/आखिर क्यों भूमिगत हो गए दुष्कर्म के आरोपी आईएएस अधिकारी…

आखिर क्यों भूमिगत हो गए दुष्कर्म के आरोपी आईएएस अधिकारी…

जयपुर। जयपुर पुलिस के अनुसार बाइस वर्षीया युवती से दुष्कर्म के आरोपी भारतीय प्रशासनिक सेवा के वरिष्ठ अधिकारी बीबी मोहंती का सुराग नहीं लग पाया है।बी बी मोहंती bb mohantiw

महेश नगर पुलिस के अनुसार सिविल ट्रिब्यूनल के अध्यक्ष बीबी मोहंती से दुष्कर्म के मामले में पूछताछ के लिए रविवार को आवास पर पुलिस जांच दल पहुंचा लेकिन मोहंती के घर पर ताला लगा हुआ था। उन्होंने बताया कि मोहंती के आवास को सील कर दिया गया है तथा उनके संभावित ठिकानों पर तलाश की जा रही है।

गौरतलब है कि महेशनगर थाना पुलिस ने गत 25 जनवरी को अदालत के आदेश पर अतिरिक्त मुख्य सचिव स्तर के अधिकारी सिविल सर्विस ट्रिब्यूनल के अध्यक्ष आईएएस अधिकारी बीबी मोहंती के खिलाफ आईएएस बनाने तथा शादी करने का झांसा देकर एक युवती से कई महीनों तक दुष्कर्म करने का मामला दर्ज कर जांच कर रही है।

पुलिस के अनुसार बीबी मोंहती के फ्लैट के पास रहने वाली पीड़िता ने मोहंती पर आईएएस की तैयारी के दौरान 19 फरवरी 2013 को दुष्कर्म करने का मामला इस्तगासे के माध्यम से जयपुर की एक अदालत में पेश किया था। अदालत ने इस्तगासे पर सुनवाई करने के बाद महेशनगर थाने को भारतीय प्रशासनिक सेवा के वरिष्ठ अधिकारी बीबी मोहंती के खिलाफ दुष्कर्म का मामला दर्ज कर जांच करने के आदेश दिए थे।

महेश नगर पुलिस के अनुसार पी‍ड़िता ने आज जांच दल को बयान दर्ज करवाए हैं। पीड़िता का मेडिकल मुआयना शीघ्र करवाया जाएगा। उन्होंने बताया कि जांच दल आईएएस अधिकारी बीबी मोहंती के घर काम करने वाले लोगों के बारे में जानकारी जुटा रही है और जरूरत पड़ने पर पूछताछ की जा सकती है। (भाषा)

Facebook Comments

संबंधित खबरें:

  • संबंधित खबरें उपलब्ध नहीं

मीडिया दरबार के मॉडरेटर 1979 से पत्रकारिता से जुड़े हैं. एक साप्ताहिक से शुरूआत के बाद अस्सी के दशक में स्वतंत्र पत्रकार बतौर खोजी पत्रकारिता में कदम रखा, हिंदी के अधिकांश राष्ट्रीय अख़बारों में हस्ताक्षर. उसी दौरान राजस्थान के अजमेर जिले के एक सशक्त राजनैतिक परिवार द्वारा एक युवती के साथ किये गए खिलवाड़ पर नवभारत टाइम्स के लिए लिखी रिपोर्ट वरिष्ठ पत्रकार श्री मिलाप चंद डंडिया की पुस्तक "मुखौटों के पीछे - असली चेहरों को उजागर करते पचास वर्ष" में भी संकलित की गयी है. कुछ समय के लिए चौथी दुनियां के मुख्य उपसंपादक रहे किन्तु नौकरी कर पाने के लक्खन न होने से तेईस दिन में ही चौथी दुनिया को अलविदा कह आये. नब्बे के दशक से पिछले दशक तक दूरदर्शन पर समसामयिक विषयों पर प्रायोजित श्रेणी में कार्यक्रम बनाते रहे. अब वैकल्पिक मीडिया पर सक्रिय.