Loading...
You are here:  Home  >  अपराध  >  Current Article

आसाराम के समर्थक गुंडागर्दी पर उतरे, इंडिया टीवी की ओबी वैन तोड़ी…

By   /  August 23, 2013  /  8 Comments

    Print       Email
इस खबर को अपने मित्रों से साझा करें..

आसाराम बापू के लगभग दो हज़ार समर्थको ने संसद मार्ग पर जम कर हंगामा मचाया. आसाराम के इन समर्थकों ने मीडिया के खिलाफ जम कर नारे लगाये तथा इंडिया टीवी की ओबी वैन को तोड़ डाला. कई कैमरामैनों के कैमरे तोड़ डाले. आसाराम बापू के समर्थकों ने मीडिया पर हिन्दू साधू-संतों को बदनाम करने के आरोप भी लगाये.

asaram bapu

इससे पहले आसाराम के समर्थक शुक्रवार को मध्य दिल्ली के कमला बाजार पुलिस थाने के बाहर इकट्ठे हो गए, जहां एक नाबालिग युवती ने आसाराम बापू के खिलाफ यौन प्रताड़ना की शिकायत दर्ज कराई थी. समर्थकों ने थाने में दर्ज़ रिपोर्ट रद्द करने की मांग की.

ये समर्थक सुबह लगभग 10 बजे कमला बाज़ार पुलिस थाने के बाहर इकट्ठे हुए और पुलिस एवं मीडिया के खिलाफ नारेबाजी की. उन्होंने उन पर आसाराम की छवि खराब करने की कोशिश करने का आरोप लगाया. इसके बाद, ये सभी जंतर-मंतर की तरफ चले गए और इसके बाद इन्होने वहां जम कर हंगामा मचाया.

शिकायत के मुताबिक, यौन शोषण की घटना 15 अगस्त को उस वक्त हुई थी, जब यह किशोरी राजस्थान के जोधपुर स्थित एक आश्रम में उपचार के लिए गई थी. लड़की उत्तर प्रदेश के शाहजहांपुर जिले की रहने वाली है और वह अपने परिवार के साथ आसाराम से मिलने गई थी.

पुलिस के मुताबिक आसाराम उपचार के लिए लड़की को अलग कमरे में ले गए और उन्होंने उसके साथ यह कृत्य किया. आसाराम के एक प्रवक्ता ने कहा कि लड़की की शिकायत उन्हें बदनाम करने की कोशिश है.

दूसरी तरफ आसाराम बापू ने अपने समर्थकों को संबोधित करते हुए बलात्कार के आरोप को निराधार बताते हुए कहा कि अगर मैं दोषी हूं तो साबित करके दिखाओ. उन्होंने कहा पोती की उम्र की लड़की से ऐसा क्यों करूंगा. उन्होंने कहा न्यूज चैनलों पर मेरे खिलाफ जो दिखाया जा रहा है उसकी उन्हें परवाह नहीं है. न्यूजों चैनलों पर निशाना साधते हुए आसाराम ने कहा कि वो ये सब केवल टीआरपी के चक्कर में कर रहे हैं.

आसाराम ने कहा कि ‘मैं निर्दोष हूं ऐसा भी नहीं बोल रहा हूं, और वो दोषी हैं ऐसा भी नहीं बोल रहा हूं, बस ये बोल रहा हूं कि अगर मैं दोषी हूं तो आरोप साबित करके दिखाओ.’ यही नहीं आसाराम ने अपनी तुलना महात्मा बुद्ध और सूरदास से कर डाली. आसाराम बापू ने कहा ‘सूरदास महाराज जी पर भी ऐसे आरोप लगे थे, उन्होंने अन्न जल छोड़ दिया था और फिर वो 100 साल तक जिए. महात्मा बुद्ध के साथ भी बहुत अन्याय हुआ था, उनपर भी बहुत आरोप लगे फिर भी वो आज भी हमारे दिल में हैं.

Facebook Comments

इस खबर को अपने मित्रों से साझा करें..
    Print       Email

About the author

मीडिया दरबार के मॉडरेटर 1979 से पत्रकारिता से जुड़े हैं. एक साप्ताहिक से शुरूआत के बाद अस्सी के दशक में स्वतंत्र पत्रकार बतौर खोजी पत्रकारिता में कदम रखा, हिंदी के अधिकांश राष्ट्रीय अख़बारों में हस्ताक्षर. उसी दौरान राजस्थान के अजमेर जिले के एक सशक्त राजनैतिक परिवार द्वारा एक युवती के साथ किये गए खिलवाड़ पर नवभारत टाइम्स के लिए लिखी रिपोर्ट वरिष्ठ पत्रकार श्री मिलाप चंद डंडिया की पुस्तक “मुखौटों के पीछे – असली चेहरों को उजागर करते पचास वर्ष” में भी संकलित की गयी है. कुछ समय के लिए चौथी दुनियां के मुख्य उपसंपादक रहे किन्तु नौकरी कर पाने के लक्खन न होने से तेईस दिन में ही चौथी दुनिया को अलविदा कह आये. नब्बे के दशक से पिछले दशक तक दूरदर्शन पर समसामयिक विषयों पर प्रायोजित श्रेणी में कार्यक्रम बनाते रहे. अब वैकल्पिक मीडिया पर सक्रिय.

8 Comments

  1. आशा राम ग्रहस्थ है बेटे का नाम नारायण है पतिनी भी ही करोडो की अरबो की बे हिसाब सम्माप्त्ती है ते संतो की मरियाद नहीं है आखिर इस बात का जब बो कियो नहीं देते किस संप्रदाय से किस गुरु से दिक्ष्क्ष्छित है किस अखाड़े के मानी संत है ये मेकप रूम के स्वयम बने सैट है मेकप ठीक बना लेता है नोतान्न्की भो मुञ्च पर अछि कर लेते है इएक ग्रास्स्त आदमी संतो का बना बना कर सुबह सूरदास शाम को गोतम बौधाय बन जाता है क्रिशन की भी बाते करने लगत है ये ढोंगी आदमी सनातन अनादि काल से चली आ रही हमारी परंपरा को बेहुदे तरीके से शीधे सरल आस्था बन लोंगो का शोसन करता है एसे ढोंगी को सैट समाज स्वयं ठीक करे उनकी मरियादा में ये बेजा दखल है ये समाज पर कलंक है ढोंगी है तमस बना हुआ है सतो ने नाम पर

  2. aasharam subah गोतम्बोउधय बनते है दोपहर सूर्दादजी बन जाते है शाम को किसी आवर की आतिय्मा का bhoot उनकी saabari karta है aakhir इएस बात का जबाब kaiyo नहीं aata की vo sant कब बने कीने uneh संनियास दिलाया उनका guru kon है kis sampradaay se kis akhade ke dixchha li है ये mekap room ke banebanaye maarket me sant apne aap को sant banaliya ये san parampara का apmaan है fe faervi iensan को kuch नहीं है की vo sat parampara का dhong karke संतो को badnaam kare इएस kaalnemi ढोंगी को sanatan sant paramparas se संतो bahar कर dena chahiye इएस की pavittarata को बनाये रखने जी jabadari संतो की hiahai कितने उल्ल्जलूल बे हदे काम ये ढोंगी धूर्त करते रहते है अरवो खर्वो की सम्पत्तिय धंधे जमीने ना जाने किते मानत बुइल्दिङ्गि इएक्कथि कर राखी है ये सोभा नहीं देता ये सुधर जाए तो ठीक है बरन संतो को की अपनी मरियाद को बनाये रखने की जबाब धरी संतो की ही बनती है

  3. आसाराम की कटु वाणी सुनकर कहीं से नहीं लगता कि वे एक संत है पिछले दिनों कई बार उन्होंने कई अवसर पर उलूल -जुलूल और अश्लील वार्तालाप से लगता है वे एक अत्यंत "अहंकारी "किस्म के व्यक्ति है उनका रवैय्या अत्यंत निराशाजनक रहा है अब हाल ही के घटनाक्रम में इतने गंभीर आर्रोपों पर उनकी सफाई गले नहीं उतर रही है

  4. ASHOK SHARMA says:

    bhai गुजरात का स्वामीनारायण मंदिरों के किस्से पुरे देश मै मशहुर रहते है और यह सब आसाराम स्वामीनारायण अखंडानंद जैसे कई आश्रम जो इन कार्यो के चलते बदनाम हो चुके है

  5. Ashok Sharma says:

    bhai baba or mandiro masjido gurudwaro charcho par sarkar ko najar rakhana cha hi yes or inpar tex bhi lagadena cha hiye.

  6. आसाराम की कटु वाणी सुनकर कहीं से नहीं लगता कि वे एक संत है पिछले दिनों कई बार उन्होंने कई अवसर पर उलूल -जुलूल और अश्लील वार्तालाप से लगता है वे एक अत्यंत "अहंकारी "किस्म के व्यक्ति है उनका रवैय्या अत्यंत निराशाजनक रहा है अब हाल ही के घटनाक्रम में इतने गंभीर आर्रोपों पर उनकी सफाई गले नहीं उतर रही है ………?????

  7. आसाराम बापू पूर्व समय में भी मीडिया पर प्रहार कर चुके है, लेकिन अब समय आ गया है जब पत्रकारों को एकजुट होना पड़ेगा, परन्तु ऐसा होगा नहीं, क्योंकि आज प्रतिस्पर्धा का युग है और मीडिया भी आज कल बहुत चालाक हो चुकी है, वो गाना है कि मतलब निकल गया तो फिर पहचानते नहीं? इसी पेटर्न पर मीडिया चल रही है……………… आज प्रहार हुआ है कल यही इंडिया टीवी आसाराम के पक्ष में समाचार दिखायेगा.

  8. आसाराम बापू भारत के संत हैं, जो मानवमात्र में एक सच्चिदानंद ईश्वर के अस्तित्व.
    का उपदेश देते हैं। आसाराम बापू भारत के माथे पर लगे, अब तक कानून से बाइज्जत बरी, कलंक हैं, जिसे बहुत से भारतीय इसी रूप में पसंद करते हैं। इन पर समय-समय पर बलात्कार के हत्याओं के आरोप लगते रहे हैं, परन्तु आरोप लगाने वालों के अलावा कभी कोई गवाह या अन्य साक्ष्य कानून को उपलब्ध नहीं हो सका। अतः ये बाइज्जत बरी हैं।.

पाठक चाहे आलेखों से सहमत हों या असहमत, किसी भी लेख पर टिप्पणी करने को स्वतंत्र हैं. हम उन टिप्पणियों को बिना किसी भेद-भाव के निडरता से प्रकाशित भी करते हैं चाहे वह हमारी आलोचना ही क्यों न हो. आपसे अनुरोध है कि टिप्पणियों की भाषा संयत एवं शालीन रखें - मॉडरेटर

You might also like...

पनामा के बाद पैराडाइज पेपर्स लीक..

Read More →
Page Reader Press Enter to Read Page Content Out Loud Press Enter to Pause or Restart Reading Page Content Out Loud Press Enter to Stop Reading Page Content Out Loud Screen Reader Support
%d bloggers like this: