/हाफिज मोहम्मद सईद बोला भारत मुझे बिना सबूत आतंकवादी घोषित कर रहा है…

हाफिज मोहम्मद सईद बोला भारत मुझे बिना सबूत आतंकवादी घोषित कर रहा है…

इस्लामाबाद. मुंबई में ताज हमले के आरोपी जमात-उद-दावा के सरगना हाफिज मोहम्मद सईद ने कहा है कि वह आतंकवादी नहीं है. इसके साथ ही उसने कहा है कि भारत और पाकिस्तान के जजों से एक स्वतंत्र जांच कराई जाए और पता लगाया जाए कि क्या वह दोषी है या नहीं.हाफिज मोहम्मद सईद

पाकिस्तानी समाचार पत्र ‘डॉन’ के अनुसार सईद ने कहा है कि आप (भारत) लंबे समय से मुझे आतंकवादी कह रहे हैं. लेकिन मैं कोई आतंकवादी नहीं हूं, यदि आप संतुष्ट नहीं हैं तो भारत और पाकिस्तान के वरिष्ठ वकीलों और जजों का एक स्वतंत्र न्यायिक आयोग इसकी जांच करे कि क्या मैं दोषी हूं.

सईद ने कहा कि आयोग जो भी फैसला सुनाएगा, मुझे मंजूर होगा. बुधवार (14 अगस्त) को पाकिस्तान के स्वतंत्रता दिवस के अवसर पर लाहौर में एक बैठक में सईद ने ये बातें कही. उसने पाकिस्तान से सईद को सौंपने की भारत की मांग को खारिज कर दिया. सईद ने कहा कि भारत मेरे लिए काफी बेचैन है, कोई बात नहीं आप फिक्रमंद न हों, मैं खुद भारत आऊंगा.

सईद ने कहा कि भारत, पाकिस्तान पर उसे सौंपने के लिए जम्मू कश्मीर में नियंत्रण रेखा (एलओसी) पर गोलीबारी कर प्रधानमंत्री नवाज शरीफ पर दबाव बना रहा है. उसने कहा कि हम भारत के साथ मित्रता के लिए राजी हैं, लेकिन पहले भारत नियंत्रण रेखा पर गोलीबारी बंद करे, कश्मीर में लोगों को मारना बंद करे, बलूचिस्तान मामले में हस्तक्षेप बंद करे और हर साल पाकिस्तान में बाढ़ का पानी छोड़ना बंद करे.

Facebook Comments

संबंधित खबरें:

मीडिया दरबार के मॉडरेटर 1979 से पत्रकारिता से जुड़े हैं. एक साप्ताहिक से शुरूआत के बाद अस्सी के दशक में स्वतंत्र पत्रकार बतौर खोजी पत्रकारिता में कदम रखा, हिंदी के अधिकांश राष्ट्रीय अख़बारों में हस्ताक्षर. उसी दौरान राजस्थान के अजमेर जिले के एक सशक्त राजनैतिक परिवार द्वारा एक युवती के साथ किये गए खिलवाड़ पर नवभारत टाइम्स के लिए लिखी रिपोर्ट वरिष्ठ पत्रकार श्री मिलाप चंद डंडिया की पुस्तक "मुखौटों के पीछे - असली चेहरों को उजागर करते पचास वर्ष" में भी संकलित की गयी है. कुछ समय के लिए चौथी दुनियां के मुख्य उपसंपादक रहे किन्तु नौकरी कर पाने के लक्खन न होने से तेईस दिन में ही चौथी दुनिया को अलविदा कह आये. नब्बे के दशक से पिछले दशक तक दूरदर्शन पर समसामयिक विषयों पर प्रायोजित श्रेणी में कार्यक्रम बनाते रहे. अब वैकल्पिक मीडिया पर सक्रिय.