/बिहार में तुगलकी फरमान, लड़कियां नहीं रख पाएंगी मोबाइल फोन…

बिहार में तुगलकी फरमान, लड़कियां नहीं रख पाएंगी मोबाइल फोन…

पंचायत के तुगलकी फरमान के कारण बिहार में अब लड़कियां मोबाइल फोन नहीं रख पाएंगी. मोबाइल के साथ या मोबाइल पर बात करते पकड़े जाने पर जुर्माना भी देना पड़ेगा. पश्चिम चंपारण के सोमगढ़ में मंगलवार को हुई एक पंचायत की बैठक में लड़कियों के मोबाइल फोन रखने पर पाबंदी लगाने का फैसला किया गया.mobile-phone-use

पंचायत प्रधान के पति जाकिर अंसारी के मुताबिक, जिन लड़कियों की शादी नहीं हुई है या जो नाबालिग हैं, उनके मोबाइंल रखने पर पाबंदी लगाई जाए. उनके मुताबिक, मोबाइल से छेड़छाड़ की घटनाओं में बढ़ोतरी हुई है. उनके इस प्रस्ताव पर वहां मौजूद ग्रामीणों ने मुहर लगा दी. इसके बाद यह फैसला लिया गया कि अगर कोई भी लड़की मोबाइल के साथ या मोबाइल पर बात करती पकड़ी जाएगी तो उसे जुर्माना देना पड़ेगा.

वहीं, पंचायत राज्य मंत्री भीम सिंह का कहना है कि पंचायत को इस तरह के फैसले लेने का अधिकार नहीं है.

गौरतलब है कि प्रदेश की पंचायतें इससे पहले भी कई तुगलकी फरमान जारी कर चुकी हैं. कभी लड़कियों के मोबाइल रखने पर पाबंदी लगाने का फरमान जारी होता है तो कभी उनके परिधानों को लेकर.

Facebook Comments

संबंधित खबरें:

  • संबंधित खबरें उपलब्ध नहीं

मीडिया दरबार के मॉडरेटर 1979 से पत्रकारिता से जुड़े हैं. एक साप्ताहिक से शुरूआत के बाद अस्सी के दशक में स्वतंत्र पत्रकार बतौर खोजी पत्रकारिता में कदम रखा, हिंदी के अधिकांश राष्ट्रीय अख़बारों में हस्ताक्षर. उसी दौरान राजस्थान के अजमेर जिले के एक सशक्त राजनैतिक परिवार द्वारा एक युवती के साथ किये गए खिलवाड़ पर नवभारत टाइम्स के लिए लिखी रिपोर्ट वरिष्ठ पत्रकार श्री मिलाप चंद डंडिया की पुस्तक "मुखौटों के पीछे - असली चेहरों को उजागर करते पचास वर्ष" में भी संकलित की गयी है. कुछ समय के लिए चौथी दुनियां के मुख्य उपसंपादक रहे किन्तु नौकरी कर पाने के लक्खन न होने से तेईस दिन में ही चौथी दुनिया को अलविदा कह आये. नब्बे के दशक से पिछले दशक तक दूरदर्शन पर समसामयिक विषयों पर प्रायोजित श्रेणी में कार्यक्रम बनाते रहे. अब वैकल्पिक मीडिया पर सक्रिय.