/रवीन्द्र पंचौली बने आईएफडब्ल्यूजे के प्रांतीय महासचिव…

रवीन्द्र पंचौली बने आईएफडब्ल्यूजे के प्रांतीय महासचिव…

भोपाल. सहारा समय, साधना न्यूज, ईटीवी, दैनिक भास्कर और इंडियन एक्सप्रेस ग्रुप में अपनी सेवा दे चुके रवीन्द्र पंचौली को पत्रकारों के देश के सबसे बड़े संगठन इंडियन फेडरेशन आफ वर्किंग जर्नलिस्ट यूनियन के प्रांतीय महासचिव पद पर राष्ट्रीय अध्यक्ष के. विक्रय राव ने नियुक्त किया है.
Pancholi

इंडियन फेडरेशन आफ वर्किंग जर्नलिस्ट यूनियन के सचिव सेंट्रल इंडिया प्रभारी कृष्णमोहन झा की अनुशंसा पर आई.एफ.डब्ल्यू. जे. के राष्ट्रीय महासचिव परमानंद पांडे ने रवीन्द्र पंचौली को संगठन के मध्यप्रदेश इकाई का प्रदेश महासचिव नियुक्त किया है. श्री पंचौली को आई.एफ.डब्ल्यू.जे. के प्रांताध्यक्ष बनने पर प्रदेश के वरिष्ठ पत्रकार रामगोपाल शर्मा,सतीश सक्सैना,दिनेश चंद वर्मा जयंत वर्मा, उकीर्ति राणा, राजेन्द्र कश्यप,विश्वेश्वर शर्मा, योगेश तिवारी, उज्जैन प्रेस क्लब के पूर्व अध्यक्ष रमेश दास, रतलाम प्रेस क्लब के पूर्व अध्यक्ष रमेश टाक, चंद्रभूषण शंकरकाय, रमाशंकर तिवारी, राजेन्द्र अहवर्यू, सुधीर उपाध्याय, ज्ञानेन्द्र त्रिपाठी, सैयद जावेद अली, विलोक पाठक परवेज खान, सीताराम शर्मा, प्रमोद मिश्रा सहित प्रदेश के सभी पत्रकारों ने बधाई दी है. साथ ही राष्ट्रीय अध्यक्ष के. विक्रम राव एवं राष्ट्रीय महासचिव परमानंद पांडे के प्रति आभार ज्ञापित किया है.

Facebook Comments

संबंधित खबरें:

मीडिया दरबार के मॉडरेटर 1979 से पत्रकारिता से जुड़े हैं. एक साप्ताहिक से शुरूआत के बाद अस्सी के दशक में स्वतंत्र पत्रकार बतौर खोजी पत्रकारिता में कदम रखा, हिंदी के अधिकांश राष्ट्रीय अख़बारों में हस्ताक्षर. उसी दौरान राजस्थान के अजमेर जिले के एक सशक्त राजनैतिक परिवार द्वारा एक युवती के साथ किये गए खिलवाड़ पर नवभारत टाइम्स के लिए लिखी रिपोर्ट वरिष्ठ पत्रकार श्री मिलाप चंद डंडिया की पुस्तक "मुखौटों के पीछे - असली चेहरों को उजागर करते पचास वर्ष" में भी संकलित की गयी है. कुछ समय के लिए चौथी दुनियां के मुख्य उपसंपादक रहे किन्तु नौकरी कर पाने के लक्खन न होने से तेईस दिन में ही चौथी दुनिया को अलविदा कह आये. नब्बे के दशक से पिछले दशक तक दूरदर्शन पर समसामयिक विषयों पर प्रायोजित श्रेणी में कार्यक्रम बनाते रहे. अब वैकल्पिक मीडिया पर सक्रिय.