/सपा नेता नरेन्द्र भाटी का दावा – इकतालीस मिनट में दुर्गा को कर दिया ‘शक्ति’ विहीन, देखें वीडियो

सपा नेता नरेन्द्र भाटी का दावा – इकतालीस मिनट में दुर्गा को कर दिया ‘शक्ति’ विहीन, देखें वीडियो

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री अखिलेश यादव दुर्गा शक्ति मामले में लगातार झूठ बोले चले जा रहे हैं कि दुर्गा शक्ति नागपाल का निलंबन रेत माफिया के कारण नहीं बल्कि उत्तर प्रदेश के सांप्रदायिक सद्भाव को ख़तरे में डालने के कारण किया गया है.Durga Shakti Nagpal, 2010 अखिलेश यादव के उक्त बयान के उलट सपा नेता और यूपी एग्रो कॉरपोरेशन के चेयरमैन नरेन्द्र भाटी, जिन पर रेत खनन माफिया से मिलीभगत के आरोप हैं, ने एक राजनैतिक सभा में साफ साफ कहा है कि उन्होंने मुलायम सिंह और अखिलेश यादव से  बात की और पैंतालिस मिनट में दुर्गा शक्ति नागपाल सस्पेंड हो गई. नीचे पोस्ट किये गए वीडियो में सपा नेता नरेन्द्र भाटी अपने समर्थकों से कहते नज़र आ रहे हैं. कि “मेरी माननीय मुलायम सिंह जी से बात हुई है, मेरी माननीय अखिलेश यादव से बात हुई है और इनसे बात करने के इकतालिस मिनट में दुर्गा शक्ति सस्पेंड हो गई. इसे कहते हैं लोकतंत्र की ताकत.” इस वीडियो को देखने से न केवल अखिलेश यादव द्वारा की जा रही गलत बयानी से पर्दा हट जाता है बल्कि राजनीती का वह काला चेहरा भी सामने आ जाता है कि राजनेता किस तरह अपने स्वार्थ को साम्प्रद्यिकता का नक़ाब औढ़ा कर आम जनता के सामने पेश करते हैं. आखिर सच कौन बोल रहा है, अखिलेश यादव या फिर सपा नेता नरेन्द्र भाटी..? सच जानने के लिए वीडियो देखें..

Facebook Comments

संबंधित खबरें:

मीडिया दरबार के मॉडरेटर 1979 से पत्रकारिता से जुड़े हैं. एक साप्ताहिक से शुरूआत के बाद अस्सी के दशक में स्वतंत्र पत्रकार बतौर खोजी पत्रकारिता में कदम रखा, हिंदी के अधिकांश राष्ट्रीय अख़बारों में हस्ताक्षर. उसी दौरान राजस्थान के अजमेर जिले के एक सशक्त राजनैतिक परिवार द्वारा एक युवती के साथ किये गए खिलवाड़ पर नवभारत टाइम्स के लिए लिखी रिपोर्ट वरिष्ठ पत्रकार श्री मिलाप चंद डंडिया की पुस्तक "मुखौटों के पीछे - असली चेहरों को उजागर करते पचास वर्ष" में भी संकलित की गयी है. कुछ समय के लिए चौथी दुनियां के मुख्य उपसंपादक रहे किन्तु नौकरी कर पाने के लक्खन न होने से तेईस दिन में ही चौथी दुनिया को अलविदा कह आये. नब्बे के दशक से पिछले दशक तक दूरदर्शन पर समसामयिक विषयों पर प्रायोजित श्रेणी में कार्यक्रम बनाते रहे. अब वैकल्पिक मीडिया पर सक्रिय.