Loading...
You are here:  Home  >  अपराध  >  Current Article

मौलवी के बेटी से दुष्कर्म का प्रयास, निर्वस्त्र करके गांव में घुमाया

By   /  September 23, 2012  /  13 Comments

    Print       Email
इस खबर को अपने मित्रों से साझा करें..

पाकिस्तान के पंजाब प्रांत में कुछ युवकों द्वारा मौलवी की लड़की को निर्वस्त्र करके गांव में घुमाने का सनसनीखेज मामला प्रकाश में आया है. मीडिया रिपोर्ट में बताया गया है कि इन लड़कों ने पीडिता के भाई से बदला लेने के लिए यह अमानवीय कृत्य किया. एक अखबार ने बताया कि यह घटना बुधवार की है.

मिली जानकारी के मुताबिक, फैसलाबाद जिले के नवान लाहौर क्षेत्र में खरीददारी करके घर लौट रहीं मौलवी अल्लाह दीता की तीन बेटियों पर पांच युवकों ने तब हमला बोल दिया.

अखबार ने बताया कि इनमें से दो का निकाह गुरुवार को होना था. दो बहनें भागकर पास के घर में जाकर छुप गई जबकि उनकी एक बहन रहिला को हमलावरों ने पकड़ लिया. उन्होंने उसके कपड़े फाड़ डाले और उसके साथ दुष्कर्म का प्रयास किया. इसके बाद उन्होंने उसे गांव में घुमाया और धमकी दी कि अगर किसी ने उनका विरोध किया तो उन्हें भी यही परिणाम भुगतना पड़ेगा.

मौलवी ने बताया कि इन लोगों ने उससे दुष्कर्म की कोशिश की, लेकिन वे नाकाम रहे. इन पांच युवकों में एक ने हाल ही में मौलवी के बेटे पर अपनी बहन के साथ छेडख़ानी करने का आरोप लगाया था. उसके बाद गांव के बुजुर्गों ने मौलवी के बेटे को दो साल के लिए गांव से निकाल दिया था. हालांकि बाद में उन्हें लगा कि उस पर लगाए गए आरोप निराधार हैं तो उन्होंने सजा वापस ले ली थी. यह बात इन पांच युवकों को नागवार गुजरी. गुरुवार को पुलिस ने पांचों युवकों को अपहरण और दुष्कर्म के प्रयास के आरोप में गिरफ्तार कर लिया. मौलवी ने पंजाब के मुख्यमंत्री शाहबाज शरीफ और पुलिस अधिकारियों से उन्हें न्याय दिलाने की गुहार लगाई है.

Facebook Comments

इस खबर को अपने मित्रों से साझा करें..
    Print       Email

About the author

मीडिया दरबार के मॉडरेटर 1979 से पत्रकारिता से जुड़े हैं. एक साप्ताहिक से शुरूआत के बाद अस्सी के दशक में स्वतंत्र पत्रकार बतौर खोजी पत्रकारिता में कदम रखा, हिंदी के अधिकांश राष्ट्रीय अख़बारों में हस्ताक्षर. उसी दौरान राजस्थान के अजमेर जिले के एक सशक्त राजनैतिक परिवार द्वारा एक युवती के साथ किये गए खिलवाड़ पर नवभारत टाइम्स के लिए लिखी रिपोर्ट वरिष्ठ पत्रकार श्री मिलाप चंद डंडिया की पुस्तक "मुखौटों के पीछे - असली चेहरों को उजागर करते पचास वर्ष" में भी संकलित की गयी है. कुछ समय के लिए चौथी दुनियां के मुख्य उपसंपादक रहे किन्तु नौकरी कर पाने के लक्खन न होने से तेईस दिन में ही चौथी दुनिया को अलविदा कह आये. नब्बे के दशक से पिछले दशक तक दूरदर्शन पर समसामयिक विषयों पर प्रायोजित श्रेणी में कार्यक्रम बनाते रहे. अब वैकल्पिक मीडिया पर सक्रिय.

