/केजरीवाल की अम्बानी और कांग्रेसी दिग्गजों के खिलाफ पुलिस रिपोर्ट..

केजरीवाल की अम्बानी और कांग्रेसी दिग्गजों के खिलाफ पुलिस रिपोर्ट..

दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने केजी बेसिन मामले में पेट्रोलियम मंत्री वीरप्पा मोइली, पूर्व मंत्री मुरली देवड़ा, मुकेश अंबानी, डीजी हाइड्रोकार्बन वी के सिब्बल और रिलायंस इंडस्ट्रीज के खिलाफ ऐंटी करप्शन ब्यूरो (एसीबी) को एफआईआर दर्ज करने के निर्देश दिए हैं.

kejriwal angaist ambaniकेजरीवाल ने एक प्रेस कॉन्फ्रेंस में कहा कि देश की चार जानी-मानी हस्तियों एडमिरल तहलियानी, पूर्व कैबिनेट सेक्रेटरी टीएसआर सुब्रमण्यम, प्रतिष्ठित वकील कामिनी जयसवाल और ईएस शर्मा ने रिलायंस इंडस्ट्रीज के खिलाफ शिकायत दी है कि कंपनी एक डॉलर की गैस को 8 डॉलर में बेचने की तैयारी कर रही है. केजरीवाल के मुताबिक अगर ऐसा हो गया तो देश की आम जनता महंगाई की चक्की में पिस जाएगी. बिजली, सीएनजी महंगी हो जाएगी.

केजरीवाल ने बताया कि जब गैस के ये कुएं रिलायंस इंडस्ट्रीज को दिए गए थे तो गैस को निकालने की कीमत 1 डॉलर प्रति यूनिट आ रही थी. लेकिन केंद्र के कुछ मंत्रियों से मिलीभगत करके इसकी कीमत 4 डॉलर तय कर दी. अब इसे दुगुना कर 8 डॉलर करने की तैयारी है.

केजरीवाल ने कहा कि इन्हीं कुओं से निकलने वाली गैस बांग्लादेश को दो-ढाई डॉलर प्रति यूनिट में बेची जाती है. यानी हमारे कुओं की गैस बांग्लादेश को ढाई डॉलर में और हमें आठ डॉलर में. ये कौन सी नीति है? केजरीवाल ने कहा कि वो केंद्र सरकार को चिट्ठी लिख रहे हैं कि जब तक इस मामले की जांच नहीं हो जाती, तब तक गैस की कीमत में बढ़ोतरी को स्थगित रखा जाए.

Facebook Comments

संबंधित खबरें:

  • संबंधित खबरें उपलब्ध नहीं

मीडिया दरबार के मॉडरेटर 1979 से पत्रकारिता से जुड़े हैं. एक साप्ताहिक से शुरूआत के बाद अस्सी के दशक में स्वतंत्र पत्रकार बतौर खोजी पत्रकारिता में कदम रखा, हिंदी के अधिकांश राष्ट्रीय अख़बारों में हस्ताक्षर. उसी दौरान राजस्थान के अजमेर जिले के एक सशक्त राजनैतिक परिवार द्वारा एक युवती के साथ किये गए खिलवाड़ पर नवभारत टाइम्स के लिए लिखी रिपोर्ट वरिष्ठ पत्रकार श्री मिलाप चंद डंडिया की पुस्तक "मुखौटों के पीछे - असली चेहरों को उजागर करते पचास वर्ष" में भी संकलित की गयी है. कुछ समय के लिए चौथी दुनियां के मुख्य उपसंपादक रहे किन्तु नौकरी कर पाने के लक्खन न होने से तेईस दिन में ही चौथी दुनिया को अलविदा कह आये. नब्बे के दशक से पिछले दशक तक दूरदर्शन पर समसामयिक विषयों पर प्रायोजित श्रेणी में कार्यक्रम बनाते रहे. अब वैकल्पिक मीडिया पर सक्रिय.