/आसाराम का फट गया ढोल, नरेन्द्र मोदी ने पल्ला झाड़ा…

आसाराम का फट गया ढोल, नरेन्द्र मोदी ने पल्ला झाड़ा…

अहमदाबाद: एक नाबालिग लड़की से बलात्कार करने के आरोप में साधू बने शैतान आसाराम को कल तक गिरफ्तार किये जाने की पूरी पूरी संभावना है. गुजरात के मुख्यमंत्री नरेन्द्र मोदी ने भी अब इस ढोंगी से अपने पल्ले झाड लिए हैं.Asaram8

मोदी ने भारतीय जनता पार्टी के शीर्ष नेताओं को सख्त सूचना दे दी है कि वे आसाराम के समर्थन में बयान न दें. गौरतलब है कि उमा भारती ने आसाराम के पक्ष में बयान दिया था.

जोधपुर पुलिस द्वारा आसाराम को 30 अगस्त तक थाने में हाजिर रहने का  नोटिस दिया गया है. राजस्थान पुलिस का कहना है कि यदि आसाराम ने नोटिस का पालन नहीं किया तो उन्हें गिरफ्तार किया जा सकता है.

इस नोटिस के खिलाफ उसके समर्थको ने आज कई जगह प्रदर्शन किये. नोटिस लेकर आई पुलिस को आसाराम ने एक चिठ्ठी दे कर थाने में हाजिर होने की मियाद बढाने की मांग की जो जोधपुर पुलिस अधिकारियों ने यह कह कर खारिज कर दी कि आसाराम पर नाबालिग लड़की द्वारा लगाए आरोंप बहुत गंभीर हैं.

आसाराम देश छोड़ कर कही भाग न जाए इसके लिए राजस्थान पुलिस ने केंद्र सरकार को भी सावधान कर दिया है. देश से बाहर जाने के सभी रास्तों पर उसे पुलिस खोज रही है ऐसी सूचना दे दी गयी है.

इस बीच जोधपुर पुलिस ने आसाराम के आश्रम में खोज बीन कर यह भी पुख्ता कर लिया है कि 15  अगस्त के दिन त्रासित बालिका और उसके माता पिता घटना स्थल पर वाकई मौजूद थे.

वहीँ, आसाराम ने आज कहा कि सोनिया गांधी और उनके पुत्र राहुल गांधी ने उसे फंसाने के लिए यह साज़िश रची है.

Facebook Comments

संबंधित खबरें:

मीडिया दरबार के मॉडरेटर 1979 से पत्रकारिता से जुड़े हैं. एक साप्ताहिक से शुरूआत के बाद अस्सी के दशक में स्वतंत्र पत्रकार बतौर खोजी पत्रकारिता में कदम रखा, हिंदी के अधिकांश राष्ट्रीय अख़बारों में हस्ताक्षर. उसी दौरान राजस्थान के अजमेर जिले के एक सशक्त राजनैतिक परिवार द्वारा एक युवती के साथ किये गए खिलवाड़ पर नवभारत टाइम्स के लिए लिखी रिपोर्ट वरिष्ठ पत्रकार श्री मिलाप चंद डंडिया की पुस्तक "मुखौटों के पीछे - असली चेहरों को उजागर करते पचास वर्ष" में भी संकलित की गयी है. कुछ समय के लिए चौथी दुनियां के मुख्य उपसंपादक रहे किन्तु नौकरी कर पाने के लक्खन न होने से तेईस दिन में ही चौथी दुनिया को अलविदा कह आये. नब्बे के दशक से पिछले दशक तक दूरदर्शन पर समसामयिक विषयों पर प्रायोजित श्रेणी में कार्यक्रम बनाते रहे. अब वैकल्पिक मीडिया पर सक्रिय.