/राजनीति के दागी चेहरे: पवन कुमार दुग्गल…

राजनीति के दागी चेहरे: पवन कुमार दुग्गल…

राजस्थान मे दागी विधायकों और नेताओं की कमी नहीं चाहे भंवरी देवी कांड के महिपाल मदेरणा हो या इन दिनों बलात्कार के आरोप से चर्चित हुए बाबूलाल नागर. राजस्थान विधानसभा चुनावों की घोषणा कभी भी हो सकती है और कई दल अपने वर्तमान विधान सभा सदस्यों को फिर से मैदान में उतार सकती है.Pawan-Duggal

pawan kumar duggalराजस्थान में यूँ तो कई और भी दागी विधायक हैं, जिनपर भारतीय दंड संहिता की विभिन्न धाराओं में मुकद्दमें चल रहे हैं लेकिन आज के स्टार दागी विधायक राजस्थान में माकपा के विधायक पवन कुमार दुग्गल हैं. 13 आपराधिक मामलों के साथ वो सभी विधायकों मे पहले नम्बर पर हैं. इन तेरह अपराधिक मामलों में से आधे मामले यानि कि छह प्रकरण बेहद गंभीर माने जाने वाले हत्या के प्रयास के हैं, जिनमे भारतीय दंड संहिता की धारा 307  कगी हुई है तो कुछ मामले डकैती के भी चल रहे हैं जिनमे धरा 395 लगी हुई है.

पवन कुमार दुग्गल द्वारा अपना नामांकन पत्र चुनाव चुनाव अधिकारी के समक्ष प्रस्तुत करते समय इन्होनें अपने शपथ पत्र में खुद पर चल रहे मुकद्दमों की सूचि दी थी जो कि इस प्रकार है.

1. IPC 332, 353, 336, 147, 148, 149 मुकदमा संख्या 386/04, पी एस. जिला घड़साना अनूपगढ़,. श्रीगंगानगर, न्यायिक दंडाधिकारी प्रथम श्रेणी, घड़साना

2. IPC 332, 343, 147, 148, 149, 353, 186 मुकदमा संख्या 406/04, पी एस. जिला घड़साना अनूपगढ़,. श्रीगंगानगर, न्यायिक दंडाधिकारी प्रथम श्रेणी, घड़साना

3. IPC 307, 382, ​​353, 147, 148, 149, 188 मुकदमा संख्या 407/04, पी एस. जिला घड़साना अनूपगढ़,. श्रीगंगानगर, न्यायिक दंडाधिकारी प्रथम श्रेणी, घड़साना

4. IPC 307, 332, 353, 121a, 116, 120 बी, 109, 147, 148, 149, 336, 188, 283     मुकदमा संख्या 151/06, पी एस. जिला घड़साना अनूपगढ़,. श्रीगंगानगर, न्यायिक दंडाधिकारी प्रथम श्रेणी, घड़साना

5. IPC 307, 332, 353, 336, 341, 147, 148, 149, 117  3 PDPP अधिनियम, 27 आर्म्स एक्ट, 3/6 विस्फोटक अधिनियम, मुकदमा संख्या 251/06, पी एस. जिला घड़साना अनूपगढ़,. श्रीगंगानगर, न्यायिक दंडाधिकारी प्रथम श्रेणी, घड़साना

6. IPC 435, 336, 452, 147, 148, 149, 188, 109, 27 आर्म्स एक्ट, मुकदमा संख्या 414/04, पी एस. जिला घड़साना अनूपगढ़,. श्रीगंगानगर, न्यायिक दंडाधिकारी प्रथम श्रेणी, घड़साना

7. IPC 147, 148, 149, 436, 395  3,4 PDPP अधिनियम, मुकदमा संख्या 415/04, पी एस. जिला घड़साना अनूपगढ़,. श्रीगंगानगर, अतिरिक्त जिला न्यायाधीश, अनूपगढ़

8. IPC 341, 353, 189, 147, 148, 149, मुकदमा संख्या 363/6, पी एस. जिला घड़साना अनूपगढ़,. श्रीगंगानगर, अतिरिक्त जिला न्यायाधीश, अनूपगढ़

9. IPC 307, 332, 353, 333, 336, 382, ​​283, 147, 148, 149 3 PDPP अधिनियम, मुकदमा संख्या 307/05, पी एस. जिला घड़साना अनूपगढ़,. श्रीगंगानगर, न्यायिक दंडाधिकारी प्रथम श्रेणी, अनूपगढ़

10. IPC 147, 148, 149, 336 3 PDPP अधिनियम, मुकदमा संख्या 556/04, पी एस. जिला घड़साना अनूपगढ़,. श्रीगंगानगर, न्यायिक दंडाधिकारी प्रथम श्रेणी, अनूपगढ़

11. 307, 332, 353, 336, 147, 148, 149   3 PDPP अधिनियम, मुकदमा संख्या 557/04, पी एस. जिला घड़साना अनूपगढ़,. श्रीगंगानगर, न्यायिक दंडाधिकारी प्रथम श्रेणी, अनूपगढ़

12. IPC 283, 147, 149 मुकदमा संख्या 306/05, पी एस. जिला घड़साना अनूपगढ़,. श्रीगंगानगर, न्यायिक दंडाधिकारी प्रथम श्रेणी, अनूपगढ़

13. IPC 307, 332, 353, 336, 341, 147, 148, 149, 27 आर्म्स एक्ट, 3/6 विस्फोटक अधिनियम, मुकदमा संख्या 251/06, पी एस. जिला घड़साना अनूपगढ़,. श्रीगंगानगर, न्यायिक दंडाधिकारी प्रथम श्रेणी, अनूपगढ़

इस सूचि को प्रकाशित करने के पीछे मीडिया दरबार का मकसद यह है कि आप लोग जाने कि राजनैतिक दल किस किस्म के नेताओं को अपना उम्मीदवार बनाती है और यही लोग संसद और विधान सभाओं में जाकर हमारे भाग्य नियंता बनाते हैं..

पवन दुग्गल द्वारा प्रस्तुत शपथ पत्र डाउनलोड करने के लिए यहाँ क्लिक करें..

Facebook Comments

संबंधित खबरें:

  • संबंधित खबरें उपलब्ध नहीं

मीडिया दरबार के मॉडरेटर 1979 से पत्रकारिता से जुड़े हैं. एक साप्ताहिक से शुरूआत के बाद अस्सी के दशक में स्वतंत्र पत्रकार बतौर खोजी पत्रकारिता में कदम रखा, हिंदी के अधिकांश राष्ट्रीय अख़बारों में हस्ताक्षर. उसी दौरान राजस्थान के अजमेर जिले के एक सशक्त राजनैतिक परिवार द्वारा एक युवती के साथ किये गए खिलवाड़ पर नवभारत टाइम्स के लिए लिखी रिपोर्ट वरिष्ठ पत्रकार श्री मिलाप चंद डंडिया की पुस्तक "मुखौटों के पीछे - असली चेहरों को उजागर करते पचास वर्ष" में भी संकलित की गयी है. कुछ समय के लिए चौथी दुनियां के मुख्य उपसंपादक रहे किन्तु नौकरी कर पाने के लक्खन न होने से तेईस दिन में ही चौथी दुनिया को अलविदा कह आये. नब्बे के दशक से पिछले दशक तक दूरदर्शन पर समसामयिक विषयों पर प्रायोजित श्रेणी में कार्यक्रम बनाते रहे. अब वैकल्पिक मीडिया पर सक्रिय.