Loading...
You are here:  Home  >  अपराध  >  Current Article

अपहरण होते देख लडकी ने पेपर स्प्रे कर खुद को बचाया…

By   /  February 22, 2013  /  1 Comment

    Print       Email
इस खबर को अपने मित्रों से साझा करें..

दिल्ली गैंगरेप के बाद अब महिलाएं आत्मसुरक्षा के लिए अपने साथ कुछ ना कुछ ऐसा रखने लगी हैं जो कि किसी मुसीबत के समय उसके काम आ सके और उसे सुरक्षित रख सके. इसका एक ताजा उदाहरण pepper sprayहैदराबाद में देखने को मिला जहां 22 साल की एक लड़की ने खुद को अपहरणकर्ता से बचाने के प्रयास में उन पर पेपर स्प्रे का स्त्राव कर दिया.

यह घटना मंगलवार रात को घटित हुई जब लड़की ने घर जाने के लिए एक ऑटो पकड़ा. उसके साथ उसका दोस्त भी था और उसने ‍ड्राइवर को रोज के रास्ते से अलग रास्ते पर ले जाने के लिए कहा. लड़की को दाल में कुछ काला लगा और उसने अपनी सहेली को कॉल किया जिसने पुलिस को सुचना दे दी.

लड़की के दोस्त और उसमें थोड़ी से झड़प हुई.लड़की ने उस पर पेपर स्प्रे का स्त्राव कर ऑटो से नीचे कूद गयी. ऑटो ड्रायवर और उसके दोस्त को पुलिस ने हिरासत में ले लिया है और लड़की अभी अस्पताल में भर्ती है.

Facebook Comments

इस खबर को अपने मित्रों से साझा करें..
    Print       Email

About the author

मीडिया दरबार के मॉडरेटर 1979 से पत्रकारिता से जुड़े हैं. एक साप्ताहिक से शुरूआत के बाद अस्सी के दशक में स्वतंत्र पत्रकार बतौर खोजी पत्रकारिता में कदम रखा, हिंदी के अधिकांश राष्ट्रीय अख़बारों में हस्ताक्षर. उसी दौरान राजस्थान के अजमेर जिले के एक सशक्त राजनैतिक परिवार द्वारा एक युवती के साथ किये गए खिलवाड़ पर नवभारत टाइम्स के लिए लिखी रिपोर्ट वरिष्ठ पत्रकार श्री मिलाप चंद डंडिया की पुस्तक “मुखौटों के पीछे – असली चेहरों को उजागर करते पचास वर्ष” में भी संकलित की गयी है. कुछ समय के लिए चौथी दुनियां के मुख्य उपसंपादक रहे किन्तु नौकरी कर पाने के लक्खन न होने से तेईस दिन में ही चौथी दुनिया को अलविदा कह आये. नब्बे के दशक से पिछले दशक तक दूरदर्शन पर समसामयिक विषयों पर प्रायोजित श्रेणी में कार्यक्रम बनाते रहे. अब वैकल्पिक मीडिया पर सक्रिय.

1 Comment

  1. Gavendra rai says:

    Ab samay aa gaya aise lafango ko mutod jabab dene ka . Ladkiyo ko es Hyderabad ladki jisne paper sprey k dwra apna bachv hi nahi balki un dost ko pakdwane me bhi badi sujh bujh se kam liya ease ladkiyo ko prerna leni chahiye……

पाठक चाहे आलेखों से सहमत हों या असहमत, किसी भी लेख पर टिप्पणी करने को स्वतंत्र हैं. हम उन टिप्पणियों को बिना किसी भेद-भाव के निडरता से प्रकाशित भी करते हैं चाहे वह हमारी आलोचना ही क्यों न हो. आपसे अनुरोध है कि टिप्पणियों की भाषा संयत एवं शालीन रखें - मॉडरेटर

You might also like...

पनामा के बाद पैराडाइज पेपर्स लीक..

Read More →
Page Reader Press Enter to Read Page Content Out Loud Press Enter to Pause or Restart Reading Page Content Out Loud Press Enter to Stop Reading Page Content Out Loud Screen Reader Support
%d bloggers like this: