Loading...
You are here:  Home  >  मीडिया  >  Current Article

पूनम पांडे ने अपनी बिकनी उठाकर ट्विटर पर टांक दी….

By   /  February 15, 2013  /  8 Comments

    Print       Email
इस खबर को अपने मित्रों से साझा करें..

न्यूड फोटोशूट से हमेशा चर्चा में रहने वाली मॉडल और अभिनेत्री पूनम पांडे ने अपनी फिल्म नशा हिट करवाने के लिए ट्विटर के ज़रिये वैलेंटाइन डे पर नशा फिल्म में पहनी गयी बिकिनी को प्रतियोगिता पर लगा दिया.14feb_poonam_4

फिल्‍म नशा के साथ बॉलीवुड में कदम रखने जा रहीं पूनम पांडे ने अपनी बिकनी उठाकर ट्विटर पर टांक दी, तो लोग उसे पाने के लिये बेताब हो गये. लोगों को नहीं पता कि पूनम अपने जिस्‍म और बिकनी का इस्‍तेमाल सिर्फ अपनी फिल्‍म नशा को हिट कराने के लिये कर रही हैं. पूनम ने पहले तो अपनी बिकनी को नीलाम करने का फैसला किया.उन्‍होंने ट्विटर पर लिख दिया कि वो अपनी बिकनी नीलाम करना चाहती हैं.14feb_poonam_2 तो उनके हजारों फैंस ऐसे खुश हो गये, जैसे वो बिकनी उन्‍हें मिल ही गई हो. अब पूनम ने ट्विटर पर हैश टैग डाल दिया है #IfIGetPoonamPandeysBikini यानी अगर मुझे पूनम पांडे की बिकनी मिल जाये तो… इस हैश टैग पर ढेरों कमेंट आ रहे हैं. जाहिर सी बात है ऐसे हैश टैग पर कमेंट साफ-सुथरे तो हो नहीं सकते. शैडी मुंबई ने लिखा भगवान ही जाने पूनम की बिकनी पर न जाने कितने लोगों के फिंगर प्रिंट पहले से ही होंगे. हैदराबाद भगत लिखते हैं पूनम पांडे कुछ नहीं सिर्फ द हर्ट लॉकर की नकल कर रही हैं. उसमें भी ब्रा और पैंटी की नीलामी की गई थी. आदिल खान ने लिखा अगर मुझे पूनम की बिकनी मिल जाये तो मैं सड़क के किनारे फेंक दूंगा. अंकुर ढाका लिखते हैं कि उन्‍हें अगर पूनम की बिकनी मिली तो वो कमाल रशीद खान को गिफ्ट कर देंगे, ताकि वो उसकी सुगंध ले सकें. ट्विटर पर कई लोग पूनम की बिकनी के लिये पागल भी दिखे. सागर शर्मा ने तो बीस बार सिर्फ लव, लव लिखा वहीं राज कहते हैं पूनम का नशा 100 बोतलों से भी ज्‍यादा है.poonam-pandey-in-bikini

पूनम ने कहा कि मैं अपने फैन्स से बहुत प्यार करती हूं और मैं उनके लिए यह वैंलेंटाइन डे कुछ स्पेशल बनाना चाहती थी. एक लकी विजेता को वह बिकनी सूट मिलेगा जिसे मैंने फिल्म ‘नशा’ में पहना था. मेरे फैन्स के लिए यह उन्हें एक प्यार का तोहफा होगा. अब पूनम की बिकनी किसको मिलेगी, यह तो मालूम नहीं, लेकिन पूनम की लोकप्रियता ट्विटर पर और बढ़ गई है.

Facebook Comments

इस खबर को अपने मित्रों से साझा करें..
    Print       Email

About the author

मीडिया दरबार के मॉडरेटर 1979 से पत्रकारिता से जुड़े हैं. एक साप्ताहिक से शुरूआत के बाद अस्सी के दशक में स्वतंत्र पत्रकार बतौर खोजी पत्रकारिता में कदम रखा, हिंदी के अधिकांश राष्ट्रीय अख़बारों में हस्ताक्षर. उसी दौरान राजस्थान के अजमेर जिले के एक सशक्त राजनैतिक परिवार द्वारा एक युवती के साथ किये गए खिलवाड़ पर नवभारत टाइम्स के लिए लिखी रिपोर्ट वरिष्ठ पत्रकार श्री मिलाप चंद डंडिया की पुस्तक “मुखौटों के पीछे – असली चेहरों को उजागर करते पचास वर्ष” में भी संकलित की गयी है. कुछ समय के लिए चौथी दुनियां के मुख्य उपसंपादक रहे किन्तु नौकरी कर पाने के लक्खन न होने से तेईस दिन में ही चौथी दुनिया को अलविदा कह आये. नब्बे के दशक से पिछले दशक तक दूरदर्शन पर समसामयिक विषयों पर प्रायोजित श्रेणी में कार्यक्रम बनाते रहे. अब वैकल्पिक मीडिया पर सक्रिय.

8 Comments

  1. shame to girl image. keep Indian culture up you know…

  2. Mahender Singh Thakur says:

    ponam jisi ladkiyo ki vajaha se desh ki aur ladkiyo ko paresani ka samna karna padta h nari ko ma luxmi ka darza diya gaya h pel ponam apni publicityi k liye kapde mat utara karo.

  3. ASHOK SHARMA says:

    प्रशिद्धि पाने के लिए लोग क्या क्या करते है

  4. apni man mariyada……mai hi rahna bahtar….sabhye raho.

  5. YE LARKI KE NAAM PER KALANCK HAI YAR.

  6. shiva jai ji hum tak khaber phuchane ke kiye apka dhanyibad.

  7. is tarha ke photo ka kiya matlab yes kiya dikha chahti……….or jodhikana.chahti wo thik nahi.

पाठक चाहे आलेखों से सहमत हों या असहमत, किसी भी लेख पर टिप्पणी करने को स्वतंत्र हैं. हम उन टिप्पणियों को बिना किसी भेद-भाव के निडरता से प्रकाशित भी करते हैं चाहे वह हमारी आलोचना ही क्यों न हो. आपसे अनुरोध है कि टिप्पणियों की भाषा संयत एवं शालीन रखें - मॉडरेटर

You might also like...

एक जज की मौत : The Caravan की सिहरा देने वाली वह स्‍टोरी जिस पर मीडिया चुप है..

Read More →
Page Reader Press Enter to Read Page Content Out Loud Press Enter to Pause or Restart Reading Page Content Out Loud Press Enter to Stop Reading Page Content Out Loud Screen Reader Support
%d bloggers like this: