/तेजपाल को हाई कोर्ट से राहत नहीं ।

तेजपाल को हाई कोर्ट से राहत नहीं ।

दिल्ली उच्च न्यायलय ने अपनी कनिष्ठ सहकर्मी का कथित यौन शोषण करने के आरोपी तहलका के संस्थापक और संपादक तरूण तेजपाल को गिरफ्तारी से अंतरिम सुरक्षा देने से इंकार कर दिया । अपने प्रगितिशील विचारों के लिए जाने जाते रहें तेजपाल पर बेहद संगीन और गंभीर आरोप है कि उन्होंने सात और आठ नवंबर को गोवा के एक होटल में अपनी सहमकर्मी पर यौन हमला किया था । मामला का खुलासा तब हुआ जब पीड़िता ने पत्रिका की मैनेजिंग एडिटर शौमा चौधरी को ई-मेल भेजा । न्यायाधीश सुनीता गुप्ता ने गोवा पुलिस के वकील को अपना जवाब दाखिल करने, अगर कोई है तो, को भी कहा और तेजपाल की अग्रिम जमानत याचिका पर कल सुनवाई निर्धारित की ।tarun

तेजपाल के वरिष्ठ अधिवक्ता केटीएस तुलसी ने और गीता लुथरा ने जज से कहा कि तेजपाल को कल तक किसी भी तरह की गिरफ्तारी से सुरक्षा उपलब्ध करवाई जाए । वहीं, अंतरिम सुरक्षा देने से इंकार करते हुए न्यायाधीश गुप्ता ने कहा कि मेरे पास याचिका के साथ प्राथमिकी की प्रति तक नहीं हैं ।
मामला धारा 354 का है (किसी महिला की गरिमा को आहत करना) और यह काल्पनिकता है कि इसे धारा 376 (बलात्कार) का मामला बना दिया गया है। यहां तक कि लड़की ने पुलिस को कोई बयान नहीं दिया है।

अधिवक्ता तुलसी ने कहा कि ये एक राजनीतिक लड़ाई बन चुकी हैं । मामला धारा 354 का हैं ( किसी महिला की गरिमा को आहत करना) और ये काल्पनिकता है कि इसे धारा 376 ( बलात्कार) का मामला बना दिया गया हैं । यहां तक कि लड़की ने पुलिस को कोई बयान नहीं दिया हैं ।

Facebook Comments

संबंधित खबरें:

  • संबंधित खबरें उपलब्ध नहीं