/अब पुलिस गिरफ्त से नही बच पाएँगे आसाराम…

अब पुलिस गिरफ्त से नही बच पाएँगे आसाराम…

वासना का भूत उतरेगा आसाराम से..जोधपुर पुलिस की टीम गिरफ्तार करने जाएगी भोपाल…

-संगीता शर्मा||

जोधपुर. नाबालिग छात्रा  से यौन शोषण के मामले में विवादास्पद आसाराम पर अब गाज गिरना तय है.  हालांकि वे शुक्रवार को पूछताछ के लिए जोधपुर पुलिस के समक्ष पेश नहीं हुए. आसाराम के बेटे नारायण साईं ने उनकी बीमारी का बहाना बनाते  हुए पुलिस के समक्ष पेश होने में असमर्थता जतार्इ हैं. मगर जोधपुर पुलिस उन्हें किसी भी तरह की राहत देने की मूड में नही है. अब आसाराम को गिरफ्तार करने के लिए शुक्रवार शाम को एक पुलिस टीम भोपाल जाएगी. इससे पहले बापू ने जोधपुर पुलिस के सामने पेश होने के लिए कुछ और समय देने की मांग की थी. पुलिस ने उन्हें किसी प्रकार की मोहलत देने से इनकार कर दिया कर दिया था.  आसाराम को 30 अगस्त तक हर हाल में पुलिस के सामने पेश होकर अपना बयान दर्ज करने आना था.asaram3

मध्यप्रदेश के छिंदवाडा स्थित आश्रम में पढने वाली सोलह साल की छात्रा को आसाराम ने भूत उतारने के बहाने जोधपुर बुलाकर मणाई गाँव स्थित अपने आश्रम में 15 अगस्त की रात बदसलूकी की थी. उस मामले में गत मंगलवार को जोधपुर पुलिस के समक्ष पेश होने के लिए इंदोर में सम्मन तामिल कराया था. उसके मुताबिक 30 अगस्त तक उन्हें पूछताछ के लिए उन्हें आना था. आज  जोधपुर आकर पेश  होने की आखिरी तारीख है, लेकिन वे जोधपुर नहीं पहुंचे. उधर उनके बेटे नारायण स्वामी ने भोपाल में पत्रकारों को बताया कि बापू शुक्रवार को जोधपुर पुलिस के समक्ष पेश होने जाने वाले थे मगर उनकी तबियत अचानक खराब हो गर्इ. इस वजह से उनका जोधपुर का टिकट भी रदद करवाना पडा. इधर उनके नहीं पहुंचने पर जोधपुर पुलिस ने एक पुलिस टीम तैयार कर ली है. जोधपुर  डिप्टी पुलिस कमिश्नर अजय सिंह लाम्बा ने बताया कि आसाराम आज पूछताछ के लिए अभी तक पेश  नहीं हुए है. ना ही उनका कोर्इ मेडिकल सर्टिफिकेट मिला है. उन्हें जारी सम्मन की अंतिम समय सीमा के आधार पर शुक्रवार शाम तक इंतजार किया जाएगा और यदि वह तब तक पेश नहीं होते हैं तो उन्हें गिरफ्तार करने के लिए एक दल भेज जाएगा. उन्होने बताया उन्हें गिरफ्तार करने के लिए  टीम भोपाल रवाना की जाएगी. वहां जाकर उनसे पूछताछ होगी और वास्तव में वो बीमार है तो उनका मेडिकल सर्टिफिकेट लिया जाएगा नहीं तो उन्हें गिरफ्तार कर जोधपुर लाया जाएगा.

लाम्बा ने बताया कि आसाराम के अलावा और तीन अन्य आरोपियों शिल्पी जो गुरुकुल में छात्रावास की वार्डन है, केशव जो गुरुकुल का प्रबंधक है और शिव जो आसाराम का सहायक है को आज पूछताछ के लिए जांच अधिकारी के समक्ष पेश होना था लेकिन वह अभी नही आये है.

डीसीपी ने बताया कि पीडित लडकी के आरोप के अनुसार शिल्पी और केशव ने बुरी आत्माओं को दूर करने के अनुष्ठान के लिए 16 वर्षीय लड़की को जोधपुर भेजा था. इस अनुष्ठान के लिए आसाराम 15 अगस्त की रात नाबालिग के साथ कमरे में अकेले रहना चाहते थे. शिव ने पीड़िता को धमकी देते हुए कहा था कि वह इस घटना के बारे में किसी से खुलासा न करे.

इससे पूर्व गुरुवार को अहमदाबाद में आसाराम के बेटे नारायण साई ने प्रवर्चन के दौरान दावा किया था कि आरोप लगाने वाली पीडित लडकी मानसिक रूप से असंतुलित है. जबकि अपने भक्तो को क्रोध और वाणी पर संयम रखने की सीख देने वाले कथित भगवान आसाराम बापू खुद ही अपना आपा खो बैठे. बापू के समर्थक भी उग्र हो गए और नारेबाजी करने लगे. कल भोपाल एअरपोर्ट पर पत्रकारों ने जब बापू से दुष्कर्म मामले में सवाल किये तो बापू पत्रकारों पर भड़क गए. एक सवाल के जवाब में बापू ने कहा कि मुझे परेशान मत करो. मुझे किसी भी पार्टी का राजनीतिक सरक्षण नहीं मिल रहा है. उन्होंने तो यह तक कहा कि यह जो कुछ भी हो रहा है उसके पीछे मैडम (सोनिया गाँधी) और उनके पुत्र (राहुल गांधी) के इशारे पर हो रहा है. इस बीच राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत गृह मंत्री सुशील कुमार शिंदे से मिले और आसाराम के विरुद्ध हो रही कार्रवाई का ब्यौरा दिया.

Facebook Comments

संबंधित खबरें:

मीडिया दरबार के मॉडरेटर 1979 से पत्रकारिता से जुड़े हैं. एक साप्ताहिक से शुरूआत के बाद अस्सी के दशक में स्वतंत्र पत्रकार बतौर खोजी पत्रकारिता में कदम रखा, हिंदी के अधिकांश राष्ट्रीय अख़बारों में हस्ताक्षर. उसी दौरान राजस्थान के अजमेर जिले के एक सशक्त राजनैतिक परिवार द्वारा एक युवती के साथ किये गए खिलवाड़ पर नवभारत टाइम्स के लिए लिखी रिपोर्ट वरिष्ठ पत्रकार श्री मिलाप चंद डंडिया की पुस्तक "मुखौटों के पीछे - असली चेहरों को उजागर करते पचास वर्ष" में भी संकलित की गयी है. कुछ समय के लिए चौथी दुनियां के मुख्य उपसंपादक रहे किन्तु नौकरी कर पाने के लक्खन न होने से तेईस दिन में ही चौथी दुनिया को अलविदा कह आये. नब्बे के दशक से पिछले दशक तक दूरदर्शन पर समसामयिक विषयों पर प्रायोजित श्रेणी में कार्यक्रम बनाते रहे. अब वैकल्पिक मीडिया पर सक्रिय.