/स्वर्ण मंदिर के अकाल तख्त में तलवारें चलीं..

स्वर्ण मंदिर के अकाल तख्त में तलवारें चलीं..

अमृतसर. ब्लू स्टार की बरसी के मौके पर स्वर्ण मंदिर के अकाल तख्त पर तलवारें चल गई हैं. ब्लू स्टार ऑपरेशन में मारे गए लोगों को श्रद्धांजलि देने के कार्यक्रम में सिमरन जीत सिंह मान के समर्थकों और स्वर्ण मंदिर की टास्क फोर्स के बीच झड़प हो गई. इस झड़प में कई लोगों को चोटें आईं हैं. बताया जा रहा है कि कार्यक्रम के दौरान माइक पर बोलने को लेकर विवाद हुआ जिसके बाद दोनों गुटों में हिंसक झड़प हो गई.golden

आज सुबह जब श्रद्धांजलि कार्यक्रम शुरू हुआ तो सिमरन जीत सिंह मान माइक को पर कुछ संबोधित करना चाहते थे, लेकिन अकाल तख्त और स्वर्ण मंदिर मैनेजमेंट नहीं चाहती थी कि वो कुछ बोले जब उन्हें मना किया गया तो उनके समर्थकों ने माइक छीनने की कोशिश की, जिसके बाद टास्क फोर्स और सिमरन जीत सिंह मान के समर्थकों के बीच तलवारें चलीं.

इस हमले में कई लोगों के घायल होने की खबर है. फिलहाल घायलों को अस्पताल में भर्ती करा दिया गया है. गौरतलब है कि आज ऑपरेशन ब्लू स्टार को 30 साल पूरे हो गए हैं. हर साल आज के दिन यहां श्रद्धांजलि कार्यक्रम का आयोजन किया जाता है.

Facebook Comments

संबंधित खबरें:

  • संबंधित खबरें उपलब्ध नहीं

मीडिया दरबार के मॉडरेटर 1979 से पत्रकारिता से जुड़े हैं. एक साप्ताहिक से शुरूआत के बाद अस्सी के दशक में स्वतंत्र पत्रकार बतौर खोजी पत्रकारिता में कदम रखा, हिंदी के अधिकांश राष्ट्रीय अख़बारों में हस्ताक्षर. उसी दौरान राजस्थान के अजमेर जिले के एक सशक्त राजनैतिक परिवार द्वारा एक युवती के साथ किये गए खिलवाड़ पर नवभारत टाइम्स के लिए लिखी रिपोर्ट वरिष्ठ पत्रकार श्री मिलाप चंद डंडिया की पुस्तक "मुखौटों के पीछे - असली चेहरों को उजागर करते पचास वर्ष" में भी संकलित की गयी है. कुछ समय के लिए चौथी दुनियां के मुख्य उपसंपादक रहे किन्तु नौकरी कर पाने के लक्खन न होने से तेईस दिन में ही चौथी दुनिया को अलविदा कह आये. नब्बे के दशक से पिछले दशक तक दूरदर्शन पर समसामयिक विषयों पर प्रायोजित श्रेणी में कार्यक्रम बनाते रहे. अब वैकल्पिक मीडिया पर सक्रिय.