Loading...
You are here:  Home  >  मीडिया  >  Current Article

तेजपाल को हाई कोर्ट से राहत नहीं ।

By   /  November 26, 2013  /  2 Comments

    Print       Email
इस खबर को अपने मित्रों से साझा करें..

दिल्ली उच्च न्यायलय ने अपनी कनिष्ठ सहकर्मी का कथित यौन शोषण करने के आरोपी तहलका के संस्थापक और संपादक तरूण तेजपाल को गिरफ्तारी से अंतरिम सुरक्षा देने से इंकार कर दिया । अपने प्रगितिशील विचारों के लिए जाने जाते रहें तेजपाल पर बेहद संगीन और गंभीर आरोप है कि उन्होंने सात और आठ नवंबर को गोवा के एक होटल में अपनी सहमकर्मी पर यौन हमला किया था । मामला का खुलासा तब हुआ जब पीड़िता ने पत्रिका की मैनेजिंग एडिटर शौमा चौधरी को ई-मेल भेजा । न्यायाधीश सुनीता गुप्ता ने गोवा पुलिस के वकील को अपना जवाब दाखिल करने, अगर कोई है तो, को भी कहा और तेजपाल की अग्रिम जमानत याचिका पर कल सुनवाई निर्धारित की ।tarun

तेजपाल के वरिष्ठ अधिवक्ता केटीएस तुलसी ने और गीता लुथरा ने जज से कहा कि तेजपाल को कल तक किसी भी तरह की गिरफ्तारी से सुरक्षा उपलब्ध करवाई जाए । वहीं, अंतरिम सुरक्षा देने से इंकार करते हुए न्यायाधीश गुप्ता ने कहा कि मेरे पास याचिका के साथ प्राथमिकी की प्रति तक नहीं हैं ।
मामला धारा 354 का है (किसी महिला की गरिमा को आहत करना) और यह काल्पनिकता है कि इसे धारा 376 (बलात्कार) का मामला बना दिया गया है। यहां तक कि लड़की ने पुलिस को कोई बयान नहीं दिया है।

अधिवक्ता तुलसी ने कहा कि ये एक राजनीतिक लड़ाई बन चुकी हैं । मामला धारा 354 का हैं ( किसी महिला की गरिमा को आहत करना) और ये काल्पनिकता है कि इसे धारा 376 ( बलात्कार) का मामला बना दिया गया हैं । यहां तक कि लड़की ने पुलिस को कोई बयान नहीं दिया हैं ।

Facebook Comments

इस खबर को अपने मित्रों से साझा करें..
    Print       Email
  • Published: 4 years ago on November 26, 2013
  • By:
  • Last Modified: November 26, 2013 @ 2:46 pm
  • Filed Under: मीडिया

2 Comments

  1. eskoa kadiasa kadia sja diya jay and milna chahiya kiwa ki midiya koa dhokha diya hi jya hiand jya bharat

  2. अरे तेजपाल जी कुछ दिन तो गुजरो हमारी तिहाड़ में आप का ही मिशन बड़ी पसंन्द का विषय है चाहे जिसे जैल भेजने का सद्यननरत ”तहलका’ कि योजना हूया करती थी जार्ज ./ लक्समन / डेफियन्स के ठेकेदाररो / को भी जैल भेजने कि योजना आप किया करते थे थोड़े दिन तो गुजारो हमारी तिहाड़ में आप के स्वागत के लिए विशेष व्यवस्था कीज आएगी आप को विदेशी बहुत पसंन्द है कोण सी ब्रांड कि चलेगी आर्डर दे दू कौय याद आया आप को तो गोआ मई रहन है चलो वंही सही आप जल्दी आयो हजूम िीनंतजार करंगे आप का कायाणम् तक

पाठक चाहे आलेखों से सहमत हों या असहमत, किसी भी लेख पर टिप्पणी करने को स्वतंत्र हैं. हम उन टिप्पणियों को बिना किसी भेद-भाव के निडरता से प्रकाशित भी करते हैं चाहे वह हमारी आलोचना ही क्यों न हो. आपसे अनुरोध है कि टिप्पणियों की भाषा संयत एवं शालीन रखें - मॉडरेटर

You might also like...

एक जज की मौत : The Caravan की सिहरा देने वाली वह स्‍टोरी जिस पर मीडिया चुप है..

Read More →
Page Reader Press Enter to Read Page Content Out Loud Press Enter to Pause or Restart Reading Page Content Out Loud Press Enter to Stop Reading Page Content Out Loud Screen Reader Support
%d bloggers like this: