/आज़म खां की त्योरियां सख्त, कहा औकात में रहें नौकरशाह..

आज़म खां की त्योरियां सख्त, कहा औकात में रहें नौकरशाह..

दुर्गा नागपाल के बाद अब डीएम को निपटाने की तैयारी..आज़म खां की त्योरियां सख्त कहा औकात में रहें नौकरशाह…

-अतुल मोहन सिंह||

लखनऊ। उत्तर प्रदेश के गौतमबुद्ध नगर में खनन माफिया के खिलाफ मुहिम चलाने वालीं आईएएस अधिकारी दुर्गा शक्ति नागपाल के सस्पेंशन को सही ठहराने पर अड़ी अखिलेश सरकार अब नोएडा के डीएम की कुर्सी लेने की तैयारी में है। उत्तर प्रदेश के अर्बल डिवलेपमेंट मिनिस्टर आजम खान ने इस मामले में दुर्गा शक्ति को क्लीन चिट देने पर नोएडा के डीएम रविकांत के खिलाफ मोर्चा खोल दिया है। आजम ने शुक्रवार को डीएम रविकांत पर दुर्गा मामले में गलत रिपोर्ट भेजने का आरोप लगाते हुए कहा कि अब उनके खिलाफ भी कार्रवाई होगी।Azam-Khan2

गौरतलब है कि डीएम की तरफ से यूपी शासन को भेजी गई रिपोर्ट में कहा गया है कि मस्जिद की जिस दीवार को गिरवाने के लिए दुर्गा शक्ति को सस्पेंड किया गया है, उसे ग्रामीणों ने खुद गिराया था। दरअसल डीएम की इस रिपोर्ट से अखिलेश सरकार की खूब किरकिरी हो रही है। आजम खान डीएम की इस रिपोर्ट से भड़के हुए हैं। उन्होंने शुक्रवार को मीडिया से कहा कि दुर्गा मामले में डीएम ने मुख्यमंत्री अखिलेश यादव को गलत जानकारी दी है। इसके लिए अब डीएम के खिलाफ भी कार्रवाई की जाएगी। आजम के मुताबिक इस मामले में एलआईए और डीएम की रिपोर्ट अलग-अलग है, जिससे साबित होता है कि रिपोर्ट गलत है। आजम ने कहा कि डीएम ने इस मामले में दुर्गा शक्ति को बचाने की कोशिश की है। यही नहीं आजम खान इस मामले में मीडिया की भूमिका से भी खुश नहीं है। इस मामले को उठाने पर वह मीडिया पर भी जमकर बरसे। आजम ने कहा कि मीडिया ने इस मामले में अच्छी भूमिका नहीं निभाई है।

भाटी उवाच: दुगा को 41 मिनट में करवा दिया सस्पेंड

ias-durgaगौतमबुद्ध नगर की एसडीएम दुर्गा शक्ति नागपाल को सस्पेंड करने पर जहां अखिलेश सरकार की किरकिरी हो रही है, वहीं समाजवादी पार्टी के नेता और यूपी एग्रो के चेयरमैन नरेंद्र भाटी ने दावा किया है कि उन्होंने ही दुर्गा को सस्पेंड करवाया था। भाटी ने दावा किया कि उन्होंने मुख्यमंत्री अखिलेश यादव से बात करके 41 मिनट में दुर्गा शक्ति को सस्पेंड करवा दिया था। हालांकि, मामला तूल पकड़ने के बाद भाटी ने सफाई दी है कि उनके बयान को तोड़-मरोड़ कर पेश किया गया है।
भाटी ने एक जनसभा में कहा, ‘मैंने माननीय मुख्यमंत्री जी से बात की। 10.30 बजे माननीय अखिलेश जी से बात की और 11 बजकर 11 मिनट पर एसडीएम का सस्पेंशन ऑर्डर यहां कलेक्टर के पास रिसीव हो गया। ये है लोकतंत्र की ताकत। मैं यही आप लोगों को बताने आया हूं कि जिस औरत ने इतनी बेहूदगी दिखाई वह उस डंडे को 40 मिनट नहीं झेल पाई। सिर्फ 41 मिनट में सस्पेंशन का ऑर्डर लखनऊ से पास होकर यहां तामील हो गया।’
बताया जाता है कि नरेंद्र भाटी ने ही विवादित मस्जिद का शिलान्यास किया था। हालांकि भाटी ने इससे इनकार किया और कहा कि उन्होंने सिर्फ लोगों को सहयोग के लिए 51 हजार रुपए दिए थे।
यह बात भी सामने आ रही है कि कादलपुर गांव में मस्जिद की जिस दीवार को गिरवाने को दुर्गा शक्ति के निलंबन का आधार बनाया गया है, उसे तो ग्रामीणों ने खुद ही गिराया था। डीएम के. रविकांत सिंह ने यह बात उत्तर प्रदेश शासन को भेजी रिपोर्ट में कही है। कादलपुर गांव में खसरा नंबर 336 पर ग्राम समाज की जमीन पर लोग प्रशासन की अनुमति बिना मस्जिद की दीवार बना रहे थे। एसडीएम दुर्गा मौके पर पहुंचीं और निर्माण रुकवा दिया। रिपोर्ट में कहा गया है कि एसडीएम ने समझाया तो ग्रामीणों ने खुद ही दीवार गिरा दी।
डीएम की रिपोर्ट और नरेंद्र भाटी के दावों के बाद इस आरोप में दम दिखाई देने लगा है कि दुर्गा को यूपी में रेत माफिया के खिलाफ कार्रवाई करने के कारण सस्पेंड किया गया। बताया जा रहा है कि समाजवादी पार्टी के कुछ नेताओं के हित रेत माफियाओं से जुड़े हैं।
डीएम की रिपोर्ट के सार्वजनिक होने के बाद भी सरकार अपने फैसले को सही साबित करने पर अड़ी है। मुख्यमंत्री अखिलेश ने कहा, ‘उनके पास डीएम के अलावा एलआईयू की भी रिपोर्ट है और डीएम की रिपोर्ट जांच का विषय है।’ अखिलेश ने कहा, ‘सरकार के साथ-साथ अफसरों की भी जिम्मेदारी है कि वे सामाजिक वातावरण को खराब न होने दें। जो अफसरों अपने दायित्व को सही ढंग से नहीं निभाएंगे उन पर कार्रवाई होगी। सरकार ने अवैध खनन के खिलाफ होने वाली कार्रवाई में कभी हस्तक्षेप नहीं किया।’
मंशा अनुरूप रिपोर्ट न मिलने से अब डीएम सरकार के निशाने पर हैं। समाजवादी पार्टी के सांसद नरेश अग्रवाल ने डीएम पर भी कार्रवाई की बात कही है।

Facebook Comments

संबंधित खबरें:

मीडिया दरबार के मॉडरेटर 1979 से पत्रकारिता से जुड़े हैं. एक साप्ताहिक से शुरूआत के बाद अस्सी के दशक में स्वतंत्र पत्रकार बतौर खोजी पत्रकारिता में कदम रखा, हिंदी के अधिकांश राष्ट्रीय अख़बारों में हस्ताक्षर. उसी दौरान राजस्थान के अजमेर जिले के एक सशक्त राजनैतिक परिवार द्वारा एक युवती के साथ किये गए खिलवाड़ पर नवभारत टाइम्स के लिए लिखी रिपोर्ट वरिष्ठ पत्रकार श्री मिलाप चंद डंडिया की पुस्तक "मुखौटों के पीछे - असली चेहरों को उजागर करते पचास वर्ष" में भी संकलित की गयी है. कुछ समय के लिए चौथी दुनियां के मुख्य उपसंपादक रहे किन्तु नौकरी कर पाने के लक्खन न होने से तेईस दिन में ही चौथी दुनिया को अलविदा कह आये. नब्बे के दशक से पिछले दशक तक दूरदर्शन पर समसामयिक विषयों पर प्रायोजित श्रेणी में कार्यक्रम बनाते रहे. अब वैकल्पिक मीडिया पर सक्रिय.