Loading...
You are here:  Home  >  राजनीति  >  Current Article

केजरीवाल दस अक्टूम्बर को किसी भाजपा नेता का बैण्ड बजाएंगे…

By   /  October 6, 2012  /  14 Comments

    Print       Email
इस खबर को अपने मित्रों से साझा करें..

सोनिया गांधी के दामाद रोबर्ट वाड्रा पर कांग्रेस के सबसे सशक्त परिवार का सदस्य होने के नाते और  भ्रष्टाचार  के जरिए मालामाल होने का सनसनीखेज आरोप लगाने के

बाद अरविन्द  केजरीवाल और उनकी टीम कुछ और नेताओं के बारे ‘राज फाश’ करने वाली है. दरअसल, अरविंद केजरीवाल रॉबर्ड वाड्रा के बारे में राज फाश के बाद मचे राजनीतिक हड़कंप को फिलहाल कुछ दिनों तक शांत नहीं होने देने चाहते हैं. उनके नजदीकी सूत्रों का कहना है कि वह 10 अक्टूबर को बीजेपी के एक बड़े नेता का भंडाफोड़ करेंगे.

 

अरविन्द केजरीवाल अपनी राजनैतिक पार्टी के नाम और चुनाव चिह्न के बारे में भले ही बाद में बताएं लेकिन वह राजनीतिक पार्टियों से जुड़े प्रमुख लोगों पर निशाना लगाने की शुरुआत कर चुके हैं. पहले उनकी टीम ने बीजेपी अध्यक्ष नितिन गडकरी पर आरोप लगाए थे और अब रॉबर्ट वाड्रा पर आरोप लगाया है कि पिछले 5 सालों में उन्होंने 300 करोड़ रुपये की संपत्ति अर्जित की.
वाड्रा पर खुलासे से भले ही अभी बीजेपी खुश है, लेकिन शायद वह इस बात से बेखबर हैं कि केजरीवाल के तरकश का अगला तीर उसे भी घायल कर सकता है. टीम केजरीवाल के एक सूत्र का कहना है कि अगली बारी बीजेपी की हो सकती है. उनका कहना है कि बीजेपी में भी ऐसे लोग हैं जो जम कर भ्रष्टाचार कर रहे हैं.

Facebook Comments

इस खबर को अपने मित्रों से साझा करें..
    Print       Email

About the author

मीडिया दरबार के मॉडरेटर 1979 से पत्रकारिता से जुड़े हैं. एक साप्ताहिक से शुरूआत के बाद अस्सी के दशक में स्वतंत्र पत्रकार बतौर खोजी पत्रकारिता में कदम रखा, हिंदी के अधिकांश राष्ट्रीय अख़बारों में हस्ताक्षर. उसी दौरान राजस्थान के अजमेर जिले के एक सशक्त राजनैतिक परिवार द्वारा एक युवती के साथ किये गए खिलवाड़ पर नवभारत टाइम्स के लिए लिखी रिपोर्ट वरिष्ठ पत्रकार श्री मिलाप चंद डंडिया की पुस्तक “मुखौटों के पीछे – असली चेहरों को उजागर करते पचास वर्ष” में भी संकलित की गयी है. कुछ समय के लिए चौथी दुनियां के मुख्य उपसंपादक रहे किन्तु नौकरी कर पाने के लक्खन न होने से तेईस दिन में ही चौथी दुनिया को अलविदा कह आये. नब्बे के दशक से पिछले दशक तक दूरदर्शन पर समसामयिक विषयों पर प्रायोजित श्रेणी में कार्यक्रम बनाते रहे. अब वैकल्पिक मीडिया पर सक्रिय.

14 Comments

  1. Dafli ke saath pura proof

  2. Anand Upadhyay says:

    purani dafli, purana rag

  3. Anand Upadhyay says:

    indiraji ke hatyaro aur afjal guru ki vakalat se kamaye hain.aur bhi bahut kuch hai jo yha nhi bata sakta

  4. Anand Upadhyay says:

    let's see

  5. Anand Upadhyay says:

    10 oct beet gya.

  6. अरविन्द केजरीवाल एक ऐसा नाम जिसकी पहचान एक सरकारी नौकर के रूप में थी वही केजरीवाल को अचानक साथ मिला अन्ना हजारे जी का ,और अरविन्द केजरीवाल रातो -रात स्टार बन गए ,उनकी सोच भी बदली और किंग मेकर बनने का सपना भी देखने लगे !अपने सपने को साकार करने के लिए उसने अन्नाजी को बरगलाने लगे जिसके कारन अन्ना जी का वजूद ही खतरे में पर गया!अरविन्द केजरीवाल अपनी किंग मेकर की भूमिका वाले सपने को साकार करने के लिए ही उन्होंने सोची हुई रणनीति के तहत एक राजनातिक दल बनाने की घोसना कर दी ,पर अन्नाजी को विश्वाश में लेना भूल गए और परिणाम भी बुरा हुआ !अन्नाजी ने कोई भी राजनितिक दल बनाने या उसमे शामिल होने से इंकार कर दिया!केजरीवाल जी के सपने टूटते हुए दिखाई पड़े !क्योकि राजनितिक पार्टी बनाने के लिए फंड की जरूरत पड़ेगी जो अन्नाजी के नाम के बिना संभव नहीं था !अरविन्द केजरीवाल एक ऐसे पद पर कार्यरत थे जिससे उन्हें कुछ खास लोगो के बारे में थोड़ी-बहुत जानकारियां थी !आज वो जानकारी ही अरविन्द केजरीवाल के किंग मेकर वाली राजनीती के सपने को साकार करने में मदद कर रहे हैं !यह एक हकीकत है की जितने भी बड़े-बड़े इन्दुस्त्रिलिस्ट हैं उनसे कही-न -कही गलतियाँ हुई हैं जो स्वाभाविक थे उसी का फायदा आज अरविन्द केजरीवाल उठा रहे है,क्योकि उन्हें अपनी राजनितिक पार्टी को विस्तार देने के लिए धन की जरूरत है और वो पूंजपतियों से ही मिल सकते हैं?

  7. sooraj says:

    karo karo sab saalon ko nanga karo , khoob piasa khaya public ka ab joote khilao sab partyan chor niklengi.

  8. @am अगर सरकार को लगता है केजरीवाल ने पैसे दबाए हैं या भूषण ने गलत तरीके से पैसे कमाए हैं तो उनकी जांच करा ली जाए सारी एजेंसीयां सरकार के पास है। फिर.
    सरकार अपनी ईमानदारी का परिचय देते हुए जांच कराने के बाद दोषी पाए जाने पर जेल में क्यों नहीं डाल देती।.

  9. Anand Mishra says:

    और जो खुद सरकार का पैसा केजरीवाल आठ साल दबाए रहे. प्रशांत भूषण क्या इतनी संपत्ति ईमानदारी से बना पाए हैं.

  10. tiwari b l says:

    किया अब ये नहीं लगता की आने वाले समय में इएसी तरह के काम होते रहे तो नागरिक [आम आदमी] घर से ये खोजने निकलेगा की अब वो कहना छुपा है ओर्र मिलगे कान्हा आज ही निर्णय करदे चोराहे पर इएन चोरो का हिसाब तो करना ही पड़ेगा गर्दने काटी जाएँगी कही बगावत की नियम सियाम की बाते कोए मेनेगा ही नहीं जनता का संतुलन नियम कानून मान ने ही विशवाश उठ्जाये किया ये सर कार जान न नहीं चाहती भूख लाचारी उपमान सीमाए तोड़ सकती है

  11. tiwari b l says:

    janata kewal suchi ban ti rahe ki is ne kitan kiya hai aaj to naye naam se zee ki shrendi aage wadi C W G ./ 2G ../ KOLJI ./ AAJ KA NAYA NAAM HO GAYA ZIZA JI YE KAAND ZIZAJI KE NAAM SE JANA JAYEGA ZIZAJI KAAND

  12. इसमें सूत्र के हवाले से खबर देने की जरूरत ही क्या है एनडीटीवी के प्राईम टाईम रीपोर्टर टीक टैक लाईव में अरविंद ने खुद कहा है कि 10 अक्टूबर को बीजेपी की बारी है।.

पाठक चाहे आलेखों से सहमत हों या असहमत, किसी भी लेख पर टिप्पणी करने को स्वतंत्र हैं. हम उन टिप्पणियों को बिना किसी भेद-भाव के निडरता से प्रकाशित भी करते हैं चाहे वह हमारी आलोचना ही क्यों न हो. आपसे अनुरोध है कि टिप्पणियों की भाषा संयत एवं शालीन रखें - मॉडरेटर

You might also like...

पाकिस्‍तान ने नहीं किया लेकिन भाजपा ने कर दिखाया..

Read More →
Page Reader Press Enter to Read Page Content Out Loud Press Enter to Pause or Restart Reading Page Content Out Loud Press Enter to Stop Reading Page Content Out Loud Screen Reader Support
%d bloggers like this: