Loading...
You are here:  Home  >  दुनियां  >  देश  >  Current Article

जन लोकपाल पारित नहीं हुआ तो ‘न्यूड डांस’ करेगी दिल्ली की मॉडल

By   /  August 25, 2011  /  9 Comments

    Print       Email
इस खबर को अपने मित्रों से साझा करें..

सलीना वली: अन्ना के समर्थन में उतारेंगी कपड़े

एक तरफ जहां जनलोकपाल बिल के लिए लोग अन्ना हजारे के आंदोलन में सब कुछ लेकर उतर रहे हैं, वहीं कुछ लोग ऐसे भी हैं जो सब कुछ ‘उतारने’ की तैयारी में हैं। दिल्ली की रहने वाली मॉडल और ऐक्ट्रेस सलीना वली खान ने कहा है कि अगर अन्ना की मांग पूरी नहीं हुई तो वह विरोध जताने के लिए न्यूड होकर डांस करेगी।

सलीना ने मीडिया को बताया कि उन्होंने पब्लिसिटी के लिए ऐसा स्टेटमेंट नहीं दिया है। उनका कहना है, ”मेरा सामना कई बार भ्रष्टाचार से हो चुका है। सरकारी ऑफिसों में काम करवाने के लिए रिश्वत देनी पड़ती है, बिना पैसे दिए कहीं काम नहीं होता है। आम आदमी को जगह जगह परेशान होना पड़ता है।”

सलीना ने टैब्लॉइड मिड डे को बताया है कि उसे भी राशन कार्ड बनवाने के लिए 500 रुपये एक्स्ट्रा देने पड़े थे। अगर अन्ना की मांग पूरी हुई तो सबका भला है। उसने कहा कि अन्ना ने यह आंदोलन अपने लिए नहीं बल्कि देश के लिए किया है। सलीना ने कहा कि जब अन्ना ने पहली बार आंदोलन किया था, तबसे वह उनसे प्रभावित हैं।

गौरतलब है कि इससे पहले अनशन पर बैठे  बाबा रामदेव को भी आइटम गर्ल राखी सावंत ने भी शादी का निमंत्रण भेज कर मीडिया पब्लिसिटी बटोरी थी। एक और मॉडल पूनम पांडे भी भारतीय क्रिकेट टीम के वर्ड कप जीतने पर न्यूड डांस का वायदा किया था, लेकिन तब उसे कोर्ट का नोटिस मिल गया था।

(पोस्ट नवभारत टाइम्स में छपी खबर पर आधारित)

Facebook Comments

इस खबर को अपने मित्रों से साझा करें..
    Print       Email

About the author

मीडिया दरबार के मॉडरेटर 1979 से पत्रकारिता से जुड़े हैं. एक साप्ताहिक से शुरूआत के बाद अस्सी के दशक में स्वतंत्र पत्रकार बतौर खोजी पत्रकारिता में कदम रखा, हिंदी के अधिकांश राष्ट्रीय अख़बारों में हस्ताक्षर. उसी दौरान राजस्थान के अजमेर जिले के एक सशक्त राजनैतिक परिवार द्वारा एक युवती के साथ किये गए खिलवाड़ पर नवभारत टाइम्स के लिए लिखी रिपोर्ट वरिष्ठ पत्रकार श्री मिलाप चंद डंडिया की पुस्तक "मुखौटों के पीछे - असली चेहरों को उजागर करते पचास वर्ष" में भी संकलित की गयी है. कुछ समय के लिए चौथी दुनियां के मुख्य उपसंपादक रहे किन्तु नौकरी कर पाने के लक्खन न होने से तेईस दिन में ही चौथी दुनिया को अलविदा कह आये. नब्बे के दशक से पिछले दशक तक दूरदर्शन पर समसामयिक विषयों पर प्रायोजित श्रेणी में कार्यक्रम बनाते रहे. अब वैकल्पिक मीडिया पर सक्रिय.

9 Comments

  1. ajay says:

    अरे नंगी होने का बहाना क्यों ढूंढ रही है ऐसे ही हो जाओ न नंगी और हमारा भी मनोरंजन करा दो

  2. कोई भी सांसद एक दुसरे पर आरोप प्रत्यारोप न लगाकर जनता की सुरक्षा एवं उनकी आर्थिक और मानसिक स्थिति को समझते हुए उनको रोज़गार प्रदान करे, जिससे हर परिवार में कम से कम एक सदस्य तो सरकारी नौकर हो, उसका चयन उसकी योग्यता के आधार पर करें ज़रूरी नहीं की उसकी शैक्षिक योग्यता कम हो, उदहारण के तौर पर एकलव्य भी कुछ तो थे ही, ऐसे कई एकलव्य इस देश मैं हैं जो शैक्षिक योग्यता के आधार पर पिछड़ जाते हैं मगर हुनर शिक्षित लोगों से ज्यादा होता है.

  3. जनलोक पाल ज़रूरी है, क्यूंकि जन्लोक्पल बिल ही हमारे देश को सुरक्षित और जनता को सुरक्षित बना सकता है, मैं अन्ना जी का बहुत आभारी हूँ जिन्होंने भ्रष्टाचार को नष्ट करने और जन्लोक्पाल की आवाज़ उठाई.

  4. archana kamboj says:

    लोकपाल बिल पारित नहीं होगा तो विरोध में निर्वस्त्र होगी, पारित हो जायेगा तो ख़ुशी के मारे निर्वस्त्र हो जाएगी, इसे तो नंगा रहने का कोई न कोई बहाना चाहिए.

  5. naveen tyagi says:

    are ye koi pahli bar nangi thode hi hogi

  6. Subhash says:

    भाई कोई डांस की सीडी बना कर यू टुब पर डाल देना हम भी देख लेंगे

  7. Ghazala says:

    ऎसी बयानबाजी को कृपया कोई तरजीह न दें ! हिन्दुस्तान की वर्ल्ड कप फ़तेह पर ऎसी ही एक मॉडल के इसी अंदाज़ के ऐलान का अंजाम आप देख चुके हैं !

  8. Abhishek says:

    कितने नेक विचार हैं? अब तो तय हो गया है कि लोकपाल अपने ऑरिजिनल फॉर्म में नहीं आ रहा.. अब तो चांस बनता है.. रामलीला मैदान में ही होगा ये शो..?

  9. praveensway says:

    पुरानी खबर ,, और मेरे ब्लाग से लेकर चतुराई पूर्वक एडिट की गयी ….

पाठक चाहे आलेखों से सहमत हों या असहमत, किसी भी लेख पर टिप्पणी करने को स्वतंत्र हैं. हम उन टिप्पणियों को बिना किसी भेद-भाव के निडरता से प्रकाशित भी करते हैं चाहे वह हमारी आलोचना ही क्यों न हो. आपसे अनुरोध है कि टिप्पणियों की भाषा संयत एवं शालीन रखें - मॉडरेटर

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

You might also like...

नरेंद्र मोदी दिवालिया होने के कगार पर खड़े अनिल अम्बानी का कौन सा क़र्ज़ा उतार रहे हैं..

Read More →
Page Reader Press Enter to Read Page Content Out Loud Press Enter to Pause or Restart Reading Page Content Out Loud Press Enter to Stop Reading Page Content Out Loud Screen Reader Support
%d bloggers like this: