Loading...
You are here:  Home  >  दुनियां  >  रहन सहन  >  Current Article

रिलेशनशिप को मजबूत बनाता है सेक्स..

By   /  May 28, 2014  /  1 Comment

    Print       Email
इस खबर को अपने मित्रों से साझा करें..

जीवन को सुखद बनाने में प्रेम का जितना महत्व है उससे कई ज्यादा महत्वपूर्ण है आपकी सेक्सलाइफ. अक्सर लोग सेक्स को जीवन का एक पहलू समझते है और उसे रोजमर्रा के काम कि तरह लेते हैं. उसमें आनंद और सुख कि कल्पना नहीं करते. शायद यही वजह है कि  शेरोन स्टोन जैसी नामी गिरामी एक्ट्रेस सेक्स कि चाह में 1000 डालर खर्च करती है एक अजनबी पर, मात्र सेक्स इच्छापूर्ति के लिये, क्या उन्होंने कभी किसी से प्यार नहीं किया या उनका कोई बॉयफ्रेंड या लाइफ पार्टनर नहीं है. वह कौन सी ऐसी परिस्थितियां हैं जिनके कारण वह इन अजनबियों के साथ अतरंग पल बिताने में संकोच भी नहीं करती. शेरोन स्टोन ही नहीं बल्कि कुलाम्बिया कि सोफिया वेरगारा का भी यही हाल है. यदि गौर किया जाये तो शेरोन और सोफिया जैसी महिलाएं  चाहे तो उनको आसानी से एक अच्छा लाइफ पार्टनर मिल सकता है. उनके लिये चाहने वालों कि कोई कमी नहीं है.SEX-BED

अक्सर यह देखा गया है कि महिलाएं हमेशा एक ऐसे आदमी कि तलाश में रहती हैं जो उनको संतुष्ट कर सके. आखिर सेक्स के दौरान वह क्या चाहती है क्या वाकई महिलाएं प्रेम के अलावा सेक्स को भी भरपूर ढंग से एन्जॉय करना चाहती है. क्या वाकई वह उन पलों को खुबसूरत और यादगार बनाना चाहती हैं. क्या उनके लिये प्रेम और रिश्तों से भी ज्यादा अहमियत रखता है सेक्स. यह एक बड़ा सवाल है.

कनाडा की  सेक्सोलाजिस्ट पैगी क्लिनप्लाट्ज ने 64  लोगो पर सर्वे किया जिनकी उम्र 60 से ऊपर थी. उन्होंने उनके लंबे रिलेशनशिप लाइफ यहाँ तक कि कुछ होमोसेक्सुअल और बाईसेक्सुअल और कुछ सेक्स थेरापिस्टो से भी बात की. सर्वे के दौरान उन्होंने बहुत सारे लोगो से बातें की. एक महिला ने बताया कि उन्हें 55 साल कि उम्र में एक व्यक्ति से प्रेम हो गया मगर आनंद और संतुष्टि का मतलब मात्र सेक्स नहीं होता है इसके आलवा और भी कई बाते मायने रखती हैं, जैसे एक दूसरे का ख्याल रखना, भावनाओं की कद्र करना आदि.

जॉन टर्टरो जो एक जिगोलो है उन्होंने खुलासा किया कि उन्हें वह सब कलाएं और तरीके आते हैं जिसके जरिये वह अपने कस्टमरों को संतुष्ट करते हैं . वह अपने कस्टमर का पूरा ख्याल रखते हैं . पैगी क्लिनप्लाट्ज के अनुसार  सेक्स लाइफ को एन्जॉय करने के लिये कुछ खास बातें मायने रखती हैं जैसे -सेक्स करते वक़्त उस पल में पूरी तरह खो जाएं दिल और दिमाग में किसी और प्रकार की बात न आने दे. एक दूसरे कि इच्छाओं का सम्मान और विश्वास भी करना चाहिए. अपनी भावना और इच्छाओं का खुल कर इज़हार करना चाहिए . इमोशनली और फिजिकली एक दूसरे के करीब होना आवश्यक है.

पार्टनर्स के बीच ट्यूनिंग शानदार होनी चाहिए, जिससे एक दूसरे की भावना, जरुरत और रिस्पांस का भी ख्याल रहे. सेक्स लाइफ को एन्जॉय करने से जीवन में बदलाव महसूस करेंगे, आप खुद को लकी और पहले से ज्यादा तरोताजा और स्वस्थ महसूस करेंगी. सेक्स एन्जॉय करने के लिये थोड़ा रिस्क लेना भी जरुरी है, इसमें हंसी मजाक मीठी सी नोक-झोंक भी चलती है. इन अतरंग पलों के दौरान समर्पण भी जरुरी है, खुद को अपने साथी के सुपुर्द कर दे.

सेक्स कि शिक्षा के लिये बहुत सारे लोग तंत्र मन्त्र का भी सहारा लेते है टिलर नाम के एक  युवक ने सर्वे के दौरान इस बात को स्वीकार भी किया कि वह इस तरह का एक संस्थान  भी चलाता है. उनका कहना है कि प्राचीन इस्टर्न विधि के अनुसार तंत्र कि शिक्षा के जरिये कपल्स को काम कला की शिक्षा दी जाती है जिस से उनका वैवाहिक जीवन और रिश्ता बना रहे.

वैसे तो सेक्स कि बेसिक शिक्षा स्कूल और कालेज से ही प्रारंभ हो जाती है . इसके अलावा इसकी जानकारी के लिये कपल्स डाक्टर या सेक्सोलाजिस्ट के पास भी जाते है. इस प्रकार हम यह कह सकते हैं कि जीवन में प्रेम के आलवा रिलेशनशिप भी मायने रखती है.

 

 

 

 

Facebook Comments

इस खबर को अपने मित्रों से साझा करें..
    Print       Email
  • Published: 4 years ago on May 28, 2014
  • By:
  • Last Modified: May 28, 2014 @ 9:00 pm
  • Filed Under: रहन सहन

1 Comment

  1. The physical/ metabolic structure of male & female varies, thus with responsibility of motherhood & child birth are in additional factors, The delivery pain is to be born for such the virginal track has more strength , thus the sex seduction in female has no limits of coitus Thus for sex satisfaction may or may not happen to them.thus the oncogene Harmon makes them irritable & spell with anger. This also cause depressions & disturb the family life The sex is art & make both enjoyable in life styles This may require ed serious thinking

पाठक चाहे आलेखों से सहमत हों या असहमत, किसी भी लेख पर टिप्पणी करने को स्वतंत्र हैं. हम उन टिप्पणियों को बिना किसी भेद-भाव के निडरता से प्रकाशित भी करते हैं चाहे वह हमारी आलोचना ही क्यों न हो. आपसे अनुरोध है कि टिप्पणियों की भाषा संयत एवं शालीन रखें - मॉडरेटर

You might also like...

UN में भारत ने समलैंगिकता का किया विरोध..

Read More →
Page Reader Press Enter to Read Page Content Out Loud Press Enter to Pause or Restart Reading Page Content Out Loud Press Enter to Stop Reading Page Content Out Loud Screen Reader Support
%d bloggers like this: