/आसाराम के इंदौर आश्रम पर चला बुलडोजर…

आसाराम के इंदौर आश्रम पर चला बुलडोजर…

अपने ही गुरुकुल में पढ़ रही नाबालिग छात्रा से भूत उतारने की आड़ में किये गए यौन हमले के मामले में जोधपुर जेल के सीखंचों में बंद आसाराम की मुश्किलें ज़मीनों पर अवैध कब्जों को लेकर बढ़ती जा रही हैं. जिसके चलते इंदौर के खंडवा रोड पर गैरकानूनी रूप से बने आसाराम के आश्रम पर शनिवार को जिला अधिकारियों ने बुलडोजर चला दिया है.asaram bulldozer on indore ashram

भारी विरोध के बीच आश्रम का गेट तोड़ा गया.

जानकारी के मुताबिक इस आश्रम का कुछ हिस्सा सरकारी जमीन पर बना हुआ है, जिसमें प्रवेश द्वार भी शामिल है.

अवैध निर्माण कर बनाए गए आश्रम पर कार्रवाई करने के लिए जब प्रशासन की टीम वहां पहुंची तो आसाराम के समर्थकों ने वहां विरोध करना शुरू कर दिया. आसाराम के समर्थकों के भारी विरोध के बीच आश्रम का मुख्य द्वार ढहा दिया गया.

इस मामले में प्रशासन खंडवा रोड स्थित आसाराम के आश्रम को पहले ही नोटिस जारी कर चुका था.

गौरतलब है कि आसाराम इस वक्त यौन शोषण के मामले में जोधपुर सेंट्रल जेल में हैं. उन्हें एक सितंबर को इंदौर से गिरफ्तार किया गया था. इस बीच उनके हिमाचल, जोधपुर, मध्यप्रदेश और बाकी आश्रमों पर भी छानबीन की जा रही है.

Facebook Comments

संबंधित खबरें:

मीडिया दरबार के मॉडरेटर 1979 से पत्रकारिता से जुड़े हैं. एक साप्ताहिक से शुरूआत के बाद अस्सी के दशक में स्वतंत्र पत्रकार बतौर खोजी पत्रकारिता में कदम रखा, हिंदी के अधिकांश राष्ट्रीय अख़बारों में हस्ताक्षर. उसी दौरान राजस्थान के अजमेर जिले के एक सशक्त राजनैतिक परिवार द्वारा एक युवती के साथ किये गए खिलवाड़ पर नवभारत टाइम्स के लिए लिखी रिपोर्ट वरिष्ठ पत्रकार श्री मिलाप चंद डंडिया की पुस्तक "मुखौटों के पीछे - असली चेहरों को उजागर करते पचास वर्ष" में भी संकलित की गयी है. कुछ समय के लिए चौथी दुनियां के मुख्य उपसंपादक रहे किन्तु नौकरी कर पाने के लक्खन न होने से तेईस दिन में ही चौथी दुनिया को अलविदा कह आये. नब्बे के दशक से पिछले दशक तक दूरदर्शन पर समसामयिक विषयों पर प्रायोजित श्रेणी में कार्यक्रम बनाते रहे. अब वैकल्पिक मीडिया पर सक्रिय.