/संघ प्रमुख मोहन भागवत के समर्थन से किये थे असीमानंद ने बम धमाके…

संघ प्रमुख मोहन भागवत के समर्थन से किये थे असीमानंद ने बम धमाके…

कारवां पत्रिका ने बड़ा खुलासा करते हुए बुधवार को दावा किया है कि मुस्लिम इलाकों में बम धमाकों की न केवल जानकारी ही संघ प्रमुख मोहन भागवत को थी, बल्कि इन बम धमाकों को करने के लिए भागवत का पूरा समर्थन भी था. समझौता ब्लास्ट मामले में मुख्य आरोपी स्वामी असीमानंद से बातचीत के आधार पर पत्रिका ने यह दावा किया है.asimanand

mohan bhagwatकारवां पत्रिका के मुताबिक मुस्लिम इलाकों में जो भी धमाके हुए हैं उसकी मंजूरी खुद मौजूदा आरएसएस प्रमुख मोहन भागवत ने दी थी. पत्रिका के मुताबिक इस मामले में असीमानंद ने मोहन भागवत के साथ संघ के वरिष्ठ नेता इंद्रेश कुमार का भी नाम लिया है. असीमानंद के एक साक्षात्कार के आधार पर कारवां मैगजीन ने यह खुलासा किया गया है. कारवां मैगजीन ने दावा किया है कि उसके पास इस साक्षात्कार का ओडियो टेप भी उपलब्ध है. उधर, संघ ने इस साक्षात्कार को बेबुनियाद एवं गलत करार दिया है. वहीं, असीमानंद के वकील ने भी इस बात से इन्कार किया.

गौरतलब है कि असीमानंद पर साल 2006 से 2008 के बीच समझौता एक्सप्रेस धमाका, हैदराबाद मक्का मस्जिद धमाका, अजमेर दरगाह और मालेगांव में दो धमाके के आरोप लगे हैं. इन धमाकों में कुल 119 लोग मारे गए थे.

Facebook Comments

संबंधित खबरें:

  • संबंधित खबरें उपलब्ध नहीं

मीडिया दरबार के मॉडरेटर 1979 से पत्रकारिता से जुड़े हैं. एक साप्ताहिक से शुरूआत के बाद अस्सी के दशक में स्वतंत्र पत्रकार बतौर खोजी पत्रकारिता में कदम रखा, हिंदी के अधिकांश राष्ट्रीय अख़बारों में हस्ताक्षर. उसी दौरान राजस्थान के अजमेर जिले के एक सशक्त राजनैतिक परिवार द्वारा एक युवती के साथ किये गए खिलवाड़ पर नवभारत टाइम्स के लिए लिखी रिपोर्ट वरिष्ठ पत्रकार श्री मिलाप चंद डंडिया की पुस्तक "मुखौटों के पीछे - असली चेहरों को उजागर करते पचास वर्ष" में भी संकलित की गयी है. कुछ समय के लिए चौथी दुनियां के मुख्य उपसंपादक रहे किन्तु नौकरी कर पाने के लक्खन न होने से तेईस दिन में ही चौथी दुनिया को अलविदा कह आये. नब्बे के दशक से पिछले दशक तक दूरदर्शन पर समसामयिक विषयों पर प्रायोजित श्रेणी में कार्यक्रम बनाते रहे. अब वैकल्पिक मीडिया पर सक्रिय.