Loading...
You are here:  Home  >  राजनीति  >  Current Article

सर्वोच्च न्यायालय का फैंसला, EVM में होगा “कोई नहीं” का विकल्प…

By   /  September 27, 2013  /  1 Comment

    Print       Email
इस खबर को अपने मित्रों से साझा करें..

सर्वोच्च न्यायालय ने एक ऐतिहासिक फैसले में आज कहा कि मतदाताओं के पास नकारात्मक वोट डाल कर चुनाव लड़ रहे सभी प्रत्याशियों को अस्वीकार करने का अधिकार है. न्यायालय का यह निर्णय प्रत्याशियों से असंतुष्ट लोगों को मतदान के लिए प्रोत्साहित करेगा.supreme-court-india

निर्वाचन आयोग को उच्चतम न्यायालय ने आदेश दिया कि वह इलेक्ट्रॉनिक वोटिंग मशीनों में और मतपत्रों में प्रत्याशियों की सूची के आखिर में उपर दिए गए विकल्पों में से कोई नहीं का विकल्प मुहैया कराएं ताकि मतदाता चुनाव लड़ रहे प्रत्याशियों से असंतुष्ट होने की स्थिति में उन्हें अस्वीकार कर सके.

प्रधान न्यायाधीश न्यायमूर्ति पी सदाशिवम की अगुवाई वाली पीठ ने कहा कि नकारात्मक मतदान (निगेटिव वोटिंग) से चुनावों में शुचिता और जीवंतता को बढ़ावा मिलेगा तथा व्यापक भागीदारी भी सुनिश्चित होगी क्योंकि चुनाव मैदान में मौजूद प्रत्याशियों से संतुष्ट नहीं होने पर मतदाता प्रत्याशियों को खारिज कर अपनी राय जाहिर करेंगे.

पीठ ने कहा कि नकारात्मक मतदान की अवधारणा से निर्वाचन प्रकिया में सर्वांगीण बदलाव होगा, क्योंकि राजनीतिक दल स्वच्छ छवि वाले प्रत्याशियों को ही टिकट देने के लिए मजबूर होंगे.

पीठ ने कहा कि नकारात्मक मतदान की अवधारणा 13 देशों में प्रचलित है और भारत में भी सांसदों को संसद भवन में मतदान के दौरान अलग रहने के लिए बटन दबाने का विकल्प मिलता है.

व्यवस्था देते हुए पीठ ने कहा कि चुनावों में प्रत्याशियों को खारिज करने का अधिकार संविधान द्वारा भारतीय नागरिकों को दिए गए बोलने एवं अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता के मौलिक अधिकार का हिस्सा है.

पीठ के अनुसार, लोकतंत्र पसंद का मामला है और नकारात्मक वोट डालने के नागरिकों के अधिकार का महत्व व्यापक है. नकारात्मक मतदान की अवधारणा के साथ, चुनाव मैदान में मौजूद प्रत्याशियों से असंतुष्ट मतदाता अपनी राय जाहिर करने के लिए बड़ी संख्या में आएंगे जिसकी वजह से विवेकहीन तत्व और दिखावा करने वाले लोग चुनाव से बाहर हो जाएंगे.

पीठ ने हालांकि इस बारे में कुछ स्पष्ट नहीं किया कि कोई विकल्प नहीं के तहत डाले गए वोटों की संख्या अगर प्रत्याशियों को मिले वोटों से अधिक हो तो क्या होगा. आगे पीठ ने कहा कि कोई विकल्प नहीं श्रेणी के तहत डाले गए वोटों की गोपनीयता निर्वाचन आयोग को बनाए रखनी चाहिए.

Facebook Comments

इस खबर को अपने मित्रों से साझा करें..
    Print       Email

About the author

मीडिया दरबार के मॉडरेटर 1979 से पत्रकारिता से जुड़े हैं. एक साप्ताहिक से शुरूआत के बाद अस्सी के दशक में स्वतंत्र पत्रकार बतौर खोजी पत्रकारिता में कदम रखा, हिंदी के अधिकांश राष्ट्रीय अख़बारों में हस्ताक्षर. उसी दौरान राजस्थान के अजमेर जिले के एक सशक्त राजनैतिक परिवार द्वारा एक युवती के साथ किये गए खिलवाड़ पर नवभारत टाइम्स के लिए लिखी रिपोर्ट वरिष्ठ पत्रकार श्री मिलाप चंद डंडिया की पुस्तक “मुखौटों के पीछे – असली चेहरों को उजागर करते पचास वर्ष” में भी संकलित की गयी है. कुछ समय के लिए चौथी दुनियां के मुख्य उपसंपादक रहे किन्तु नौकरी कर पाने के लक्खन न होने से तेईस दिन में ही चौथी दुनिया को अलविदा कह आये. नब्बे के दशक से पिछले दशक तक दूरदर्शन पर समसामयिक विषयों पर प्रायोजित श्रेणी में कार्यक्रम बनाते रहे. अब वैकल्पिक मीडिया पर सक्रिय.

1 Comment

  1. Devendra Surjan says:

    Ek taraf sarkaar ne daagi netaon ko bachaane SC ke aadesh ko adhyadesh banakar palta to doosari or SC ne None Of The Above kaa aadesh EC ko dekar jaise apradhiyon ko raajniiti se baahar karne kaa jimma Janata par hii daal diya. Ab sarkaar ne ise paltne kii koshish kii to vah use manhgi padegi. None Of The Above / Right To Recall kaa mudda bahut lambe samay se charchit tha aur Anna ne apne aandolan se iski hawa bana dii thi . Sarkaar apradhiyon ko raajniiti men banaaye rakhna chahti hai to Aam aadmi ke paas unki Jamanat Japt kara dene kaa adhikaar aa gaya hai. BJP jisane apraadhiyon ko raajniiti men rakhne sarkaari prastaav kaa samarthan kiya tha aur baad men apna iraada badal daala tha ke saath saath Rahul Aur Milind Devda jaise yuvaaon par ab yah jimmedari banti hai ki vah in donon muddon par apna rukh spashth karen aur Matdata ko mile adhikaar ko chhiinane kii koi sarkaari koshish nahin hone den. Kaha jaa raha hai ki sarkaar Laloo Yadav ko bachaane ke liye Adhyadesh laai thi , jabki unke jaise kai aur apradhi sabhi partiyon men bhare pade hain. Kuchh neta hii Bhartiiy Raajniiti ke paryaay nahin hain. Ek do apradhinuma neta andar rahen yaa baahar yaa upar hii chale jaayen – desh kii raajniiti ko swaksh karne ke do – do adhikaar ek ke baad SC ne desh kii janta ko de diye hain aur inhen samjhdari se prayog karne kaa daayitva ab ham janta par aa gaya hai.

पाठक चाहे आलेखों से सहमत हों या असहमत, किसी भी लेख पर टिप्पणी करने को स्वतंत्र हैं. हम उन टिप्पणियों को बिना किसी भेद-भाव के निडरता से प्रकाशित भी करते हैं चाहे वह हमारी आलोचना ही क्यों न हो. आपसे अनुरोध है कि टिप्पणियों की भाषा संयत एवं शालीन रखें - मॉडरेटर

You might also like...

पाकिस्‍तान ने नहीं किया लेकिन भाजपा ने कर दिखाया..

Read More →
Page Reader Press Enter to Read Page Content Out Loud Press Enter to Pause or Restart Reading Page Content Out Loud Press Enter to Stop Reading Page Content Out Loud Screen Reader Support
%d bloggers like this: