/आईपीएल फाइनल फिक्स था और सबकुछ बैटिंग के हिसाब से निपट गया..

आईपीएल फाइनल फिक्स था और सबकुछ बैटिंग के हिसाब से निपट गया..

सबसे खतरनाक बात यह है कि क्रिकेट कीबीमारी कासंक्रमण अब दूसरे खेलों में तय है क्योंकि हाकी, फुटबाल और बैडमिंटन समेत तमाम खेलों के प्रीमियर लीग के तमाशे की शुरुआत हो चुकी है।

-एक्सकैलिबर स्टीवेंस विश्वास​||

आईपीएल फाइनल मैच खोलकाता के इडेन गार्डन में जुआरियों की पसंद के मुताबिक मुंबई इंडियंस ने जीता। पहली बात तो यह कि आईपीएल अनुबंध के मुताबिक इस मैच में किसी भी हालत में चेन्नई सुपरकिंग को खेलना नहीं था। इस टीम के मालिक मयप्पन बेटिंग के निर्दिष्ट आरोप में गिरफ्तार हो चुके हैं। चेन्नई टीम, इसके ओनर इंडियन टीम और भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड के अध्यक्ष व मयप्पन के श्वसुर श्रीनिवासन के दावे के विपरीत मयप्पन ही इस टीम के सीईओ और मालिक हैं, ऐसे सबूत भी आ चुके हैं। कायदे से चेन्नई सुपर किंग को प्रतिबंधित हो जाना था और मुंबई इंडियन को चैंपियन घोषित कर देना था। अगर फाइनल मैच खेलना ही था तो मुकाबला मुंबई इंडियन और चेन्नई सुपर किंग के बदले मुबई इंडियन और राजस्थान रायल्स के बीच होना था।raina_dhoni_iplcsk630

ऐसा नहीं हुआ। भारतीय क्रिकेट बोर्ड के अध्यक्ष को इस्तीफा दे देना चाहिए था और जैसा कि उनका दावा है कि इस घोटाले के लिए लभी जिम्मेदार हैं, आईपीएल कमिश्नर राजीव शुक्ल और बोर्ड के तमाम पदाधिकारियों को त्यागपत्र दे देना था। श्रीनिवासन को गिर्फातार कर लिया जाना था। लेकिन ऐसा कुछ नहीं हुआ।अपनी अपनी गरदन बचाने के लिए सभी लोग श्रीनिवासन के पक्ष में खड़े हो गये।बेशर्मी की हद तो तब हुई कि अपने बचाव में श्रीनिवासन ने न केवल प्रेस को संबोधित किया बल्कि फाइनल के बाद पुरस्कार भी दिये। ईडन गार्डेन में बीसीसीआई अध्यक्ष एन श्रीनिवासन को लोगों का जबरदस्त गुस्सा झेलना पड़ा। आईपीएल 6 फाइनल में मुंबई की जीत के बाद पुरस्कार समारोह में श्रीनिवासन का नाम जैसे ही रवि शास्त्री ने पुकारा, स्टेडियम में हूटिंग की गई।

आईपीएल विवादों में फंसे श्रीनिवासन के दामाद गुरुनाथ मेयप्पन को लेकर लोगों का ग़ुस्सा श्रीनिवासन पर उतरा। स्टेडियम में मौजूद हज़ारों क्रिकेट प्रेमियों ने श्रीनिवासन की हूटिंग की। ईडन गार्डेन का माहौल साल 2010 में हुए कॉमनवेल्थ गेम्स के समापन समारोह में आईओए अध्यक्ष सुरेश कलमाड़ी को मिली प्रतिक्रिया की याद दिलाता है।जैसा कलमाडी का बाल बांका न ङुआ, उसीतरह दागी श्रीनिवासन अब भी बोर्ड अध्यक्ष बने हुए हैं।सबसे खतरनाक बात यह है कि क्रिकेट कीबीमारी कासंक्रमण अब दूसरे खेलों में तय है क्योंकि हाकी, फुटबाल और बैडमिंटन समेत तमाम खेलों के प्रीमियर लीग के तमाशे की शुरुआत हो चुकी है।

Pepsi IPL - Match 33 KKR v MIतेंदुलकर ने मुंबई की टीम की खिताबी जीत के बाद कहा, विश्व कप के लिए मुझे 21 साल इंतजार करना पड़ा और इसके लिए (आईपीएल) 6 साल। इसलिए कभी काफी देर नहीं होती। यह मेरा अंतिम आईपीएल है। यह इसका अंत करने का बेहतरीन तरीका है। उन्होंने कहा, यहां मुझे वास्तविकता का सामना करना था। मैंने मुंबई इंडियन्स के साथ अपने छह सत्र का लुत्फ उठाया। यह शानदार यात्रा रही। यह सत्र बेजोड़ रहा। हमने सोचा कि हमारा तीसरा सत्र सर्वश्रेष्ठ था, लेकिन यह सोने पर सुहागा था। तेंदुलकर ने हालांकि यह स्पष्ट नहीं किया कि वह अक्तूबर में चैम्पियन्स लीग ट्वेंटी20 टूर्नामेंट में मुंबई के लिए खेलेंगे या नहीं।टीम को पहली बार टूर्नामेंट का खिताब मिला, लेकिन सचिन कुछ कमाल नहीं कर सके। सचिन ने 14 मैच खेल कर 22 के औसत से आईपीएल-6 में केवल 287 रन बनाए। वैसे भी, अब तक आईपीएल में कुल 78 मैचों में वह 2334 रन ही बना सके थे। इनमें एक शतक और 13 अर्द्धशतक शामिल हैं।  सचिन तेंदुलकर ने जीत मिलते ही आईपीएल को कहा अलविदा. इसके बाद भज्जी ने सचिन का हाथ पकड़कर ट्रॉफी लेने के लिए खींचा। सचिन ने उन्हें मना किया, लेकिन वे रुक नहीं पाए। भज्जी ने उन्हें खींच लिया। जैसे ही सचिन आगे आते गए, श्रीनिवासन धीरे-धीरे खिसकते गए और सचिन जब ट्रॉफी के पास पहुंचे, तबतक श्रीनिवासन वहां से जा चुके थे। बहरहाल, मुंबई इंडियंस पर श्रीनिवासन के जाने का कोई असर नहीं पड़ा और फिर सचिन के हाथों में आईपीएल 6 की ट्रॉफी थमाई गई।

कोलकाता में करीब सत्तर हजार दर्शकों की आंखों में धूल झोंककर फिल्मी स्क्रिप्ट की तर्ज पर फाइनल मैच को अंजाम तक पहुंचाया गया।चेन्नई सुपर किंग्स के दिग्गज खिलाड़ी एक के बाद एक आसान कैच देकर आउट होते रहे और दुनियाभर में सर्वश्रेष्ठ फिनिशर के नाम से मसहूर महेंद्र सिंह धोनी सातवें नंबर पर तब खेलने उतरे, जब कि मुंबई इंडियन की जीत तय हो चुकी थी।मुंबई इंडियंस ने आखिरकार पहली बार आईपीएल का खिताब जीतने का सम्मान अर्जित कर ही डाला। कोलकाता में खेले गए फाइनल मुकाबले में उसने 2 बार की चैम्पियन और 5 बार फाइनल की पायदान पर पहुंचने वाली चेन्नई सुपरकिंग्स को 23 रनों से हरा दिया। मुंबई ने टॉस जीतकर पहले बल्लेबाजी करते हुए कीरोन पोलार्ड के नाबाद 60 रनों की मदद से 20 ओवर में 9 विकेट खोकर 148 रन बनाए। चेन्नई की टीम धोनी के नाबाद 63 रनों के सहारे 20 ओवर में 9 विकेट खोकर 125 रन ही बना सकी।कोलकाता पुलिस ने रविवार रात महानगर के दो इलाकों से तीन लोगों को गिरफ्तार कर क्रिकेट सट्टेबाजों के दो गिरोहों का भंडाफोड़ किया है। पुलिस की कार्रवाई के समय ईडन गार्डन्स में इंडियन प्रीमियर लीग (आइपीएल) के अंतिम मुकाबले का मैच जारी था। पुलिस सूत्रों ने बताया कि विशेष कार्य बल (एसटीएफ) और खुफिया विभाग ने एक संयुक्त अभियान में कोलकाता के बागुइती और बड़ाबाजार इलाकों से तीन लोगों को गिरफ्तार किया। पुलिस ने बागुइती से पवन अग्रवाल को गिरफ्तार किया। उसके पास से एक लैपटॉप और चार मोबाइल फोन जब्त किए गए। बड़ाबाजार से आदित्य दमानी और राज शर्मा को हिरासत में लिया गया। उनके पास से तीन लैपटॉप और कुछ नकदी जब्त किए गए। इससे पहले कोलकाता से तथाकथित सटोरिए फिल्म निर्माता अजीत सुरेखा को बुधवार को गिरफ्तार किया गया था। इसके बाद से ही शहर पर नजर रखी जा रही है। एसटीएफ और खुफिया विभाग ने एक संयुक्त अभियान में सुरेखा और उसके नौ सहयोगियों को उत्तरी कोलकाता के उलटाडेंगा इलाके में उनके ठिकाने से गिरफ्तार किया था। शुरुआती छानबीन में उनके द्वारा मुंबई इंडियंस और चेन्नई सुपर किंग्स के बीच एक मैच में सट्टा लगाने की बात सामने आई है।

जैसा कि शुरु से मालूम है कि कोलकाता में बेटिंग और स्पाट फिक्सिंग का केंद्र है और कोलकाता पुलिस राजनीतिक संरक्षण के कारण सबकुछ जानते हुए हाथ पांव बंधा होने के कारण कुछ नहीं कर पायी। कोलकाता नाइट राइडर का हर मैच फिक्स था। फाइनल मैच भी बहुत पहले से फिक्स था। जिसके मुताबिक मुंबई इंडियन की जीत के बाद आईपीएल ट्राफी के साथ क्रिकेट के भगवान सचिन तेंदुलकर को विदा करना था। इसपर भारत में और भारत से बाहर करीब करीब दुनिया के हर देश में लाखों करोड़ रुपये का दांव लगा था। तमाम ानलाइन बेटिंग साइट पर दांव लगे थे। खुल्ला बिकता है बेटिंग साफ्टवेयर। यह तमाशा दो चार दस बीस जुआड़ियों का है नहीं। भारत में ्गर इस तंत्र पर लगाम लगा भी दिया जाये तो भारत के बाहर लगे दांव के मुताबिक मैच फिक्सिंग तो होनी ही है। हर टीम में बड़ी संख्या में विदेशी खिलाड़ी हैं, विदेशी बेटिंग तंत्र के तार उनसे जुड़े हैं। विदेशी चियरकन्याें है, जिनके मार्फत दुनियाभर को केल की हर छोटी बड़ी जानकारी मिलती है।

आईपीएल का तमाशा खत्म हुआ। जिसतरह आईपीएल घोटाले ने एकमुश्त शारदा घोटाला, कोलगेट, रेलगेट, कप्टार घोटाला, बैंक मनी लौंडरिंग घोटाला , टू जी स्पेक्ट्राम गोटाला का पटाक्षेप कर दिया , ठीक उसी तरह का कोई नया घोटाला आईपीएल घोटाले का भी पटाक्षेप कर देगा। जैसे ललित मोदी और शशि थरुर छुट्टा घूम रहे हैं, वैसे ही मयप्पन और श्रीनिवासन भी छूट जायेंग। मुफ्त में एक हानहार गेंजबाज श्री संत का कैरियर तबाह हो गया और पूरे टूर्नामेंट में बेहतरीन प्रदर्शन के बावजूद अंतिम दौर में राजस्थान रायल्स को तीन गेंदबाजों के बिना खेलना पड़ा। कोलकाता में यह टीम हारी ही इसलिए क्योंकि इस धीमी पिच पर जीतने के लिए उसके पास विशेषज्ञ स्पिनर ही नहीं थे। जो थे , वे जेल में हैं।

आईपीएल फाइनल के हाईलाइट्‍स!

जरा खेल के महत्वपूर्ण क्षणों पर गौर करें तो आपको मालूम चलेगा कि दाल में कितना काला है।

* विजेता मुंबई इ‍ंडियंस के कप्तान रोहित शर्मा ने ट्रॉफी के साथ 10 करोड़ रुपए का चैक ग्रहण किया

* चेन्नई के कप्तान धोनी को उपविजेता रहने पर साढ़े सात करोड़ का चैक प्रदान किया

* पुरस्कार वितरण समारोह में चेन्नई सुपरकिंग्स को फेयर प्ले ट्रॉफी दी गई

* माइकल हसी को ऑरेंज कैप के साथ 10 लाख रुपए का इनाम दिया गया

* चेन्नई सुपरकिंग्स के ड्‍वेन ब्रावो को परपल कैप के साथ 10 लाख का इनाम मिला

* आईपीएल में पहली बार चै‍म्पियन बनने से मुंबई के खिलाड़ी काफी जोश में भर गए

* हरभजन सिंह और प्रज्ञान ओझा ने सचिन तेंदुलकर को उठाकर स्टेडियम का चक्कर लगाया

* ईडन गार्डन्स के आसमान पर इस समय जमकर आतिशबाजी हो रही है

* मैदान पर मुंबई इंडियंस के खिलाड़ी और दर्शकदीर्घा में उसके समर्थक जश्न में डूब गए हैं

* टीम की मालकिन नीता अंबानी और उनका परिवार आज बेहद बेहद खुश दिखाई दे रहा है

* मुंबई इंडियंस के कोच जॉन राइट और मेंटर अनिल कुंबले की प्रसन्नता देखते बनती है

* चेन्नई 20 ओवर में 9 विकेट खोकर 125 रन, महेंद्र सिंह धोनी 63 रनों पर नाबाद रहे

* चेन्नई सुपरकिंग्स का नौंवा विकेट अश्विन (10) के रूप में आउट

* कीरोन पोलार्ड की गेंद पर आउट हुए अश्विन

* चेन्नई के कप्तान महेंद्र सिंह धोनी की पत्नी साक्षी भी दर्शकों में मौजूद

* साक्षी अपने पति का हौसलाअफजाई करने के लिए ईडन गार्डन्स पर हैं

* साक्षी ने हमेशा की तरह चेन्नई सुपरकिंग्स की जर्सी नहीं पहनी

* साक्षी इस बार ब्लेक ड्रेस में हैं। सट्‍टेबाजी में फंसे विंदू दारासिंह की वजह से साक्षी पर संकट

* प्रज्ञान ओझा ने मोर्केल को 10 रन पर बोल्ड कर दिया

* ओझा के विकेट लेते ही सचिन तेंदुलकर खुशी से झूम उठे

* मोर्केल के रुप में चेन्नई ने सातवां विकेट खोया

* अब चेन्नई हार के कगार पर पहुंच चुका है

* मोर्केल को आउट हुए पल भर भी नहीं बीते कि क्रिस मौरिस भी आउट

* हरभजन ने मौरिस को खाता खोलने के पहले ही पैवेलियन का रास्ता दिखाया

* ईडन गार्डन्स पर इस वक्त चेन्नई का सारा दारोमदार धोनी के कंधो पर

* धोनी इस समय केवल 3 रन बना पाए हैं जबकि दूसरे छोर पर मोर्केल 9 रन पर हैं

* चेन्नई को रन काफी बनाने हैं और लक्ष्य भी उससे काफी दूर है

* जॉनसन ने मुरली विजय को आउट करके चेन्नई को छठा झटका दिया

* रवींद्र जड़ेजा 0 पर आउट…

* हरभजन की गेंद पर छक्का लगाने के प्रयास में जड़ेजा आउट

* सीमा रेखा पर तैनात कीरोन पोलार्ड ने लपका जड़ेजा का कैच

* ऋषि धवन ने ब्रावो 15 को ‍अपना निशाना बनाया

* विकेटकीपर कार्तिक से मिले जीवनदान को ब्रावो भुना नहीं सके

* धवन की गेंद पर ब्रावो को जॉनसन ने लपका। चेन्नई का चौथा विकेट आउट

* 2 ओवर के भीतर 3 विकेट गंवाने के बाद चेन्नई संभला

* मुरली विजय 9 और ड्‍वेन ब्रावो 4 विकेट पर टिके

* मैच रोमांच से ईडन गार्डन्स पर जमा हजारों दर्शक रोमां‍चित

* चेन्नई ने तीसरा विकेट बद्रीनाथ का खोया

* बद्रीनाथ को मिशेल जॉनसन ने विकेटकीपर कार्तिक के दस्तानों में झिलवाया

* चेन्नई की भी खराब शुरुआत

* चेन्नई ने पहले ही ओवर में 2 विकेट गंवाए

* मलिंगा ने चौथी गेंद पर हसी को और पांचवीं गेंद पर रैना को आउट किया

Facebook Comments

संबंधित खबरें:

मीडिया दरबार के मॉडरेटर 1979 से पत्रकारिता से जुड़े हैं. एक साप्ताहिक से शुरूआत के बाद अस्सी के दशक में स्वतंत्र पत्रकार बतौर खोजी पत्रकारिता में कदम रखा, हिंदी के अधिकांश राष्ट्रीय अख़बारों में हस्ताक्षर. उसी दौरान राजस्थान के अजमेर जिले के एक सशक्त राजनैतिक परिवार द्वारा एक युवती के साथ किये गए खिलवाड़ पर नवभारत टाइम्स के लिए लिखी रिपोर्ट वरिष्ठ पत्रकार श्री मिलाप चंद डंडिया की पुस्तक "मुखौटों के पीछे - असली चेहरों को उजागर करते पचास वर्ष" में भी संकलित की गयी है. कुछ समय के लिए चौथी दुनियां के मुख्य उपसंपादक रहे किन्तु नौकरी कर पाने के लक्खन न होने से तेईस दिन में ही चौथी दुनिया को अलविदा कह आये. नब्बे के दशक से पिछले दशक तक दूरदर्शन पर समसामयिक विषयों पर प्रायोजित श्रेणी में कार्यक्रम बनाते रहे. अब वैकल्पिक मीडिया पर सक्रिय.