/जेपी ने किसानों को लगाया 50 हजार करोड का चूना…

जेपी ने किसानों को लगाया 50 हजार करोड का चूना…

भटटा पारसौल से फूंका जेपी के खिलाफ आंदोलन का बिगुल.. 2 अक्टूबर को जेवर इंटरचेंज पर विशाल महापंचायत कर किया जाएगा जेपी का पर्दाफाश…

भटटा-पारसौल, गौतमबुद्धनगर, 25 अगस्त 2013ः- हरित प्रदेश पार्टी ने जे.पी. इंफ्राटेक द्वारा किसानों को 50 हजार करोड रूपये का चूना लगाने का आरोप लगाते हुए उसके खिलाफ आंदोलन का बिगुल फूंकने का ऐलान किया है. पार्टी नेताओं ने आंदोलन की यह घोषणा रविवार को किसान आंदोलन के लिए क्रांतिकारी गांव माने जाने वाले भटटा-पारसौल में दर्जन भर गांवों की महापंचायत का आयोजन कर की. पार्टी ने किसानों की सर्व सम्मति से 2 अक्टूबर को गांधी जयंती के अवसर पर जेवर इंटर चेंज पर महापंचायत कर जे.पी. इंफ्राटेक की लूट के खिलाफ आंदोलन करने का निर्णय लिया है. इस अवसर पर महापंचायत में एक आम किसान चौ0 चंद्रभान सिंह द्वारा हस्ताक्षर करा कर पार्टी का प्रथम परिचय पत्र पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष चौ0 पुष्पेंद्र सिंह को जारी किया गया.harit pradesh party

हरित प्रदेश पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष चौ0 पुष्पेंद्र सिंह ने कहा कि जे.पी. इंफ्राटेक लिमिटेड ने प्रदेश की भ्रष्ट सपा व बसपा की सरकारों से मिलीभगत कर किसानों को लूटने का काम किया है. जेपी ने यमुना एक्सप्रैस वे के निर्माण में अपनी केवल 1388 करोड रूपये की पूँजी का निवेश किया है. प्रदेश की तत्कालीन बसपा सरकार द्वारा 6177 एकड भूमि को विकसित कर बेचने का अधिकार भी जे.पी. को दिया गया है. इस भूमि का वर्तमान बाजार मूल्य कम से कम 50 हजार करोड रूपये है. जे.पी. ने वित्त वर्ष 2012-13 रूपये 868 करोड तथा वित्त वर्ष 2011-12 में 1597 करोड का लाभ कमाया है. कंपनी को टोल से तो मात्र 58 करोड की आमंदनी हुई है. जे.पी. इंफ्राटेक लिमिटेड अपने 6 वर्ष के कार्यकाल में 31 मार्च 2013 तक कुल 4791 करोड रूपये की धन राशी मुनाफे के रूप में कमाकर अपने पास रख चुका है. चौ0 पुष्पेंद्र सिंह ने कहा कि ये तमाम आंकडे कोई हवाई नहीं हैं. ये आंकडे जे.पी. इंफ्राटेक लिमिटेड द्वारा वित्त वर्ष 2012-13 की अपनी वार्षिक रिपोर्ट में स्वंय पेश किए गए हैं. इन आंकडों के आधार पर साफ है कि यह कंपनी सडक बनाकर टोल एकत्र करने की आड में किसानों की बहूमूल्य भूमि को सस्ते में हडपने का एक माध्यम मात्र है. कोई भी दल जे.पी. की इस खुली लूट के खिलाफ बोलने का नाम नहीं ले रहा है. लेकिन हरित प्रदेश पार्टी किसानों की इस लूट को बर्दाश्त नहीं करेगी. पार्टी 2 अक्टूबर को गांधी जयंती के अवसर पर जेवर इंटर चेंज पर एक विशाल महापंचायत का आयोजन करके जे.पी. और प्रदेश की भ्रष्ट सरकारों द्वारा हरित प्रदेश में हो रही लूट का पर्दाफाश करेगी.

हरित प्रदेश पार्टी के वरिष्ठ नेता एवं संस्थापक सदस्य भूपेंद्र चौधरी एडवोकेट ने कहा कि जे.पी. द्वारा सपा, बसपा की सरकारों की मिली भगत से हरित प्रदेश के लाखों किसानों से करोडों रूपये की लूट अब किसान किसी भी रूप में बर्दाश्त नहीं करेगा. तथ्यातमक रूप से जे.पी. की स्वंय वार्षिक रिपोर्ट के आधार पर इस खुली लूट का खुलासा होता है. इतनी लूट खसौट करने के बाद भी जे.पी. तथा भ्रष्ट नेताओं का पेट नहीं भरा है. अब वो जेवर जैसे इंटर चेंज पर भी बडा टोल बूथ लगने के बावजूद वहां पर उतरने छढने वालों के लिए एक छोटा टोल लगाकर जबरन अवैध टोल वसूली कर रहे है. पहले से ही लुटा हुआ किसान अब जे.पी. के इस अन्याय को कतई बर्दाश्त नहीं करेगा. अब क्षेत्र का किसान जे.पी. को किसी भी हालत में क्षेत्र की जनता से अवैध टोल वसूली नहीं करने देगा.

(प्रेस विज्ञप्ति)

Facebook Comments

संबंधित खबरें:

मीडिया दरबार के मॉडरेटर 1979 से पत्रकारिता से जुड़े हैं. एक साप्ताहिक से शुरूआत के बाद अस्सी के दशक में स्वतंत्र पत्रकार बतौर खोजी पत्रकारिता में कदम रखा, हिंदी के अधिकांश राष्ट्रीय अख़बारों में हस्ताक्षर. उसी दौरान राजस्थान के अजमेर जिले के एक सशक्त राजनैतिक परिवार द्वारा एक युवती के साथ किये गए खिलवाड़ पर नवभारत टाइम्स के लिए लिखी रिपोर्ट वरिष्ठ पत्रकार श्री मिलाप चंद डंडिया की पुस्तक "मुखौटों के पीछे - असली चेहरों को उजागर करते पचास वर्ष" में भी संकलित की गयी है. कुछ समय के लिए चौथी दुनियां के मुख्य उपसंपादक रहे किन्तु नौकरी कर पाने के लक्खन न होने से तेईस दिन में ही चौथी दुनिया को अलविदा कह आये. नब्बे के दशक से पिछले दशक तक दूरदर्शन पर समसामयिक विषयों पर प्रायोजित श्रेणी में कार्यक्रम बनाते रहे. अब वैकल्पिक मीडिया पर सक्रिय.