Loading...
You are here:  Home  >  मीडिया  >  Current Article

पत्रकारों के रंगरेलियां कांड में जांच के आदेश, एसओ लाइन-हाजिर

By   /  November 14, 2012  /  12 Comments

    Print       Email
इस खबर को अपने मित्रों से साझा करें..

पत्रकारों के रंगरेलियां कांड में जांच के आदेश, एसओ लाइन-हाजिर, बिजलीघर प्रबंधन ने भी कड़ी कार्रवाई के तहत जांच के आदेश दिये, बुकिंग कराने वाले पत्रकार पर भी लटकी तलवार, पत्रकारों में हड़कंप, छात्रनेता और बिजली कर्मचारियों ने भी जांच की मांग की….

-कुमार सौवीर||

लखनऊ: सोनभद्र में बिजली उत्‍पादन विभाग के वीवीआईपी गेस्‍ट हाउस में रंगरेलियां मनाने के खुलासे से हड़कंप मच गया है। बिजली के आला अफसर ने इस बात की जांच के आदेश कर दिये हैं कि इन पत्रकारों को किस आधार पर गेस्‍ट हाउस में बुक कराया गया था और किसकी शह पर वहां अनैतिक व्‍यवहार चल रहा था। उधर खबर है कि ओबरा पुलिस थाने के इंचार्ज को हटा कर लाइन हाजिर कर दिया गया है। पता चला है कि गेस्‍ट हाउस को बुक कराने वाले ब्‍यूरो प्रमुख के खिलाफ उक्‍त राष्‍ट्रीय दैनिक अखबार प्रबंधन ने जांच शुरू कर दी है। अनेक संगठनों और समाजसेवियों ने भी इस मामले की फौरन निष्‍पक्ष जांच की मांग की है।

बताते चलें कि गत 9 नवम्‍बर को यहां के ओबरा स्थित बिजली विभाग के वीवीआईपी गेस्‍टहाउस में यहां के तीन बड़े स्‍थानीय पत्रकारों ने एक कॉलगर्ल के साथ रंगरेलियां मनायीं। यहां चल रहे अनैतिक व्‍यवहार की खबर मिलने पर पुलिस ने छापा मारकर महिला समेत तीनों पत्रकारों को रंगेहाथ दबोच लिया था। लेकिन इसी बीच कई एमएलए से लेकर लखनऊ के बड़े अफसरों और पत्रकारों की सिफारिशों वाले फोन घनघनाने शुरू हो गये तो दुबकी हुई पुलिस ने आनन-फानन में मामला हमेशा-हमेशा के लिए खत्‍म कर दिया। बताते हैं कि रंगरेली कांड में लिप्‍त रहे इन तीनों पत्रकारों की हैसियत करोड़ों रूपयों की है और वे कई क्रशर और खनन व्‍यवसाय से जुड़े हैं।

इस गेस्‍ट हाउस रंगरेली कांड का खुलासा होते ही पुलिस के आला अफसर ने कड़ी कार्रवाई करते हुए ओबरा पुलिस के थानाध्‍यक्ष हरीश यादव को लाइन हाजिर कर दिया है। पुलिस अधीक्षक सुभाष दुबे के आदेश के मुताबिक अब इस थाने पर अरविंद यादव को कमान थमायी गयी है। हालांकि हरीश यादव पर हुई यह कार्रवाई दूसरे अन्‍य मामलों के आधार पर भी की गयी है। ओबरा बिजली उत्‍पादन गृह के मुख्‍य महाप्रबंधक पी प्रसाद ने भी इस मामले को गंभीरता से लिया है और वीवीआईपी गेस्‍ट हाउस में पत्रकारों के नाम पर कमरा बुक कराने की जांच के आदेश दे दिये हैं। पता चला है कि बुकिंग करा कर वहां अपने दोस्‍तों के साथ रंगरेलियां मनाने वाले पत्रकार के खिलाफ उसके अपने ही प्रबंधक ने कड़ी कार्रवाई शुरू कर दी है। समझा जाता है कि जल्‍दी ही यहां कई लोगों पर निशाना लग सकता है।

उधर बिजली कर्मचारियों के संगठन के एक वरिष्‍ठ नेता विजय सिंह ने ओबरा प्रशासन और सीजीएम को पत्र लिख कर मामले पर कड़ी कार्रवाई करने का अनुरोध किया है। जबकि स्‍थानीय छात्र नेता विजय शंकर यादव ने मुख्‍यमंत्री समेत जिलाधिकारी और पुलिस अधीक्षक को पत्र लिख कर ऐसे पतित पत्रकारों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई की मांग की है। श्री यादव ने मुख्‍यमंत्री की वेब साइट पर भी पूरा वाकया बयान कर दिया है।

Facebook Comments

इस खबर को अपने मित्रों से साझा करें..
    Print       Email

About the author

मीडिया दरबार के मॉडरेटर 1979 से पत्रकारिता से जुड़े हैं. एक साप्ताहिक से शुरूआत के बाद अस्सी के दशक में स्वतंत्र पत्रकार बतौर खोजी पत्रकारिता में कदम रखा, हिंदी के अधिकांश राष्ट्रीय अख़बारों में हस्ताक्षर. उसी दौरान राजस्थान के अजमेर जिले के एक सशक्त राजनैतिक परिवार द्वारा एक युवती के साथ किये गए खिलवाड़ पर नवभारत टाइम्स के लिए लिखी रिपोर्ट वरिष्ठ पत्रकार श्री मिलाप चंद डंडिया की पुस्तक “मुखौटों के पीछे – असली चेहरों को उजागर करते पचास वर्ष” में भी संकलित की गयी है. कुछ समय के लिए चौथी दुनियां के मुख्य उपसंपादक रहे किन्तु नौकरी कर पाने के लक्खन न होने से तेईस दिन में ही चौथी दुनिया को अलविदा कह आये. नब्बे के दशक से पिछले दशक तक दूरदर्शन पर समसामयिक विषयों पर प्रायोजित श्रेणी में कार्यक्रम बनाते रहे. अब वैकल्पिक मीडिया पर सक्रिय.

12 Comments

  1. Vishnu Gupta says:

    in ghagh patrkaro ne puri media ko sharmshar kar sonbhadra ko badnaam kar rakha hai

  2. patarkar.ho.jo.bhigalat.to.galt.hi

  3. do log agar sahmati se enjoy kar rhe hai to isme kisi ko problem isliye hota hai ki yes log irshya se grast hai qki unhe mauka nhi mil rha hai.

  4. आप किसी अफवाह पर ना जाये सच्चाई जानने की कोशिश करे ये भारत के हर
    नागरिक का हक हैं क्युकी हम सब इसी समाज से जुड़े हैं !
    १.बिना जाँच के कैसे साबित किया आपने की एस. ओ. ओबरा गलत हैं,
    २.पत्रकारों के खिलाफ क्या साबुत हैं आपके पास
    ३.पत्रकार रंगरलियो में ही उन्हें लाइन हाज़िर कराया गया आपको किसने पुख्ता साबुत दिया
    ४. अगर आपके पास कोई साबुत नहीं हैं तो आप मेरी गुहार सुनकर इस न्यूज़ को ज़रूर लगाये की अब तक क्यों नहीं हुआ खुलासा कंही ये सब सारी अफवाह तो नहीं

  5. समाज का हिस्सा ही है पत्रकार , जैसा वातावरण बन रहा है यही तो होगा है जब देश में सामाजिक;नैतीक और आर्थिक पतन करने वाले सत्ता के ऊँचे गलियारों में बैठकर सम्मान पा रहे है तो चरित्र लेकर ही परिभाषा बदल रही है इसीलिए इस तरह की घटनाये बढ रही है । समूचे मामले में सुविधाए उपलब्ध कराने वालो की मंशा किस मामले को दबाने की थी इसकी भी जाँच होनी चाहिए ।.

  6. ye agar sach hai to wakai me bahut sharm ki bat hai

  7. sonebhadra obra v.i.p.guest house me 3kathit patrkaro ke dwara ayyashi ke news ko kisi paper me na aana bahut hi sharm ki bat hai is ghatna ke bhadas4media aur mediadarbar me aane ke bad pure sonebhadra me logo khud print karwakar logo ko baat rahe hai isse sabit hota hai ki is ghatna ko lekar logo me kitna akrosh hai 09984718699.

  8. Sandeep Gsvm says:

    y to inka roz k kam h, pata to sirf is bar chal paya h.

  9. नगर ओबरा का vip गेस्ट हाउस प्रकरण नगर ओबरा में चर्चा का विषय बना हु है / पत्रकार समाज के दर्पण है / वेब साईट के माध्यम से मिली खबर को आम जन फोटो कापी करा कर पढ़ रहे है / प्रिंट मिडिया में भी खबर पढने को मिलेगा यह इंतजार है आम जन को / विजय शंकर यादव राष्टीय सचिव भारतीय छात्र उठान समिति /संयोजक छात्र.
    संघर्स समिति http://vijaystudentleader.blogspot.in/ 9450161383.

  10. krishnasingh says:

    sauvir g maan gaye aapko is khabar ko prakashi karne ki sonebhdr ke kisi patrkar me dam nahi thi isme lipt logo pe gaaj girne ka daur shuru ho gaya hai aapke bold patrkarita ko salam

    • कुमार सौवीर, लखनऊ says:

      कृष्‍ण सिंह जी,
      धन्‍यवाद।
      अनुरोध है कि इस मामले में जो भी प्रगति हो, कृपया बताते रहें।
      मेरा फोन नम्‍बर है 9415302520
      कुमार सौवीर

पाठक चाहे आलेखों से सहमत हों या असहमत, किसी भी लेख पर टिप्पणी करने को स्वतंत्र हैं. हम उन टिप्पणियों को बिना किसी भेद-भाव के निडरता से प्रकाशित भी करते हैं चाहे वह हमारी आलोचना ही क्यों न हो. आपसे अनुरोध है कि टिप्पणियों की भाषा संयत एवं शालीन रखें - मॉडरेटर

You might also like...

राजस्थान के पत्रकार सरकार के समक्ष घुटने टेकने पर विवश हैं..

Read More →
Page Reader Press Enter to Read Page Content Out Loud Press Enter to Pause or Restart Reading Page Content Out Loud Press Enter to Stop Reading Page Content Out Loud Screen Reader Support
%d bloggers like this: