Loading...
You are here:  Home  >  दुनियां  >  Current Article

चैरिटी के लिए युवती ने 4.17 करोड़ रुपये में नीलाम किया कौमार्य

By   /  October 26, 2012  /  19 Comments

    Print       Email
इस खबर को अपने मित्रों से साझा करें..

जहां हर युवती के लिए उसका कौमार्य जिंदगी से भी कीमती चीज होता है, वहीं एक युवती ने खुलेआम परोपकार के लिए इसका सौदा किया है. उसने चैरिटी के लिए अपने कौमार्य को  नीलामी पर लगा दिया  है. मजे की बात यह है कि इस नीलामी में एक भारतीय ने जापानी व्यक्ति को तगड़ी चुनौती पेश की है. मगर बाजी जापानी व्यक्ति के हाथ ही लगी.

एक ब्राजील की युवती ने जैसे ही अपनी वर्जिनिटी की नीलामी का ऐलान किया खरीददारों की लाइन लग गई. वो भी केवल ब्राजील के नहीं देश- विदेश के खरीदार पंक्ति में खड़े हो गए, लेकिन जापान ने इस नीलामी में जीत हासिल की.

यह किसी हॉलीवुड या एडल्ट मूवी की स्टोरी नहीं बल्कि हकीकत है. 20 वर्षीय ब्राजील की युवती कैटारिना मिग्लोरिनी ने अपनी वर्जिनिटी के लिए ऑनलाइन नीलामी का ऐलान किया और सौदा 7 लाख 80 हजार डॉलर में एक जापानी ग्राहक नात्सु के साथ पक्का कर लिया. इस सौदे में जापान के नात्सु की टक्कर भारत के रुद्र चटर्जी और अमेरिकी जैक मिलर व जैक राइट से थी. फिजिकल एजुकेशन की यह छात्रा के अनुसार वह इस पैसे का उपयोग गरीब परिवारों के लिए आवास निर्माण में करेगी. कैटारिना ने कहा कि वर्जिनिटी बेचने से मिले पैसे से वो घर बनाएगी और कुछ पैसा घर की जरूरतों को पूरा करने में खर्च करेगी.

गौरलतब है कि वर्जिनिटी खरीदने वाले जापानी नात्सु को 7 लाख 80 हजार डॉलर चुकाने के बावजूद कुछ शर्तो का पालन करना होगा. शर्तो के बारे में आपको बता दें कि कंडोम का इस्तेमाल जरूरी होगा. कैटारिना खुद को वर्जिन साबित करने के लिए किसी भी तरह के टेस्ट को तैयार रहेंगी.

ऑस्ट्रेलिया और अमेरिका के बीच उड़ते जहाज में कैटारिना नात्सु को सौंप दी जाएगी और सेक्स डेट से पहले और बाद में कैटारिना का इंटरव्यू होगा और शूटिंग भी होगी. इस पूरे प्रकरण पर डॉक्यूमेंटरी फिल्म वर्जिन वाटेड बन रही है. इस फिल्म के लिए कैटारीना ने ऑस्ट्रेलिया के एक फिल्म निर्माता के साथ करार किया है और इसके कैटारिना को अच्छे खासे पैसे मिलेंगे.

लेकिन इस अनूठी नीलामी का ब्राजील ही नहीं पूरी दुनिया में विरोध हो रहा था. विरोधियों का कहना है कि कैटारिना महज लोकप्रियता पाने के लिए ऐसा काम कर रही है. जबकि एक अखबार के इंटरव्यू में कैटारिना ने कहा, यह नीलामी बस एक बिजनेस है वैसे मैं रोमांटिक लड़की हूँ और प्यार में विश्वास रखती हूँ.

Facebook Comments

इस खबर को अपने मित्रों से साझा करें..
    Print       Email

About the author

मीडिया दरबार के मॉडरेटर 1979 से पत्रकारिता से जुड़े हैं. एक साप्ताहिक से शुरूआत के बाद अस्सी के दशक में स्वतंत्र पत्रकार बतौर खोजी पत्रकारिता में कदम रखा, हिंदी के अधिकांश राष्ट्रीय अख़बारों में हस्ताक्षर. उसी दौरान राजस्थान के अजमेर जिले के एक सशक्त राजनैतिक परिवार द्वारा एक युवती के साथ किये गए खिलवाड़ पर नवभारत टाइम्स के लिए लिखी रिपोर्ट वरिष्ठ पत्रकार श्री मिलाप चंद डंडिया की पुस्तक “मुखौटों के पीछे – असली चेहरों को उजागर करते पचास वर्ष” में भी संकलित की गयी है. कुछ समय के लिए चौथी दुनियां के मुख्य उपसंपादक रहे किन्तु नौकरी कर पाने के लक्खन न होने से तेईस दिन में ही चौथी दुनिया को अलविदा कह आये. नब्बे के दशक से पिछले दशक तक दूरदर्शन पर समसामयिक विषयों पर प्रायोजित श्रेणी में कार्यक्रम बनाते रहे. अब वैकल्पिक मीडिया पर सक्रिय.

19 Comments

  1. Hem Chandra Joshi says:

    A business Which should not be permited.

  2. Parvesh Atre says:

    What a shame, How much more you can go down, It should be challenged by the people and we have raise our voice for this.

  3. Yh samaj sewa ke nam pr majak hai aur is pavitra kam ko badnam krne jaisa hai. is tarah ki harakt vikrit mansikta vale hi kr skte hain . inko galorise krne ki jagah punish krna chahiye .

  4. Yogita Yadav says:

    i agree

  5. jo rab ki marji ho use kon tal sakta……usne kabhi socha ni thaa ki esa bhi hoga………..

  6. Er A Singh says:

    gr8 but this is not right our culture…m not agree with this type of nilami..
    for charity.

  7. ऐसा भी….वर्जिनिटी जैसी कोइ चीज जब तक ख़त्म नहीं हो जाती..तब तक औरत..बिकने की ही चीज रहेगी..

  8. Rahul Thakur says:

    koi na sir g help puri lagn se kere ge tan man dhan se k

  9. jiyajunior says:

    aaj ke is swarthy dunia me insan doulat ke liye bhai apne bhai ko, bap apne bete ko ,beta apne bap ko mar dalta hai,politions garibo ka haq markar arabpati ban jata hai aisi dunia me ;kaitrina natsu jaisi young garls Garibo ko makan banane ke liye apne aap ko sarwjanik roop se neelam kar deti hai.sharm aani chahiye un politions ko jo garibo ka khoon tak choos lete hai.Kaitrina natsu jaisi ladkiya aaj ke is bhrast yug me Insaniat ki ek MISHAL hai jo hume sochane par vivash karti hai or kuchh logo ko sharmindgi ka ahshash bhi karati hai.

  10. Yes Ladki Kafi Sunder Hai , Paisa Aadmi Ki Jarurat Hai Lekin Tareeka Galat Hai , Yes Ladki Modeling , Aur Acting Se Bhi Achha Paisa Kama Sakti Hai Yes India Aajaye To Mumbai Aur Delhi Me bollyWood , hatho Haath Esko heroin Bana Denge, Jab Sunny Lion Jaise Ladkiyo Ko Yahan Film Mil Sakti hai to esko Bhi Meel Hi Jaayega…..

  11. yes to bas suruwat hai , hamre desh me jab last season me sunny liony ayi tabhi hame jan lena tha ki desh ka bhawishya aab andhkar ki wor jaa raha hai , hamari goverment ek taraf rape karne ko gunah manti hai but abb hamare goverment ko ekk aisa kanun banana padega jisme rape karwana ya yu kahe ki verginity break karwan bhi gunah hoga kyoki yes ek khulam khula rape hai and yes motivate karta hai unn ladkiyo ko jo abb tak chupe me karti thi………………………..

  12. Siddharth Pushkar says:

    isse khete h raato raat celebrity banna or dollor m khelna………………… one more thing I would like to explain that in foreign countries most of the girls deflorated before marriages. iss tarh des seva krni nhi keh sakte aap log.

  13. Swadesh Jain says:

    inko kya kahe |||||||||||||.

  14. bhrashtachariyon se to yes hi achchhi hain jo desh ka nahin varan apne tan ka souda kar rahi hain.

  15. Amit Mehto says:

    hai bhaigwan yes kaisi mazboori hai ki log khudd ko waich rahain hai so pls.help this girl.friends.

  16. Rajeev Kumar Singh says:

    aap ise kah sakte hai dusro k liye jeena.

  17. Nazrul Khan says:

    paise ke liye log apne watan ki bhi boli lagwa rahe hain yes to kam se kam khud ki nilami hi karwayi hain.

पाठक चाहे आलेखों से सहमत हों या असहमत, किसी भी लेख पर टिप्पणी करने को स्वतंत्र हैं. हम उन टिप्पणियों को बिना किसी भेद-भाव के निडरता से प्रकाशित भी करते हैं चाहे वह हमारी आलोचना ही क्यों न हो. आपसे अनुरोध है कि टिप्पणियों की भाषा संयत एवं शालीन रखें - मॉडरेटर

You might also like...

पैराडाइज़ पेपर्सः सामने आई ऐपल की गुप्त टैक्स मांद

Read More →
Page Reader Press Enter to Read Page Content Out Loud Press Enter to Pause or Restart Reading Page Content Out Loud Press Enter to Stop Reading Page Content Out Loud Screen Reader Support
%d bloggers like this: