Loading...
You are here:  Home  >  अपराध  >  Current Article

थाने में लड़की को कैद कर मनाया स्वाधीनता दिवस पर अय्याशी का जश्न…

By   /  August 15, 2013  /  1 Comment

    Print       Email
इस खबर को अपने मित्रों से साझा करें..

जहां एक ओर पूरा देश आजादी के जश्न मे डूबा हुआ है, वहीं आजाद भारत के रक्षकों की अय्याशी के जश्न की करतूत सामने आई है. गाजियाबाद की पुलिस ने एक लड़की को अवैध रूप से कैद करके उसके साथ बदसलूकी की.girl

घटना गाजियाबाद के लिंक रोड थाने की हैं, जंहा जगह-जगह शराब की बोतलें बिखरी पड़ी मिलीं हैं. थाने के अंदर शराब ही नहीं पुलिसवालों की अय्याशी के लिए बिस्तर भी बिछा हुआ मिला है. कम्प्यूटर रूम के नाम पर इस्तेमाल किए जाने वाले इस कमरे में कम्प्यूटर को छोड़कर अय्याशी का सारा सामान मौजूद है.

दअरसल, गाजियाबाद में एक लड़की को अवैध रूप से हिरासत में लेने का मामला सामने आया है. बताया जा रहा है कि गाजियाबाद के लिंक रोड थाने में पुलिसवालों ने एक लड़की को जबरन हिरासत में लेकर पूछताछ के नाम पर उसे एक कमरे में कैद रखा. पुलिसवालों पर आरोप है कि वो इस लड़की के साथ शराब पीकर बदसलूकी कर रहे थे.

मामले की भनक जब एसएसपी को लगी तो एसएसपी ने मौके पर पहुंच कर चार पुलिसवालों को तुरंत सस्पेंड कर दिया. साथ ही थाना अध्यक्ष को लाइन हाज़िर कर दिया गया है, आपको बता दें कि कुछ दिन पहले ही गाजियाबाद पुलिस ने एक होटल पर छापा मारकर 56 जोड़ों को गिरफ्तार किया था, जिसमें से सिर्फ चार जोड़ों को ही दोषी पाया गया. अब सवाल ये उठता है कि दूसरों को मर्यादा का पाठ पढ़ाने वाली गाजियाबाद पुलिस खुद अपने दामन के दागों को कब साफ करेगी ?

(सौ: आजतक)

Facebook Comments

इस खबर को अपने मित्रों से साझा करें..
    Print       Email

About the author

मीडिया दरबार के मॉडरेटर 1979 से पत्रकारिता से जुड़े हैं. एक साप्ताहिक से शुरूआत के बाद अस्सी के दशक में स्वतंत्र पत्रकार बतौर खोजी पत्रकारिता में कदम रखा, हिंदी के अधिकांश राष्ट्रीय अख़बारों में हस्ताक्षर. उसी दौरान राजस्थान के अजमेर जिले के एक सशक्त राजनैतिक परिवार द्वारा एक युवती के साथ किये गए खिलवाड़ पर नवभारत टाइम्स के लिए लिखी रिपोर्ट वरिष्ठ पत्रकार श्री मिलाप चंद डंडिया की पुस्तक “मुखौटों के पीछे – असली चेहरों को उजागर करते पचास वर्ष” में भी संकलित की गयी है. कुछ समय के लिए चौथी दुनियां के मुख्य उपसंपादक रहे किन्तु नौकरी कर पाने के लक्खन न होने से तेईस दिन में ही चौथी दुनिया को अलविदा कह आये. नब्बे के दशक से पिछले दशक तक दूरदर्शन पर समसामयिक विषयों पर प्रायोजित श्रेणी में कार्यक्रम बनाते रहे. अब वैकल्पिक मीडिया पर सक्रिय.

1 Comment

  1. ean sabkoa esatrah ka sja deana chahiya kia ldkia keasatha kiya and deas ka satha gadariya kiya jisapar loag bharosa krtya hia kia nyamialyga o khuad biak gya to deas ka kya hoga esiatrah loga bdanakra rhea hia jya hiand jya bharat.

पाठक चाहे आलेखों से सहमत हों या असहमत, किसी भी लेख पर टिप्पणी करने को स्वतंत्र हैं. हम उन टिप्पणियों को बिना किसी भेद-भाव के निडरता से प्रकाशित भी करते हैं चाहे वह हमारी आलोचना ही क्यों न हो. आपसे अनुरोध है कि टिप्पणियों की भाषा संयत एवं शालीन रखें - मॉडरेटर

You might also like...

पनामा के बाद पैराडाइज पेपर्स लीक..

Read More →
Page Reader Press Enter to Read Page Content Out Loud Press Enter to Pause or Restart Reading Page Content Out Loud Press Enter to Stop Reading Page Content Out Loud Screen Reader Support
%d bloggers like this: