/दाऊद से विवेकानंद की तुलना भारी पड़ेगी गडकरी को…

दाऊद से विवेकानंद की तुलना भारी पड़ेगी गडकरी को…

पूर्ति पॉवर एंड सुगर लिमिटेड के ज़रिये अपने ड्राइवर से लेकर माली तक को निदेशक बना समाजवाद के मसीहा के रूप में उभरे भाजपा अध्यक्ष नितिन गडकरी अब अपराधियों और संतों का आई क्यू स्तर नापने का पैमाना भी बन गए हैं. हाल ही में गडकरी द्वारा स्वामी विवेकानंद और माफिया सरगना दाऊद इब्राहिम के आईक्यू [इंटैलीजेंस क्वोशंट] स्तर को समान बताए जाने को लेकर सोमवार को राजनीतिक तेज हो गई हैं. कांग्रेस ने भाजपा अध्यक्ष के इस बयान की कड़ी आलोचना करते हुए उनसे सार्वजनिक माफी मागने की मांग की है.  हालांकि, नितिन गडकरी ने अपने बयान का खंडन करते कहा है कि उन्होंने दाऊद और स्वामी विवेकानंद की कभी कोई तुलना नहीं की, न ही इसमें तुलना करने लायक कुछ है.

गौरतलब है कि भाजपा अध्यक्ष नितिन गडकरी ने भोपाल में महिलाओं की पत्रिका ओजस्विनी के एक कार्यक्रम में स्वामी विवेकानंद की तुलना अंडरव‌र्ल्ड डॉन और भारत में मुंबई सीरियल ब्लास्ट के आरोपी दाऊद इब्राहिम से की थी.  उन्होंने कहा था कि इन दोनों का ही आईक्यू लेवल एक समान है लेकिन दोनों की जिंदगी की दिशा अलग थी.  एक ने इसका इस्तेमाल समाज की बेहतरी के लिए किया तो दूसरे ने गुनाह के लिए किया.

हालांकि, भाजपा अध्यक्ष ने अपने बयान का खंडन करते कहा कि उन्होंने दाऊद और स्वामी विवेकानंद की कभी कोई तुलना नहीं की, न ही इसमें तुलना करने लायक कुछ है.  वहीं, भाजपा नेता बलबीर पुंज ने भी नितिन गडकरी का बचाव करते हुए दाऊद और स्वामी विवेकानंद के बीच समानता होने की बात का खंडन किया है. उन्होंने कहा कि भाजपा अध्यक्ष ने इस तरह की कोई बात नहीं कही है.

गडकरी के बयान पर कांग्रेस महासचिव दिग्विजय सिंह ने कड़ी आपत्ति जताई हैं. काग्रेस नेता दिग्विजय सिंह ने भाजपा पर उसके अध्यक्ष नितिन गडकरी की उस टिप्पणी को लेकर कटाक्ष किया कि स्वामी विवेकानंद और दाउद इब्राहिम के आईक्यू को देखा जाए, तो वे एक समान पाई जाती.

दिग्विजय सिंह ने अपने ट्वीट में चुटकी लेते हुए कहा कि गडकरी फर्जी कंपनी बनाने में शामिल रहे हैं-सही.  गडकरी एक व्यापारी हैं-सही .  दिग्विजय सिंह ने अनेक ट्वीट किए हैं जिसके जरिए इस बात को पुख्ता बनाने का प्रयास किया गया है कि उन्होंने जो मुद्दे उठाये थे उन पर वह हमेशा सही साबित हुए हैं.

भाजपा अध्यक्ष के इस बयान की कड़ी आलोचना करते हुए केंद्रीय सूचना एंव प्रसारण मंत्री मनीष तिवारी ने कहा तो क्या गडकरी का आईक्यू स्तर कसाब के बराबर है.  मनीष तिवारी ने कहा, गडकरी को अपने बयान के लिए माफी मांगनी चाहिए.  उनका कहना है कि यदि हम गडकरी के आईक्यू को कसाब से तुलना करें तो क्या होगा?

वहीं, काग्रेस के मीडिया प्रभारी मानक अग्रवाल ने भी कहा कि गडकरी ने विवेकानंद की तुलना दाऊद से कर के अपना आईक्यू स्तर स्पष्ट कर दिया है.  गडकरी पहले खुद अपना आईक्यू ठीक करें. अग्रवाल ने गडकरी से उन्हें अपने बयान पर सार्वजनिक माफी मागने की मांग की है.

मालूम हो कि मध्य प्रदेश के एक दिवसीय प्रवास पर आए गडकरी ने रविवार रात राजधानी भोपाल के रवींद्र भवन में विभिन्न क्षेत्रों की अग्रणी महिलाओं को सम्मानित करने के लिए आयोजित ओजस्विनी अलंकरण समारोह में विवेकानंद के आईक्यू स्तर की तुलना दाउद इब्राहिम के आईक्यू स्तर से कर डाली.  अपने व्यवसाय को लेकर विवादों में घिरे नितिन गडकरी ने कहा कि विवेकानंद व दाऊद का आईक्यू समान है, मगर दोनों ने अपने आईक्यू का उपयोग अलग-अलग क्षेत्रों में किया.  काग्रेस कार्यकर्ताओं ने राजधानी भोपाल में गडकरी का पुतला फूंका.

Facebook Comments

संबंधित खबरें:

मीडिया दरबार के मॉडरेटर 1979 से पत्रकारिता से जुड़े हैं. एक साप्ताहिक से शुरूआत के बाद अस्सी के दशक में स्वतंत्र पत्रकार बतौर खोजी पत्रकारिता में कदम रखा, हिंदी के अधिकांश राष्ट्रीय अख़बारों में हस्ताक्षर. उसी दौरान राजस्थान के अजमेर जिले के एक सशक्त राजनैतिक परिवार द्वारा एक युवती के साथ किये गए खिलवाड़ पर नवभारत टाइम्स के लिए लिखी रिपोर्ट वरिष्ठ पत्रकार श्री मिलाप चंद डंडिया की पुस्तक "मुखौटों के पीछे - असली चेहरों को उजागर करते पचास वर्ष" में भी संकलित की गयी है. कुछ समय के लिए चौथी दुनियां के मुख्य उपसंपादक रहे किन्तु नौकरी कर पाने के लक्खन न होने से तेईस दिन में ही चौथी दुनिया को अलविदा कह आये. नब्बे के दशक से पिछले दशक तक दूरदर्शन पर समसामयिक विषयों पर प्रायोजित श्रेणी में कार्यक्रम बनाते रहे. अब वैकल्पिक मीडिया पर सक्रिय.