Loading...
You are here:  Home  >  दुनियां  >  देश  >  Current Article

तिहाड़ पर खड़ा सवालिया निशान

By   /  March 14, 2013  /  2 Comments

    Print       Email
इस खबर को अपने मित्रों से साझा करें..

-बशु जैन||
दिल्ली गैंगरेप के मुख्यआरोपी रामसिंह ने तिहाड़ जेल में फांसी लगाकर खुदकुशी कर ली या यूं कहें कि उसे अपने किए हुए का अहसास हो गया और उसने इतना बड़ा कदम उठाया। tihar-jailइस कथित आत्महत्या ने देश की सबसे सुरक्षित जेल मानी जाने वाली तिहाड़ की सुरक्षा पर सवालिया निशान लगा दिया है।
तिहाड़ जेल एशिया की सबसे बड़ी और सुरक्षित जेल मानी जाती है। कुख्यात अपरधियों और आतंकियों को इसी जेल में रखा जाता है। भारत के सारे हाई प्रोफाइल कैदी भी इसी जेल में रखे जाने से इसे हाई प्रोफाइल जेल का खिताब मिला है। वर्तमान में तिहाड़ जेल में करीब 13000 कै दी बंद हैं।
एक अध्ययन के मुताबिक भारतीय जेलों में औसतन 40 कै दी हर साल आत्महत्या करते हैं। जिनमें अधिकांशत: 25 से 35 साल की उम्र के होते हैं। मनोचिकित्सकों की रिपोर्ट यह भी कहती है सीसीटीवी कैमरे, मोबाइल फोन जैम करने के उपकरण, स्कैनर और मेटल डिटेक्टर से लैस तिहाड़ जेल में वर्ष 2001 से अप्रैल 2012 तक करीब 20 कैदियों ने आत्महत्या की। जबकि दो कैदियों ने इस वर्ष आत्महत्या की है। यही नहीं तिहाड़ जेल में आत्महत्या की घटनाओं पर कोर्ट भी चिंता व्यक्त कर चुका है। इस तरह के मामलों में पहले भी मजिस्ट्रेट जांच के आदेश दिए गए हैं। इन सबके बावजूद ऐसे मामले रोकने के ठोस उपाय नहीं हो पा रहे हैं।
दिल्ली गैंगरेप के बाद देशभर में जो आक्रोश पनपा, उससे पहले से ही सभी आरोपी डरे हुए थे। उनके साथ जेल में साथी कैदियों द्वारा अच्छा बर्ताव नहीं किया गया। इन सभी आरोपियों को सुसाइड वाच में रखा गया था। सुसाइड वाच में कैदी पर सिर्फ नजर रखी जाती है, उन्हें किसी तरह का इलाज या काउंसलिंग नहीं दी जाती है। यह तब भी संभव हो सकता है कि जब जेल में कैदियों की संख्या कम हो और न्याय व्यवस्था बेहतर हो। एक अच्छी व्यवस्था से न सिर्फ अपराधियों को दंड मिलेगा साथ ही अपराधों में कमी आएगी।

 

Facebook Comments

इस खबर को अपने मित्रों से साझा करें..
    Print       Email
  • Published: 5 years ago on March 14, 2013
  • By:
  • Last Modified: March 14, 2013 @ 12:28 am
  • Filed Under: देश

2 Comments

  1. Jab sarkar yon sambandh ke liye 16 sal tay karti hai to matdan ki umra bhi tatha sarkari noukari mebhi 16 warsh ki sa tay ki jani chahiye.

  2. b l tiwari says:

    jail mai jane ke bad apradhi apni sahi jankari deta hai ki usne apradh kiya ya nahi yaa jhutha fasaya gaya hai ye jankari jailar ko wanha ke adhikariyo ko bilkul sahi janakari ho jati hai moto tor se ye baat samne aayi hai ki 65%kaidi jhuthe caseso mai fasay gaye hai garib kamjor lachar log jo bade bakil nahi karsakte paisa nahi hai ies nurk mai fase pade hai ien ridosho ki awaaz kanhi bhi sunayee nahi deti iesi se ye aatim hattiya karen ki yojana karte hai khula sarve karaye jaye to baat samne aasakti hai ye sachchayee hai naiya bahut mahaga ho chuka hai jo kharid le use mil jayega

पाठक चाहे आलेखों से सहमत हों या असहमत, किसी भी लेख पर टिप्पणी करने को स्वतंत्र हैं. हम उन टिप्पणियों को बिना किसी भेद-भाव के निडरता से प्रकाशित भी करते हैं चाहे वह हमारी आलोचना ही क्यों न हो. आपसे अनुरोध है कि टिप्पणियों की भाषा संयत एवं शालीन रखें - मॉडरेटर

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

You might also like...

पुलिस में महिलाओं का कम होना अखिल भारतीय समस्या

Read More →
Page Reader Press Enter to Read Page Content Out Loud Press Enter to Pause or Restart Reading Page Content Out Loud Press Enter to Stop Reading Page Content Out Loud Screen Reader Support
%d bloggers like this: