/दहेज़ न देने पर पत्नी की चमड़ी उधेड़ दी

दहेज़ न देने पर पत्नी की चमड़ी उधेड़ दी

-चन्दन भाटी||
बाड़मेर। महिला अत्याचार का बाड़मेर जिले में एक ओर मामला दर्ज हुआ है। पति ने पत्नी को बंधक बनाकर इतनी बेरहमी से पीटा कि उसकी चमड़ी उधेड़ दी। गनीमत रही कि पीहरपक्ष को समय पर खबर हो गई और वे इसे छुड़ाकर ले आए। पुलिस में मामला दर्ज होते ही तुरंत कार्यवाही कर आरोपी पति, ससुर और सास को दहेज प्रताड़ना के मामले में गिरफ्तार किया गया। dahez

रामसर थानान्तर्गत चाडी गांव में एक महिला को उसके पति व सास-ससूर ने दहेज के लिए प्रताडित किया और गुरूवार को उसको रस्सी से बांध कर बेरहमी से मारपीट की। इसकी सूचना मिलने पर पीडिता के पीहर पक्ष के लोग पहुंचे और उसे छुड़ा कर ले गए।

शुक्रवार को पीडिता ने अपने दादा के साथ रामसर थाने पहुंच मामला दर्ज करवाया। थानाधिकारी नरपतदान ने मामले की गंभीरता को देखते हुए dahez2तत्काल मौका मुआवना कर आरोपियों को गिरफ्तार किया। थानाधिकारी नरपतदान ने बताया कि बांकाराम पुत्र अचलाराम निवासी जैसार ने थाने पहुंच कर मामला दर्ज करवाया कि उसकी पोती खेमी देवी की शादी करीब एक साल पहले चाडी निवासी श्रीराम पुत्र खेताराम के साथ हुई थी। शादी के बाद से ही ससुराल पक्ष के लोग उसको दहेज के लिए तंग कर रहे थे और अकसर मारपीट भी करते थे। गुरूवार को उन्होंने खेमीदेवी को बांध कर बेरहमी से पीटा।

इसकी सूचना पर वे वहां पहुंचे और उसे छुड़ा पीहर ले गए। शुक्रवार को उन्होंने रामसर थाने में मामला dahej 3दर्ज करवाया। मामले को देखते हुए जिला पुलिस अधीक्षक राहुल बारहठ ने तुरंत कार्यवाही के निर्देश दिए। इस पर थानाधिकारी मौके पर पहुंचे। मौका मुआवना व गवाहों के बयान के आधार पर प्रथम दृष्टया मामला सही पाया गया। पुलिस ने तुरंत कार्यवाही करते हुए पीडिता के पति श्रीराम, ससुर खेताराम व सास झीमोंदेवी को गिरफ्तार किया।

पूर्व में हत्या का मामला
आरोपित पति पर 2007 में अपने पड़ौसी की हत्या करने का मामला दर्ज है। इस प्रकरण में वह न्यायिक अभिरक्षा में भी रह चुका है।

Facebook Comments

संबंधित खबरें:

मीडिया दरबार के मॉडरेटर 1979 से पत्रकारिता से जुड़े हैं. एक साप्ताहिक से शुरूआत के बाद अस्सी के दशक में स्वतंत्र पत्रकार बतौर खोजी पत्रकारिता में कदम रखा, हिंदी के अधिकांश राष्ट्रीय अख़बारों में हस्ताक्षर. उसी दौरान राजस्थान के अजमेर जिले के एक सशक्त राजनैतिक परिवार द्वारा एक युवती के साथ किये गए खिलवाड़ पर नवभारत टाइम्स के लिए लिखी रिपोर्ट वरिष्ठ पत्रकार श्री मिलाप चंद डंडिया की पुस्तक "मुखौटों के पीछे - असली चेहरों को उजागर करते पचास वर्ष" में भी संकलित की गयी है. कुछ समय के लिए चौथी दुनियां के मुख्य उपसंपादक रहे किन्तु नौकरी कर पाने के लक्खन न होने से तेईस दिन में ही चौथी दुनिया को अलविदा कह आये. नब्बे के दशक से पिछले दशक तक दूरदर्शन पर समसामयिक विषयों पर प्रायोजित श्रेणी में कार्यक्रम बनाते रहे. अब वैकल्पिक मीडिया पर सक्रिय.