/आमिर खान ने “सत्यमेव जयते” को बपौती मान करवा लिया पेटेंट..

आमिर खान ने “सत्यमेव जयते” को बपौती मान करवा लिया पेटेंट..

सिने स्टार आमिर खान ने भारतीय प्रतीक चिन्ह “सत्यमेव जयते” का पेटेंट करवा लिया है. आमिर खान ने ये पेटेंट अपने शो “सत्यमेव जयते” के नाम पर लिया है . छत्तीसगढ़ के समाचार चैनल के अनुसार आमिर खान ने अपने टीवी शो सत्यमेव जयते के नाम को पेटेंट करवा लिया है.amir khan

आमिर इस पेटेंट के चलते कहीं भी इस शब्द के इस्तेमाल पर चुनौती दे सकते हैं, और बिना अनुमति प्रयोग सिद्ध होने पर हर्जाने के भी हकदार होंगे.

अमर उजाला के अनुसार छत्तीगढ़ खबर.कॉम में प्रकाशित इस मामले में भुवनेश्वर में सुभाष महापात्र नाम के व्यक्ति ने आमिर खान के विरुद्ध स्थानीय अदालत में याचिका दायर की है. महापात्र ने आरोप लगाया है की आमिर अपने वकील के ज़रिये तारीखें बढ़वाते जा रहे हैं और खुद अदालत में पेश नहीं हो रहे हैं.

इस खबर के साथ आमिर खान के विरुद्ध आवाजें उठनी शुरू हो गयी हैं. साथ ही ये बहस भी शुरू हो गयी है कि राष्ट्रीय प्रतीक और उससे जुड़ी प्रमुख पहचानों के व्यापारिक प्रयोग के लिए क्या छूट मिलनी चाहिए या ये ऐसे ही किसी धनकुबेर की बपौती बन कर रह जाएँगी.

गौरतलब है कि आमिर इस पेटेंट के बाद सरकार को राष्ट्रीय प्रतीकों के उपयोग के लिए सरकार को चुनौती दे सकते हैं और हर्जाना भी वसूल सकते हैं. पेटेंट के बाद किसी भी वस्तु के उपयोग के लिए उसके पेटेंटधारी से अनुमति चाहिए होती है और एक कीमत भी अदा करनी होती है.

Facebook Comments

संबंधित खबरें:

  • संबंधित खबरें उपलब्ध नहीं

मीडिया दरबार के मॉडरेटर 1979 से पत्रकारिता से जुड़े हैं. एक साप्ताहिक से शुरूआत के बाद अस्सी के दशक में स्वतंत्र पत्रकार बतौर खोजी पत्रकारिता में कदम रखा, हिंदी के अधिकांश राष्ट्रीय अख़बारों में हस्ताक्षर. उसी दौरान राजस्थान के अजमेर जिले के एक सशक्त राजनैतिक परिवार द्वारा एक युवती के साथ किये गए खिलवाड़ पर नवभारत टाइम्स के लिए लिखी रिपोर्ट वरिष्ठ पत्रकार श्री मिलाप चंद डंडिया की पुस्तक "मुखौटों के पीछे - असली चेहरों को उजागर करते पचास वर्ष" में भी संकलित की गयी है. कुछ समय के लिए चौथी दुनियां के मुख्य उपसंपादक रहे किन्तु नौकरी कर पाने के लक्खन न होने से तेईस दिन में ही चौथी दुनिया को अलविदा कह आये. नब्बे के दशक से पिछले दशक तक दूरदर्शन पर समसामयिक विषयों पर प्रायोजित श्रेणी में कार्यक्रम बनाते रहे. अब वैकल्पिक मीडिया पर सक्रिय.