13 Comments

  1. Suno Muslim ho or insecure feel karte ho to jao pakistan ya iarak ya khi bhi India to hm hindo ka hin

  2. Yaha Hindu ko kyo bura bolto ho be

  3. Vishal Rai says:

    o hello bat she kar

  4. Robine Tomar says:

    Pata nahi kenti ladkeyo ka sath rat din balatkar hota ha

  5. Robine Tomar says:

    tumne thek bola Prineeta sharma ji agr apka janm pakestan ma hota to pata chalta edit hindu hokar apne hi kon ki buri kar rahi ho.

  6. plz can u explain …..hw can u say that beining muslim is good and hindu is bad….

  7. belive only half of that u see nathing that u hear….

  8. Hindu hona hi wrong h ,, muslim hona sahi h.

  9. Post ke ooper youtube ka video assam se sambandit aa raha hai ,lagta hai kisine post chupane ka prayas kiya hai.

  10. kya hoga pakistan ka havaneyat ki bhi had ho gae ham maa durga ke rup mai nari ki poja karte hai or nari ka es prakar say apman jis des hota hai os des ki takdir or tasver badal jate hai os des say maa luxmi ka haat ot jata hai.

  11. Mahender Singh Thakur says:

    kya hoga pakistan ka havaneyat ki bhi had ho gae ham maa durga ke rup mai nari ki poja karte hai or nari ka es prakar say apman jis des hota hai os des ki takdir or tasver badal jate hai os des say maa luxmi ka haat ot jata hai.

  12. tiwari b l says:

    ईस घटना की जीतनी निन्दा कीजये कम है मगर जो सोचने की समझनेकी बात है ये इसलाम धर्मी यो की मज़बूरी है वो हत्तिया चोरी बलात्त्कर के अलावा कुछ जानते भी नहीं है ओर्र बहन किया बेटी किया किसी की पत्त्तनी किया ये रिशते इस्लाम में होते ही नहीं हे ये तो जो खावर पड़ता है वो अपने हिसाब से पड़ने के कारन सोचता है इएसी लिए बुरा लगता है वर्ना मुसलमानों में कोए रिश्ते होते ही नहीं है ये तो जाहिल जानवरओ की जमाते है ये कोम [ग्रुप] कबीलों की ज़िन्दगी ज़ीने वाले ८ /९ वि सताब्बादी की भेड़े आज के समय में इएन की गिनती सभी सभ्य समाज में नहीं की जा सकती है

    • indian says:

      tera comment padh kar hi pata chal raha hai ki tu kitna bada jahil hai. lagta hai teri maan behen ko bhi kisi ne aise hi ghumaya hai tabhi itna uchhal raha hai. tum jaise logon ko har jagar har khabar men yahi sab kuchh soojhta hai. sale tum jaise log aise hi kudhte rehte hain sari zindagi. waise to main kai tiwari ko janta hun jo achhe hain lekin tu wo tiwari hai jo bhayanak beemari hai. balki beemari nahin mahamari hai.

पाठक चाहे आलेखों से सहमत हों या असहमत, किसी भी लेख पर टिप्पणी करने को स्वतंत्र हैं. हम उन टिप्पणियों को बिना किसी भेद-भाव के निडरता से प्रकाशित भी करते हैं चाहे वह हमारी आलोचना ही क्यों न हो. आपसे अनुरोध है कि टिप्पणियों की भाषा संयत एवं शालीन रखें - मॉडरेटर

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

You might also like...

पुलिस वालों द्वारा राहजनी के संकेत मिलते हैं विवेक तिवारी की हत्या के पीछे

Read More →
Page Reader Press Enter to Read Page Content Out Loud Press Enter to Pause or Restart Reading Page Content Out Loud Press Enter to Stop Reading Page Content Out Loud Screen Reader Support
%d bloggers like this: