Loading...
You are here:  Home  >  राजनीति  >  Current Article

खुर्शीद को झटका, हज पर जाने से रोका…

By   /  October 22, 2012  /  2 Comments

    Print       Email
इस खबर को अपने मित्रों से साझा करें..

ऑपरेशन धृतराष्ट्र ने अपना असर दिखाना शुरू कर दिया है जिसके चलते कानून मंत्री सलमान खुर्शीद के राजनैतिक जीवन की उल्टी गिनती शुरू हो गयी है. प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह ने कानून मंत्री सलमान खुर्शीद को झटका देते हुए हज पर जाने से रोक दिया है. उनकी जगह विदेश राज्य मंत्री ई. अहमद भारत सरकार के प्रतिनिधि के रूप में हज यात्रा पर गए हैं. ऐन वक्त पर खुर्शीद को हज पर जाने से रोकने के सियासी निहितार्थ तलाशे जा रहे हैं. कुछ का कहना है कि मौजूदा विवाद के चलते उन्हें भारत सरकार के प्रतिनिधि के रूप में हज यात्रा करने से रोका गया है, तो कुछ का कहना है कि मंत्रिपरिषद में संभावित फेरबदल इसकी वजह है.
खुर्शीद की जगह ई. अहमद रविवार को जेद्दाह के लिए रवाना हुए. रियाद में भारतीय प्रतिनिधि हामिद अली इस दो सदस्यीय भारतीय दल के दूसरे सदस्य होंगे. अहमद इससे पहले 2006 में भी हज प्रतिनिधिमंडल का नेतृत्व कर चुके हैं.

सूत्रों के मुताबिक विकलांगों को मदद के नाम पर खुर्शीद और उनकी पत्नी लुईस के विवाद में घिरने के बाद सरकार ने उन्हें भेजने का इरादा टाल दिया. हर साल हज यात्रा के समय सरकार की तरफ से एक प्रतिनिधिमंडल भी सऊदी अरब जाता है. यह प्रतिनिधिमंडल भारत के साथ सऊदी अरब के रिश्तों को मजबूती प्रदान करने के लिए वहां के सुल्तान से भी मिलता है. यूपीए सरकार में ताकतवर मंत्री के रूप में उभरे खुर्शीद को इस दफा हज के अलावा सऊदी अरब के साथ कूटनीतिक रिश्तों को आगे बढ़ाने की जिम्मेदारी भी दी गई थी.

खुर्शीद को इस प्रतिनिधिमंडल से आखिरी वक्त पर हटाया गया. गौरतलब है कि कुछ दिन पहले जेद्दाह में भारतीय काउंसलेट ने घोषणा की थी कि 2012 में भारतीय हज दल की अगुआई सलमान खुर्शीद करेंगे.

Facebook Comments

इस खबर को अपने मित्रों से साझा करें..
    Print       Email

About the author

मीडिया दरबार के मॉडरेटर 1979 से पत्रकारिता से जुड़े हैं. एक साप्ताहिक से शुरूआत के बाद अस्सी के दशक में स्वतंत्र पत्रकार बतौर खोजी पत्रकारिता में कदम रखा, हिंदी के अधिकांश राष्ट्रीय अख़बारों में हस्ताक्षर. उसी दौरान राजस्थान के अजमेर जिले के एक सशक्त राजनैतिक परिवार द्वारा एक युवती के साथ किये गए खिलवाड़ पर नवभारत टाइम्स के लिए लिखी रिपोर्ट वरिष्ठ पत्रकार श्री मिलाप चंद डंडिया की पुस्तक “मुखौटों के पीछे – असली चेहरों को उजागर करते पचास वर्ष” में भी संकलित की गयी है. कुछ समय के लिए चौथी दुनियां के मुख्य उपसंपादक रहे किन्तु नौकरी कर पाने के लक्खन न होने से तेईस दिन में ही चौथी दुनिया को अलविदा कह आये. नब्बे के दशक से पिछले दशक तक दूरदर्शन पर समसामयिक विषयों पर प्रायोजित श्रेणी में कार्यक्रम बनाते रहे. अब वैकल्पिक मीडिया पर सक्रिय.

2 Comments

  1. VARUN GANDHI says:

    अगर सच मे गुनेगहार निकले तो खुर्शीद की एक टाँग तोड़ने बाले को जीबन भर के खर्च की गारन्टी मेरी;->धन्यबाद

  2. hamare desh ke wafadar chor ban chuke hai.hamare desh ki eksangata nashta ho chuki hai.itana badi galatee karane ke bad bhi age anewale sankat ko jan nahee rahe hai.har adamee ko duniya choadke jana hai fir abhi unke hat me hai ki sudhar jay.lekin vinashkalee viparit buddhi.

पाठक चाहे आलेखों से सहमत हों या असहमत, किसी भी लेख पर टिप्पणी करने को स्वतंत्र हैं. हम उन टिप्पणियों को बिना किसी भेद-भाव के निडरता से प्रकाशित भी करते हैं चाहे वह हमारी आलोचना ही क्यों न हो. आपसे अनुरोध है कि टिप्पणियों की भाषा संयत एवं शालीन रखें - मॉडरेटर

You might also like...

पाकिस्‍तान ने नहीं किया लेकिन भाजपा ने कर दिखाया..

Read More →
Page Reader Press Enter to Read Page Content Out Loud Press Enter to Pause or Restart Reading Page Content Out Loud Press Enter to Stop Reading Page Content Out Loud Screen Reader Support
%d bloggers like this: