/देवयानी को निवस्त्र कर तलाशी के CCTV फूटेज को अमेरिका ने फर्जी करार दिया, देखें वीडियो…

देवयानी को निवस्त्र कर तलाशी के CCTV फूटेज को अमेरिका ने फर्जी करार दिया, देखें वीडियो…

भारतीय राजनयिक देवयानी के साथ अमेरिकी बदसलूकी के मामले में उस समय एक नया मोड़ आ गया जब इंटरनेट पर एक ऐसा वीडियो वायरल हो गया जिसके बारे में दावा किया जा रहा था कि ये देवयानी की तलाशी का वीडियो है. लेकिन गौर से देखने पर लगता है कि यह वीडियो किसी भारतीय महिला का नहीं बल्कि विदेशी महिला का है.Devyani-Khobragade-Indian-Diplomat-Strip-Searched-CCTV-Video-By-US-Police

अमेरिकी विदेश विभाग की उप प्रवक्ता मैरी हार्फ ने कहा, ‘हम वीडियो से परिचित हैं, यह खोब्रागडे का फुटेज नहीं है. हम इसे खतरनाक और उकसाने वाली जालसाजी कहेंगे.’ अमेरिकी प्रवक्ता हार्फ के मुताबिक, ‘वीडियो की प्रामाणिकता की जांच किए बिना ही इसे कुछ न्यूज वेबसाइटों पर डाला गया है. यह वीडियो गलत है. यह परेशान करने वाली, गैर जिम्मेदाराना हरकत है और मैं इसकी निंदा करती हूं.’

लेकिन अमेरिकी सफाई आने से पहले ही इंटरनेट पर ये वीडियो बहुत तेजी से वायरल हुआ और हालात ऐसे बने कि अमेरिका को खुद सामने आकर सफाई देनी पड़ी.

वेब साइट्स पर बताया जा रहा है कि ये उस वक्त का वीडियो है जब देवयानी के कपड़े उतार कर तलाशी ली जा रही थी. इस फुटेज को सीसीटीवी फुटेज बताया जा रहा था. वीडियो में महिला की शक्ल स्पष्ट नहीं है, हालांकि वह चिल्ला रही है.

इधर भारत सरकार ने अमेरिकी दूतावास और अन्य प्रतिष्ठानों में विदेशी फिल्मों के प्रदर्शन पर रोक लगा दी है. यह कार्रवाई अमेरिका में भारतीय राजनयिक देवयानी खोब्रागडे की गिरफ्तारी और अपमान के जवाब में की गई है. अमेरिकी दूतावास नई दिल्ली के कनॉट प्लेस स्थित अमेरिकन सेंटर, हैदराबाद, मुंबई और कोलकाता स्थित मिशनों में अक्सर अमेरिकी फिल्मों का प्रदर्शन करता है. भारतीय प्रशासन ने सख्त शब्दों में लिखे पत्र में कहा है कि अब सभी को 21 जनवरी से सक्षम भारतीय अधिकारियों से औपचारिक अनुमति लेनी होगी नहीं तो कार्रवाई की जाएगी.

अमेरिकी राजनयिकों को नए परिचय पत्र दिए गए हैं, जो उन्हें किसी गंभीर अपराध से बचाने में मदद नहीं करेंगे. राजनयिकों के परिवार वालों को अब राजनयिक पहचान पत्र नहीं मिलेंगे.

वॉशिंगटन में अमेरिकी विदेश विभाग की उप प्रवक्ता मेरी हार्फ ने कहा है कि भारतीय राजनयिक मामले में दोनों देशों के रिश्तों में सब कुछ ठीक नहीं है. इसे ठीक करने की जरूरत है.
देवयानी खोब्रागडे  का कथित वीडियो देखने के लिए यहाँ नीचे किसी लिंक पर क्लिक करें..

यूट्यूब पर देखें..

डेली मोशन पर देखें..

Facebook Comments

संबंधित खबरें:

  • संबंधित खबरें उपलब्ध नहीं

मीडिया दरबार के मॉडरेटर 1979 से पत्रकारिता से जुड़े हैं. एक साप्ताहिक से शुरूआत के बाद अस्सी के दशक में स्वतंत्र पत्रकार बतौर खोजी पत्रकारिता में कदम रखा, हिंदी के अधिकांश राष्ट्रीय अख़बारों में हस्ताक्षर. उसी दौरान राजस्थान के अजमेर जिले के एक सशक्त राजनैतिक परिवार द्वारा एक युवती के साथ किये गए खिलवाड़ पर नवभारत टाइम्स के लिए लिखी रिपोर्ट वरिष्ठ पत्रकार श्री मिलाप चंद डंडिया की पुस्तक "मुखौटों के पीछे - असली चेहरों को उजागर करते पचास वर्ष" में भी संकलित की गयी है. कुछ समय के लिए चौथी दुनियां के मुख्य उपसंपादक रहे किन्तु नौकरी कर पाने के लक्खन न होने से तेईस दिन में ही चौथी दुनिया को अलविदा कह आये. नब्बे के दशक से पिछले दशक तक दूरदर्शन पर समसामयिक विषयों पर प्रायोजित श्रेणी में कार्यक्रम बनाते रहे. अब वैकल्पिक मीडिया पर सक्रिय.