/विवाहिता को गर्म चाकूओं से जलाया, फिर बाल काट दिए…

विवाहिता को गर्म चाकूओं से जलाया, फिर बाल काट दिए…

दयालबाग के सुंदरधाम में शुक्रवार को तीन युवकों ने कैटरिंग व्यवसायी के परिवार में दहशत फैला दी. महिलाओं को आगे कर गेट खुलवाया. घर में अकेली विवाहिता को दबोचकर गर्म चाकूओं से जलाया, फिर बाल काट दिए. दहशत फैलाने के बाद युवक फिल्मी स्टाइल में बेडरूम में शीशे पर पति के लिए चेतावनी लिख गए. हमलावर युवक कौन थे और उनकी मंशा क्या थी? इसकी जानकारी नहीं हो सकी है.married lady was burnt with hot knives

दयालबाग की सुंदरधाम कॉलोनी में कैटरिंग व्यवसायी कमल रायजादा का परिवार रहता है. पत्‍‌नी सुनीता दयालबाग शिक्षण संस्थान में प्रवक्ता हैं और बेटा निजी बैंक में है. शुक्रवार को कमल नोएडा और पत्‍‌नी व बेटा ऑफिस गए थे. घर पर पुत्र वधू पूर्णिमा रायजादा अकेली थीं. पूर्णिमा के मुताबिक दोपहर एक बजे दो महिलाएं आई. दरवाजा खोलने से मना करने पर महिलाओं ने पूर्णिमा से उनकी सास सुनीता से मोबाइल पर बात की और गेट खुलवाकर अंदर घुस गईं. पूर्णिमा रसोई में पानी लेने गईं, इसी बीच महिलाओं ने गेट का ताला खोलकर तीन युवकों को अंदर बुला लिया और खुद चली गई.

युवकों ने घर में घुसते ही पूर्णिमा को रसोई में दोनों ओर से घेर लिया. दो युवकों ने उसके हाथ पकड़ लिए. एक युवक ने चाकू गर्म किया और पूर्णिमा के हाथों को जलाता रहा. पूर्णिमा अचेत हो गई तो उसे युवक बेडरूम में ले गए, जहां उसके सिर के बाल काट दिये. होश आने पर उसे धमकाया कि घर छोड़कर चली जाए. इसके बाद मेकअप किट से लिपिस्टिक निकाली और शीशे पर लिख दिया कि तूने मुझे एक माह तक रुलाया, अब तू रोएगा. करीब आधा घंटे तक तीनों युवक उसे धमकाने के बाद चले गए. दोपहर दो बजे जब आशीष घर पहुंचे, तो सामान बिखरा हुआ मिला और पत्‍‌नी पूर्णिमा बदहवास हालत में बेड के पीछे पड़ी मिली.

होश आने पर पूर्णिमा ने पूरा वाकया बताया तो पुलिस को घटना की सूचना दी. इंस्पेक्टर न्यू आगरा आशीष कुमार सिंह ने बताया कि तहरीर मिलने पर मुकदमा दर्ज कर आवश्यक कार्रवाई की जाएगी. परिवार इतना दहशत में है कि अभी कोई तहरीर नहीं दी गई है.

आशीष अपने मां-बाप का इकलौता बेटा है. उसकी शादी जयपुर में रहने वाली पूर्णिमा से इसी साल 20 जनवरी को हुई है. शादी के बाद वह बीएड की पढ़ाई के लिए मायके चली गई थीं. पांच अगस्त को ही वह ससुराल आई है.

आशीष ने बताया कि दो माह पहले भी एक युवक गेट से कूदकर घर में घुस आया था. उस समय भी पूर्णिमा घर में अकेली थीं. परिजन थाने तक पहुंचे थे, लेकिन बदनामी के डर से कोई कार्रवाई नहीं की.

पूर्णिमा ने पति आशीष को बताया कि युवकों ने उसके हाथ जलाने से लेकर बाल काटने तक की पूरी वीडियो रिकॉर्डिग की. इसके अलावा उन्हें मोबाइल पर कोई निर्देशित कर रहा था, जिसे वे मैडम कह कर रहे थे. पुलिस अब इस तथ्य की जांच कर रही है.

Facebook Comments

संबंधित खबरें:

  • संबंधित खबरें उपलब्ध नहीं

मीडिया दरबार के मॉडरेटर 1979 से पत्रकारिता से जुड़े हैं. एक साप्ताहिक से शुरूआत के बाद अस्सी के दशक में स्वतंत्र पत्रकार बतौर खोजी पत्रकारिता में कदम रखा, हिंदी के अधिकांश राष्ट्रीय अख़बारों में हस्ताक्षर. उसी दौरान राजस्थान के अजमेर जिले के एक सशक्त राजनैतिक परिवार द्वारा एक युवती के साथ किये गए खिलवाड़ पर नवभारत टाइम्स के लिए लिखी रिपोर्ट वरिष्ठ पत्रकार श्री मिलाप चंद डंडिया की पुस्तक "मुखौटों के पीछे - असली चेहरों को उजागर करते पचास वर्ष" में भी संकलित की गयी है. कुछ समय के लिए चौथी दुनियां के मुख्य उपसंपादक रहे किन्तु नौकरी कर पाने के लक्खन न होने से तेईस दिन में ही चौथी दुनिया को अलविदा कह आये. नब्बे के दशक से पिछले दशक तक दूरदर्शन पर समसामयिक विषयों पर प्रायोजित श्रेणी में कार्यक्रम बनाते रहे. अब वैकल्पिक मीडिया पर सक्रिय.