/ऑटो पर ‘आप’ के विरोध में लगे पोस्टर…

ऑटो पर ‘आप’ के विरोध में लगे पोस्टर…

दिल्ली विधानसभा चुनाव बेहद नज़दीक हैं । ऐसे में दिल्ली का चुनावी मिज़ाज़ अपने पूरे उफ़ान पर हैं । यहां भाजपा बनाम कांग्रेस की जंग को त्रिकोणीय बनाने वाली ‘आप’ (आम आदमी पार्टी) इन दिनों अपने ही अंदाज़-ए-बयां के कारण मुश्किल में हैं। जी हां, जब से आप अस्तित्व में आई तब से लेकर आज तक दिल्ली के ऑटो रिक्शा वालों का उसे भरपूर समर्थन मिला । ये ऑटो चालक पार्टी के संयोजक और मुख्य प्रचारक अरविंद केजरीवाल की तमाम जनसभाओं में भारी जनसंख्या में हिस्सा लेते और खुद के ऑटो पर आप के पोस्टर चस्पा कर पार्टी के रंग में रंग जाते । लेकिन, चुनावों से एन वक़्त पहले पोस्टर वार इस कदर आप पार्टी के खिलाफ़ रूख करेगा किसी ने सोचा तक नहीं था । अब इन्हीं ऑटो पर जिन पर कल तक आप पार्टी के समर्थन में लगाएं गए पोस्टर दिखाई पड़ते थे पार्टी के विरोध में पोस्टर लगाए जा रहें हैं ।

आप तो ऐसे ना थे ..

दरअसल,मामला ये है कि न्यायभूमि नाम के एनजीओ का आरोप हैं कि आम आदमी पार्टी ऑटो रिक्शा ड्राइवरों की अनदेखी कर रही हैं । यही नहीं ‘ आप पर कालका जी सीट से ऑटो ड्राइवर भाग सिंह का टिकट काटने का भी आरोप लगाया गया हैं। इस मुहिम के संचालक आप के सदस्य और ऑटो वेलफेयर के लिए काम करने वाले एनजीओ न्यायभूमि के सदस्य राकेश अग्रवाल हैं । उन्होंने अरविंद केजरीवाल पर ऑटो रिक्शा चालकों को अपना हित साधकर किनारे करने का आरोप लगाया हैं । राकेश का दावा हैं कि आज शाम तक न्यायभूमि से जुड़े तकरीबन तीन हज़ार ऑटो पर ऐसे ही पोस्टर चिपका दिए जाएंगे । इन पर केजरीवाल की वादाखिलाफ़ी और चुनाव में अन्ना के नाम का ग़लत इस्तेमाल करने की बात की जाएगी ।

क्या हैं पोस्टर में – पोस्टर में केजरीवाल से सवाल है कि केजरीवाल ने ऑटो चालक भाग सिंह को कालका जी से टिकट दिया और फिर छीन लिया, क्यों ? इसके नीचे छोटे अक्षरों में ऑटो रिक्शा चालकों की समस्याओं पर ‘आप’ की नज़र-अंदाज़गी की बात लिखी गई हैं।

इन सबसे अलग दिलचस्प बात ये है कि राकेश अग्रवाल जिस भाग सिंह को टिकट नहीं देने को लेकर इस मुहिम का नेतृत्व कर रहे हैं वही भाग सिंह आप को पूरा समर्थन दे रहे हैं। सिंह की उम्मीदवारी अक्टूबर में रद्द कर दी गई थी।
इन आरोपों पर क्या कहती हैं आप – इस विवाद पर आप का कहना था कि सिंह ने खुद अपना नामांकन वापस लिया था। भाग सिंह ने इस पर बताया कि पार्टी ने उनका नाम वापस लेने और किसी दूसरे को टिकट देने का फैसला किया था । न्यायभूमि की इस मुहिम के बारे में भाग सिंह ने कहा – मुझे नहीं पता कि पार्टी ने मुझे टिकट क्यों नहीं दिया, लेकिन अच्छी पार्टी हैं और मैं अभी भी इसका सदस्य हूं। मुझे न्यायभूमि की इस मुहिम के बारे में कोई जानकारी नहीं हैं और मैं इसका समर्थन भी नहीं करता । अगर उन्हें मुहिम चलानी भी थी तो इसे तब शुरू करना था जब मेरा नाम वापस लिया गया ।

Facebook Comments

संबंधित खबरें:

  • संबंधित खबरें उपलब्ध नहीं