये न्यूज़ जी न्यूज़ ने दिखाई थी !फिर बाद में ऐसा क्या हो गया की सभी चैनलों पर से श्री पटनायक,और रवि शंकर जी वाला न्यूज़ द्वारा कभी दिखाया ही नहीं गया क्यों ?अगर उन्होंने सिफारिश की थी तो सिर्फ जिंदल ही क्यों वे दोनों भी दोषी हैं ,जिसे समर चैनलों द्वारा जनता को बताया जाना चाहिए?

  5. मै मीडिया दरबार के संपादक ,और अन्य सदस्यों से कहना चाहता हु की अन्य समाचार साईट की तरह आप भी पुरे समाचार उपलब्ध कराये !

  6. मुझे समझ नही आता कि यह मुलायमसिंह की ये कैसी दोहरी नीति है कि एकतरफ वह सरकार नीति व भ्रष्ट्राचार का विरोध करते है वही सरकार की वैशाखी भी बने हुये है?

पाठक चाहे आलेखों से सहमत हों या असहमत, किसी भी लेख पर टिप्पणी करने को स्वतंत्र हैं. हम उन टिप्पणियों को बिना किसी भेद-भाव के निडरता से प्रकाशित भी करते हैं चाहे वह हमारी आलोचना ही क्यों न हो. आपसे अनुरोध है कि टिप्पणियों की भाषा संयत एवं शालीन रखें - मॉडरेटर

You might also like...

क्या कांग्रेस मुग़ल साम्राज्य का अंतिम अध्याय और राहुल गांधी बहादुर शाह ज़फ़र के ताज़ा संस्करण हैं?

Read More →
Page Reader Press Enter to Read Page Content Out Loud Press Enter to Pause or Restart Reading Page Content Out Loud Press Enter to Stop Reading Page Content Out Loud Screen Reader Support
%d bloggers like this: