Loading...
You are here:  Home  >  दुनियां  >  देश  >  Current Article

दीवाली पर चीनी माल का आर्थिक आक्रमण…

By   /  October 31, 2013  /  3 Comments

    Print       Email
इस खबर को अपने मित्रों से साझा करें..

दीवाली पर हमारें धन को लील रहा चीनी ड्रेगन…

“नुकसानदेह चीनी पटाखें और घातक प्लास्टिक से बनी झालरें और अन्य दीवाली के सामान कर रहें हमारें अर्थतंत्र और जनतंत्र को खोखला.”

ये हालात तब हैं जब चीन का उत्पादन चीन में बन कर भारत आ रहा है किन्तु अब तो स्थिति और अधिक गंभीर हो रही हैं क्योकि गत सप्ताह हमारें प्रधानमन्त्री मनमोहन सिंह ने अपनी चीन यात्रा के दौरान इस करार पर हस्ताक्षर करनें की आत्मघाती भूल कर दी है कि भारत में अब एक चाइनीज ओद्योगिक परिसर बनेगा जहां चीनी उद्योग ही लगेंगे और उन्हें बहुत सी अतिरिक्त छूटें और रियायतें प्रदान की जायेंगी…

एक सार्वभौम राष्ट्र के रूप में हम, हमारी समझ-मानस, हमारी अर्थ व्यवस्था और हमारी तंत्र-यंत्र अभी शिशु अवस्था में ही है. इस शिशु मानस पर ईस्ट इण्डिया कम्पनी और उसके बाद के अंग्रेजों व्यापार के नाम पर हमारें देश पर हुए कब्जे और इसकी लूट खसोट की अनगिनत कहानियाँ हमारें मानस पर अंकित ही रहती है और हम यदा कदा और सर्वदा ही इस अंग्रेजी लूट खसोट की चर्चा करतें रहतें हैं. व्यापार के नाम पर बाहरी व्यापारियों द्वारा विश्व के दुसरे बड़े राष्ट्र को गुलाम बना लेनें की और उसके बाद उस सोनें की चिड़िया को केवल लूटनें नहीं बल्कि उसके रक्त को अंतिम बूंदों तक पाशविकता से चूस लेनें की घटना विश्व में कदाचित ही कहीं और देखनें को मिलेंगी. हम और हमारा राष्ट्र आज भी उतनें ही भोले और जितनें पिछली सदियों में थे!! आज हमारें बाजारों में चीनी सामानों की बहुलता और इन सामानों से ध्वस्त होती भारतीय अर्थव्यवस्था और चिन्न भिन्न होतें ओद्योगिक तंत्र को देख-समझ ही नहीं पा रहें हैं और हमारा शासन तंत्र और जनतंत्र दोनों ही इस स्थिति को सहजता से स्वीकार कर रहें हैं- इससे तो यही लगता है.chinese crackers

आज या इस सप्ताह जब आप दीवाली की खरीदी के लिए बाजार जाएँ तो ज़रा इस स्थिति पर गंभीरता और बारीकी से गौर करें कि आपकी दिवाली की ठेठ पुरानें समय से चली आ रही और आज के दौर में नई जन्मी दीपावली की आवश्यकताओं को चीनी ओद्योगिक तंत्र ने किस प्रकार से समझ बूझ कर आपकी हर जरुरत पर कब्जा जमा लिया है. दिये, झालर, पटाखे, खिलौने, मोमबत्तियां, लाइटिंग, लक्ष्मी जी की मूर्तियाँ आदि से लेकर त्योंहारी कपड़ों तक सभी कुछ चीन हमारें बाजारों में उतार चुका है और हम इन्हें खरीद-खरीद कर शनैः शनैः एक नई आर्थिक गुलामी की और बढ़ रहें हैं. ये हालात तब हैं जब चीन का उत्पादन चीन में बन कर भारत आ रहा है किन्तु अब तो स्थिति और अधिक गंभीर हो रही हैं क्योकि गत सप्ताह हमारें प्रधानमन्त्री मनमोहन सिंह ने अपनी चीन यात्रा के दौरान इस करार पर हस्ताक्षर करनें की आत्मघाती भूल कर दी है कि भारत में अब एक चाइनीज ओद्योगिक परिसर बनेगा जहां चीनी उद्योग ही लगेंगे और उन्हें बहुत सी अतिरिक्त छूटें और रियायतें प्रदान की जायेंगी.

यदि आप गौर करेंगे तो पायेंगे कि दीपावली के इन चीनी सामानों में निरंतर हो रहे षड्यंत्र पूर्ण नवाचारों से हमारी दीपावली और लक्ष्मी पूजा का स्वरुप ही बदल रहा है. हमारा ठेठ पारम्परिक स्वरुप और पौराणिक मान्यताएं कहीं पीछें छूटती जा रहीं हैं और हम केवल आर्थिक नहीं बल्कि सांस्कृतिक गुलामी को भी गले लगा रहें हैं. हमारें पटाखों का स्वरुप और आकार बदलनें से हमारी मानसिकता भी बदल रही है और अब बच्चों के हाथ में टिकली फोड़ने का तमंचा नहीं बल्कि माउजर जैसी और ए के ४७ जैसी बंदूकें और पिस्तोलें दिखनें लगी है. हमारा लघु उद्योग तंत्र बेहद बुरी तरह प्रभावित हो रहा है. पारिवारिक आधार पर चलनें वालें कुटीर उद्योग जो दीवाली के महीनों पूर्व से पटाखें, झालरें, दिए, मूर्तियाँ आदि-आदि बनानें लगतें थे वे तबाही और नष्ट हो जानें के कगार पर है. कृषि और कुटीर उत्पादनों पर प्रमुखता से आधारित हमारी अर्थ व्यवस्था पर मंडराते इन घटाटोप चीनी बादलों को न तो हम पहचान रहे हैं ना ही हमारा शासन तंत्र. हमारी सरकार तो लगता है वैश्विक व्यापार के नाम पर अंधत्व की शिकार हो गई है और बेहद तेज गति से भेड़ चाल चल कर एक बड़े विशालकाय नुक्सान की और देश को खींचें ले जा रही है.

केवल कुटीर उत्पादक तंत्र ही नहीं बल्कि छोटे, मझोले और बड़े तीनों स्तर पर पीढ़ियों से दीवाली की वस्तुओं का व्यवसाय करनें वाला एक बड़ा तंत्र निठल्ला बैठनें को मजबूर हो गया है. लगभग पांच लाख परिवारों की रोजी रोटी को आधार देनें वाला यह त्यौहार अब कुछ आयातकों और बड़े व्यापारियों के मुनाफ़ा तंत्र का एक केंद्र मात्र बन गया है. बाजार के नियम और सूत्र इन आयातकों और निवेशकों के हाथों में केन्द्रित हो जानें से सड़क किनारें पटरी पर दुकानें लगानें वाला वर्ग निस्सहाय होकर नष्ट-भ्रष्ट हो जानें को मजबूर है. यद्दपि उद्योगों से जुड़ी संस्थाएं जैसे-भारतीय उद्योग परिसंघ और भारतीय वाणिज्य एवं उद्योग महासंघ (फिक्की) ने चीनी सामान के आयात पर गहन शोध एवं अध्ययन किया और सरकार को चेताया है तथापि इससे सरकार चैतन्य हुई है इसके प्रमाण नहीं दीखते हैं.

आश्चर्य जनक रूप से चीन में महंगा बिकने वाला सामान जब भारत आकर सस्ता बिकता है तो इसके पीछे सामान्य बुद्धि को भी किसी षड्यंत्र का आभास होनें लगता है किन्तु सवा सौ करोड़ की प्रतिनिधि भारतीय सरकार को नहीं हो रहा है. सस्ते चीनी माल के भारतीय बाजार पर आक्रमण पर चिन्ता व्यक्त करते हुए एक अध्ययन में भारतीय वाणिज्य एवं उद्योग महासंघ (फिक्की) ने कहा है, “चीनी माल न केवल घटिया है, अपितु चीन सरकार ने कई प्रकार की सब्सिडी देकर इसे सस्ता बना दिया है, जिसे नेपाल के रास्ते भारत में भेजा जा रहा है, यह अध्ययन प्रस्तुत करते हुए फिक्की के अध्यक्ष श्री जी.पी. गोयनका ने कहा था, “चीन द्वारा अपना सस्ता और घटिया माल भारतीय बाजार में झोंक देने से भारतीय उद्योग को भारी नुकसान हो रहा है. भारत और नेपाल व्यापार समझौते का चीन अनुचित लाभ उठा रहा है.’

चीन द्वारा नेपाल के रास्ते और भारत के विभिन्न बंदरगाहों से भारत में घड़ियां, कैलकुलेटर, वाकमैन, सीडी, कैसेट, सीडी प्लेयर, ट्रांजिस्टर, टेपरिकार्डर, टेलीफोन, इमरजेंसी लाइट, स्टीरियो, बैटरी सेल, खिलौने, साइकिलें, ताले, छाते, स्टेशनरी, गुब्बारे, टायर, कृत्रिम रेशे, रसायन, खाद्य तेल आदि धड़ल्ले से बेचें जा रहें हैं.  दीपावली पर चीनी आतिशबाजी और बल्बों की चीनी लड़ियों से बाजार पटा दिखता है. पटाखे और आतिशबाजी जैसी प्रतिबंधित चीजें भी विदेशों से आयात होकर आ रही हैं, यह आश्चर्य किन्तु पीड़ा जनक और चिंता जनक है. आठ रुपए में साठ चीनी पटाखों का पैकेट चालीस रुपए तक में बिक रहा है, सौ सवा सौ रूपये घातक प्लास्टिक नुमा कपड़ें से बनें लेडिज सूट, बीस रूपये में झालरें-स्टीकर और पड़ चिन्ह पंद्रह रुपए में घड़ी, पच्चीस रुपए में कैलकुलेटर,  डेढ़-दो रुपए में बैटरी सेल बिक रहें हैं. घातक सामग्री और जहरीले प्लास्टिक से बनी सामग्री एक बड़ा षड्यंत्र नहीं तो और क्या है?

गत वर्ष तिरुपति से लेकर रामेश्वरम तक की सड़क मार्ग की यात्रा में साशय मैनें भारतीय पटाखा उद्योग की राजधानी शिवाकाशी में पड़ाव डाला था. यहाँ के  निर्धनता और अशिक्षा भरे वातावरण में इस उद्योग ने जो जीवन शलाका प्रज्ज्वलित कर रखी है वह एक प्रेरणास्पद कथा है. लगभग बीस लाख लोगों को प्रत्यक्ष-अप्रत्यक्ष रूप से रोजगार और सामाजिक सम्मान देनें वाला शिवाकाशी का पटाखा उद्योग केवल धन अर्जित नहीं करता-कराता है बल्कि इसनें दक्षिण भारतीयों के करोड़ों लोगों को एक सांस्कृतिक सूत्र में भी बाँध रखा है. परस्पर सामंजस्य और सहयोग से चलनें वाला यह उद्योग सहकारिता की नई परिभाषा गढ़नें की ओर अग्रसर होकर वैसी ही कहानी को जन्म देनें वाला था जैसी कहानी मुंबई के भोजन डिब्बे वालों ने लिख डाली है; किन्तु इसके पूर्व ही चीनी ड्रेगन इस समूचे उद्योग को लीलता और समाप्त करता नजर आ रहा है. यदि घटिया और नुकसानदेह सामग्री से बनें इन चीनी पटाखों का भारतीय बाजारों में प्रवेश नहीं रुका तो शिवाकाशी पटाखा उद्योग इतिहास का अध्याय मात्र बन कर रह जाएगा.

भारत में २००० करोड़ रूपये से अधिक का चीनी सामान तस्करी से नेपाल के रास्तें आता है इसमें से दीपावली पर बिकनें वाला सामान की हिस्सेदारी लगभग ३५० करोड़ रु. की है. इतनें बड़े व्यवसाय पर प्रत्यक्ष कर निदेशालय की नजर न पड़ना और वित्त, विदेश, वाणिज्य और उद्योग मंत्रालयों का आँखें बंद किये रहना सिद्ध हमारी शुतुरमुर्गी प्रवृत्तियों और इतिहास से सबक न लेनें की और गंभीर इशारा करता है. विभिन्न भारतीय लघु एवं कुटीर उद्योगों के संघ और प्रतिनिधि मंडल भारतीय नीति निर्धारकों का ध्यान इस ओर समय समय पर आकृष्ट करतें रहें है. दुखद है कि  विभिन्न सामरिक विषयों पर हमारी सप्रंग सरकार और इसके मुखिया मनमोहन सिंह चीन के समक्ष बिलकुल भी प्रभावी नहीं रहें हैं और विभिन्न मोर्चों पर चीन के समक्ष सुरक्षात्मक ही नजर आतें रहें हैं तब इस शासन से कुछ बड़ी आशाएं व्यर्थ ही हैं किन्तु फिर भी इस दीवाली के अवसर पर यदि शासन तंत्र अवैध रूप से भारतीय बाजारों में घुस आये सामानों पर और इस व्यवसाय के सूत्रधारों पर कार्यवाही करे तो ही शुभ-लाभ होगा.

 

Facebook Comments

इस खबर को अपने मित्रों से साझा करें..
    Print       Email
  • Published: 4 years ago on October 31, 2013
  • By:
  • Last Modified: October 31, 2013 @ 2:00 pm
  • Filed Under: देश

About the author

म.प्र. के आदिवासी बहुल जिले बैतुल में निवास. “दैनिक मत” समाचार पत्र के प्रधान संपादक. समसामयिक विषयों पर निरंतर लेखन. प्रयोगधर्मी कविता लेखन में सक्रिय .

3 Comments

  1. Ashok Gupta says:

    un ko bazzar chahuye or ye dene ko tayar hai

  2. mahendra gupta says:

    चीन हमारी आर्थिक व्यस्था कि कमर तोड़ रहा है, हमारी कमजोर सरकार उसकी आर्थिक नीतियां व सीमा पर प्रतिबन्ध लगाने में असमर्थता देश को बर्बाद कर देगी. खाद्य सुरक्षा के नाम पर लोगों को निकम्मा बनाने वाली सरकार चीन के सस्ते माल को बेचने के लिए अच्छा बाज़ार उपलब्ध करा रही है.स्वास्थय व पर्यारवरण की दृष्टि से अन्य कोई देश यह माल लेने को तैयार नहीं पर हमारी सरकार उसको छूट दे के लोगों के स्वास्थय से खिलवाड़ कर रही है.देश कि प्रयोगशालाओं में सिद्ध हो चुके परिणाम बताते हैं कि वहाँ का प्लास्टिक का सामान बहुत ही नुकसान जनक है पर सरकार को क्या.

  3. चीन हमारी आर्थिक व्यस्था कि कमर तोड़ रहा है, हमारी कमजोर सरकार उसकी आर्थिक नीतियां व सीमा पर प्रतिबन्ध लगाने में असमर्थता देश को बर्बाद कर देगी. खाद्य सुरक्षा के नाम पर लोगों को निकम्मा बनाने वाली सरकार चीन के सस्ते माल को बेचने के लिए अच्छा बाज़ार उपलब्ध करा रही है.स्वास्थय व पर्यारवरण की दृष्टि से अन्य कोई देश यह माल लेने को तैयार नहीं पर हमारी सरकार उसको छूट दे के लोगों के स्वास्थय से खिलवाड़ कर रही है.देश कि प्रयोगशालाओं में सिद्ध हो चुके परिणाम बताते हैं कि वहाँ का प्लास्टिक का सामान बहुत ही नुकसान जनक है पर सरकार को क्या.

पाठक चाहे आलेखों से सहमत हों या असहमत, किसी भी लेख पर टिप्पणी करने को स्वतंत्र हैं. हम उन टिप्पणियों को बिना किसी भेद-भाव के निडरता से प्रकाशित भी करते हैं चाहे वह हमारी आलोचना ही क्यों न हो. आपसे अनुरोध है कि टिप्पणियों की भाषा संयत एवं शालीन रखें - मॉडरेटर

You might also like...

न्याय सिर्फ होना नहीं चाहिए बल्कि होते हुए दिखना भी चाहिए, भूल गई न्यायपालिका.?

Read More →
Page Reader Press Enter to Read Page Content Out Loud Press Enter to Pause or Restart Reading Page Content Out Loud Press Enter to Stop Reading Page Content Out Loud Screen Reader Support
%d bloggers like this: