Loading...
You are here:  Home  >  मीडिया  >  इधर उधर की  >  Current Article

‘क्राइम-बेस्ड’ न्यूज चैनल ला रहा है ‘जी’ ग्रुप!

By   /  August 28, 2013  /  3 Comments

    Print       Email
इस खबर को अपने मित्रों से साझा करें..

Zee news logo

‘क्राइम-बेस्ड’ न्यूज चैनल ला रहा है ‘जी’ ग्रुप!

मीडिया दरबार एक्सक्लूसिव: अपराधियों के लिए खुशखबरी है। अंदरखाने चल रही जानकारी के आधार पर बात सामने आ रही है कि देश में सबसे ज्यादा दर्शक होने का दावा करने वाला ‘जी न्यूज समूह’ जल्द ही एक और चैनल के साथ ख़बरों की होड़ में उतरने को तैयार है। इस बहाने अपराधियों को अपराध करने के नए नए तरीके भी सीखने को मिलेगें।

इन बातों पर भरोसा करें तो देश के दर्शकों को जल्द ही पहला ‘क्राइम बेस्ड’ न्यूज चैनल मिल सकता है। यह चैनल पूरी तरह अपराधिक ख़बरों को ही दिखायेगा। जो जानकारी सामने आ रही है, उसके मुताबिक इस नए चैनल की रूप-रेखा तैयार हो चुकी है और जल्द ही इसे लांच किया जा सकता है। क्राइम-बेस्ड’ इस चैनल में के लिए शीर्ष स्तर पर कुछ लोग अपना काम काज संभाल भी चुके हैं।

इस चैनल के प्रमुख के तौर पर नवीन कुमार का नाम लगभग फाइनल हो चुका है, और जल्द ही इसकी आधिकारिक घोषणा की जा सकती है।

नए नवेले इस चैनल में विनय पाठक भी अपनी सेवाएं देंगे, जो अबतक इंडिया न्यूज में क्राइम की डेस्क संभाल रहे थे। इसके अलावा स्टार-एबीपी के बहुचर्चित क्राइम शो ‘सनसनी’ की टीम से भी कुछ लोगों के जुड़ने की चर्चा है। हालांकि अभी तक ‘जी ग्रुप’ से इन तथ्यों की आधिकारिक पुष्टि नहीं हो पाई है।

Facebook Comments

इस खबर को अपने मित्रों से साझा करें..
    Print       Email

3 Comments

  1. Ashok Gupta says:

    SARE CHANEL NEWS CHANEL KE AAM PR KHULTE HAI OR NEWS KE NAAM PR (0) NEWS HOTI HAI

  2. mahendra gupta says:

    पहले देश में क्या क्राइम कम हैं जो उनका प्रचार प्रसार और सिखाने के लिए ऐसे चैनल की जरूरत पड गयी.अभी भी कितने नामी गिरामी चैनल जागरूक करने व सतर्कता के नाम पर अपराधों का बाकायदा नाट्य रूपांतरण कर दिखा रहें हैं,पतन होते देश को एक लात मारने में यह ग्रुप भी पीछे नहीं रहना चाहता.

  3. पहले देश में क्या क्राइम कम हैं जो उनका प्रचार प्रसार और सिखाने के लिए ऐसे चैनल की जरूरत पड गयी.अभी भी कितने नामी गिरामी चैनल जागरूक करने व सतर्कता के नाम पर अपराधों का बाकायदा नाट्य रूपांतरण कर दिखा रहें हैं,पतन होते देश को एक लात मारने में यह ग्रुप भी पीछे नहीं रहना चाहता.

पाठक चाहे आलेखों से सहमत हों या असहमत, किसी भी लेख पर टिप्पणी करने को स्वतंत्र हैं. हम उन टिप्पणियों को बिना किसी भेद-भाव के निडरता से प्रकाशित भी करते हैं चाहे वह हमारी आलोचना ही क्यों न हो. आपसे अनुरोध है कि टिप्पणियों की भाषा संयत एवं शालीन रखें - मॉडरेटर

You might also like...

एक जज की मौत : The Caravan की सिहरा देने वाली वह स्‍टोरी जिस पर मीडिया चुप है..

Read More →
Page Reader Press Enter to Read Page Content Out Loud Press Enter to Pause or Restart Reading Page Content Out Loud Press Enter to Stop Reading Page Content Out Loud Screen Reader Support
%d bloggers like this: