Loading...
You are here:  Home  >  अपराध  >  Current Article

दहेज़ न देने पर पत्नी की चमड़ी उधेड़ दी

By   /  January 5, 2013  /  9 Comments

    Print       Email
इस खबर को अपने मित्रों से साझा करें..

-चन्दन भाटी||
बाड़मेर। महिला अत्याचार का बाड़मेर जिले में एक ओर मामला दर्ज हुआ है। पति ने पत्नी को बंधक बनाकर इतनी बेरहमी से पीटा कि उसकी चमड़ी उधेड़ दी। गनीमत रही कि पीहरपक्ष को समय पर खबर हो गई और वे इसे छुड़ाकर ले आए। पुलिस में मामला दर्ज होते ही तुरंत कार्यवाही कर आरोपी पति, ससुर और सास को दहेज प्रताड़ना के मामले में गिरफ्तार किया गया। dahez

रामसर थानान्तर्गत चाडी गांव में एक महिला को उसके पति व सास-ससूर ने दहेज के लिए प्रताडित किया और गुरूवार को उसको रस्सी से बांध कर बेरहमी से मारपीट की। इसकी सूचना मिलने पर पीडिता के पीहर पक्ष के लोग पहुंचे और उसे छुड़ा कर ले गए।

शुक्रवार को पीडिता ने अपने दादा के साथ रामसर थाने पहुंच मामला दर्ज करवाया। थानाधिकारी नरपतदान ने मामले की गंभीरता को देखते हुए dahez2तत्काल मौका मुआवना कर आरोपियों को गिरफ्तार किया। थानाधिकारी नरपतदान ने बताया कि बांकाराम पुत्र अचलाराम निवासी जैसार ने थाने पहुंच कर मामला दर्ज करवाया कि उसकी पोती खेमी देवी की शादी करीब एक साल पहले चाडी निवासी श्रीराम पुत्र खेताराम के साथ हुई थी। शादी के बाद से ही ससुराल पक्ष के लोग उसको दहेज के लिए तंग कर रहे थे और अकसर मारपीट भी करते थे। गुरूवार को उन्होंने खेमीदेवी को बांध कर बेरहमी से पीटा।

इसकी सूचना पर वे वहां पहुंचे और उसे छुड़ा पीहर ले गए। शुक्रवार को उन्होंने रामसर थाने में मामला dahej 3दर्ज करवाया। मामले को देखते हुए जिला पुलिस अधीक्षक राहुल बारहठ ने तुरंत कार्यवाही के निर्देश दिए। इस पर थानाधिकारी मौके पर पहुंचे। मौका मुआवना व गवाहों के बयान के आधार पर प्रथम दृष्टया मामला सही पाया गया। पुलिस ने तुरंत कार्यवाही करते हुए पीडिता के पति श्रीराम, ससुर खेताराम व सास झीमोंदेवी को गिरफ्तार किया।

पूर्व में हत्या का मामला
आरोपित पति पर 2007 में अपने पड़ौसी की हत्या करने का मामला दर्ज है। इस प्रकरण में वह न्यायिक अभिरक्षा में भी रह चुका है।

Facebook Comments

इस खबर को अपने मित्रों से साझा करें..
    Print       Email

About the author

मीडिया दरबार के मॉडरेटर 1979 से पत्रकारिता से जुड़े हैं. एक साप्ताहिक से शुरूआत के बाद अस्सी के दशक में स्वतंत्र पत्रकार बतौर खोजी पत्रकारिता में कदम रखा, हिंदी के अधिकांश राष्ट्रीय अख़बारों में हस्ताक्षर. उसी दौरान राजस्थान के अजमेर जिले के एक सशक्त राजनैतिक परिवार द्वारा एक युवती के साथ किये गए खिलवाड़ पर नवभारत टाइम्स के लिए लिखी रिपोर्ट वरिष्ठ पत्रकार श्री मिलाप चंद डंडिया की पुस्तक “मुखौटों के पीछे – असली चेहरों को उजागर करते पचास वर्ष” में भी संकलित की गयी है. कुछ समय के लिए चौथी दुनियां के मुख्य उपसंपादक रहे किन्तु नौकरी कर पाने के लक्खन न होने से तेईस दिन में ही चौथी दुनिया को अलविदा कह आये. नब्बे के दशक से पिछले दशक तक दूरदर्शन पर समसामयिक विषयों पर प्रायोजित श्रेणी में कार्यक्रम बनाते रहे. अब वैकल्पिक मीडिया पर सक्रिय.

9 Comments

  1. Saumya Purohit says:

    sham upon society

  2. Anonymous says:

    ho skta hai eske pitne ka karan kuch or ho, yes mujhe pakka pta h ki yes dahej ka aarop uspar galat lagaya ja rha hai, jab yes galat hoti hai or galtiyan saamne aa jati h tb jakar husband ko pta lgne pr yes khuch naatkiy andaj me yes khel rachti h, naki ki koi enhe dahej k liye ptadit krta hai , kaaran kuch or hi hota h, bhale hi es cause ki inqury kyon na ki jaye , esme reason kuch or hi hoga.

  3. Kailash Gupta says:

    Need to file a police report to get husband arrested , prosecuted in a swift court for violence against women and put him in a jail for a long period . Govt should assist this woman financially and help her to become financially independent some day !

  4. Narayan Singh Gogadev Bhungra says:

    Aur ek bat bolu kya mene kisi ladki ke wall pe he isliye ye coment nahi kiye hum shaschai ke sath he

  5. Narayan Singh Gogadev Bhungra says:

    Is drende ko aisa saza di jaaye ki iska bad aisa kisi ke sath na ho I am Narayansingh rathore

  6. Narayan Singh Gogadev Bhungra says:

    Kisi garib ke ghar me beti janam leti he to uska baap use mar deta he isliye baap mazbur ho jata he kyo ki wo sochta he ki kal ye badi hogi tab me iske dahej ke liye paisa gadi bangla kanha se launga isliye betiya khatm kar di jati he

  7. Narayan Singh Gogadev Bhungra says:

    Wah re insan kya ho gya tujhe kyu insaniyat ko sarmsar kar rha he akhir har kisi ko kama ke khana padta he lekin phir bhi dahej ke liye bheekh mangta he

  8. Usha Rathore says:

    mujhe yanha galiya dene m jra bhi sram v sankoch nahi hoga…… sale ko bhare bajar m ulta tang ke marna chahiye.

  9. saale pati ko isase jyada marna chahiye.

पाठक चाहे आलेखों से सहमत हों या असहमत, किसी भी लेख पर टिप्पणी करने को स्वतंत्र हैं. हम उन टिप्पणियों को बिना किसी भेद-भाव के निडरता से प्रकाशित भी करते हैं चाहे वह हमारी आलोचना ही क्यों न हो. आपसे अनुरोध है कि टिप्पणियों की भाषा संयत एवं शालीन रखें - मॉडरेटर

You might also like...

पनामा के बाद पैराडाइज पेपर्स लीक..

Read More →
Page Reader Press Enter to Read Page Content Out Loud Press Enter to Pause or Restart Reading Page Content Out Loud Press Enter to Stop Reading Page Content Out Loud Screen Reader Support
%d bloggers like this: