/महिला ने सरे बाज़ार पति को चप्पल, लात और घूंसों से नवाज़ा…

महिला ने सरे बाज़ार पति को चप्पल, लात और घूंसों से नवाज़ा…

अब तक तो पति द्वारा ही पत्नी की पिटाई करने की खबरें आती थी मगर अब पति से झल्लाई महिला द्वारा सरे बाज़ार पति की पिटाई का मामला सामने आया है. छत्तीसगढ़ के दुर्ग शहर में कोतवाली थाना और न्यायालय के बीच से गुजरने वाली सड़क पर एक महिला ने अपने पति को चप्पल, लात और घूंसों से बेतहाशा पिटाई कर दी. कोतवाली पुलिस ने किसी तरह दोनों को अलग किया. उन्हें थाने ले गई जहां महिला की शिकायत पर पुलिस ने पति अनूप मिश्रा को प्रतिबंधात्मक कार्रवाई के तहत जेल भेज दिया.Wife Beating Husband

कोतवाली थाना प्रभारी के मुताबिक पkनाभपुर निवासी 21 वर्षीय नीतू मिश्रा व कसारीडीह निवासी अनूप मिश्रा ने 5 दिसंबर 2011 को प्रेम विवाह किया था. विवाह के बाद दोनों आदित्य नगर में किराए का मकान ले कर रह रहे थे. उसके बाद वे कुरूद और सेक्टर-2 में भी रहे. वर्तमान में वे हाउसिंग बोर्ड में रह रहे थे.

इस बीच दोनों का आपसी विवाद इतना बढ़ गया कि अनूप घर छोड़कर चला गया और नीतू अपनी मां के पास पkनाभपुर रहने चली गई. वहां से उसने अनूप के विरूद्ध कुटुंब न्यायालय में भरण-पोषण के लिए परिवाद दायर किया.

बताया जाता है कि मंगलवार को दोनों पेशी पर आए थे. नीतू अपनी मां व एक परिचित युवक के साथ आई थी. नीतू के साथ युवक को देखकर अनूप ने उसका विरोध किया. इस बात पर कोर्ट प्रांगण में ही दोनों के बीच कहासुनी होने लगी. इसी दौरान अनूप ने नीतू के साथ आए युवक को थप्पड़ मार दिया. यह देखकर नीतू भी अनूप से भिड़ गई. वह चप्पल और लात घूंसों से उसकी पिटाई करने लगी.

नीतू का रौद्र रूप देखकर अनूप जान बचाकर बाहर भागा. नीतू भी उसके पीछे लपकी और बीच सड़क पर उसकी पिटाई करने लगी.

नीतू के अनुसार अनूप उसे प्रताडित करता था. थाने में उसने अपने शरीर पर अनूप द्वारा की गई ज्यादती के निशान दिखाए जिस पर जगह-जगह चोट के निशान थे. पैर में चाकू का घाव था. उसने बताया कि अनूप कोई नियमित कामकाज भी नहीं करता था.

Facebook Comments

संबंधित खबरें:

  • संबंधित खबरें उपलब्ध नहीं

मीडिया दरबार के मॉडरेटर 1979 से पत्रकारिता से जुड़े हैं. एक साप्ताहिक से शुरूआत के बाद अस्सी के दशक में स्वतंत्र पत्रकार बतौर खोजी पत्रकारिता में कदम रखा, हिंदी के अधिकांश राष्ट्रीय अख़बारों में हस्ताक्षर. उसी दौरान राजस्थान के अजमेर जिले के एक सशक्त राजनैतिक परिवार द्वारा एक युवती के साथ किये गए खिलवाड़ पर नवभारत टाइम्स के लिए लिखी रिपोर्ट वरिष्ठ पत्रकार श्री मिलाप चंद डंडिया की पुस्तक "मुखौटों के पीछे - असली चेहरों को उजागर करते पचास वर्ष" में भी संकलित की गयी है. कुछ समय के लिए चौथी दुनियां के मुख्य उपसंपादक रहे किन्तु नौकरी कर पाने के लक्खन न होने से तेईस दिन में ही चौथी दुनिया को अलविदा कह आये. नब्बे के दशक से पिछले दशक तक दूरदर्शन पर समसामयिक विषयों पर प्रायोजित श्रेणी में कार्यक्रम बनाते रहे. अब वैकल्पिक मीडिया पर सक्रिय.