/केजरीवाल को लगा था चुनाव हुआ तो भारी बहुमत से जीतेंगे..

केजरीवाल को लगा था चुनाव हुआ तो भारी बहुमत से जीतेंगे..

लोकसभा चुनाव में आम आदमी पार्टी की हुई फजीहत और कई नेताओं के पार्टी छोड़ने के बाद आप के नेता अब पूरी तरह से बचाव की मुद्रा में हैं. पार्टी के बचे नेता हालात का जायजा ले रहे हैं और दिल्ली में अपने विधायकों को एकजुट रखने की कोशिश में लगे हुए हैं. उधर, गांधीवादी और सामाजिक कार्यकर्ता अन्ना हजारे ने कहा है कि अरविंद केजरीवाल प्रधानमंत्री बनना चाहते हैं.arvind-kejriwal

आम आदमी पार्टी के नेता अरविंद केजरीवाल को मुख्यमंत्री पद से इस्तीफा देते समय लगा था कि चुनाव जल्द होंगे और उनकी पार्टी भारी बहुमत के साथ फिर सत्ता में आएगी. लेकिन चुनाव न होने से उनकी रणनीति धरी की धरी रह गई. केजरीवाल ने यह बात एक मोहल्ला सभा के दौरान कही.

केजरीवाल ने दिल्ली में जल्द चुनाव कराने की मांग करते हुए कहा कि जब हमने सरकार से इस्तीफा दिया तो हमें लगा था कि चुनाव जल्द होंगे और हम भारी बहुमत के साथ सत्ता में वापसी करेंगे. लेकिन कई महीने गुजर गए, अभी तक चुनाव नहीं हुए. हमने इस्तीफा देते समय इसकी उम्मीद नहीं की थी. केजरीवाल ने आम आदमी पार्टी की सरकार के इस्तीफे के सवाल पर यह बात कही.

गौरतलब है कि केजरीवाल इन दिनों मोहल्ला सभाएं कर दिल्ली के लोगों को मनाने की मुहिम में लगे हुए हैं. मोहल्ला सभा में उन्होंने कहा कि मीडिया ने हमारे इस्तीफे को लेकर कई सवाल उठाए, आप में से भी कई यह बात जानना चाहते होंगे. दिल्ली में हमारे पास 27 विधायक हैं. हमारे पास बहुमत नहीं है. चुनाव के बाद हमने घोषणा की थी कि हम कांग्रेस के साथ मिलकर सरकार नहीं बनाएंगे. आप के कांग्रेस के साथ मिलकर सरकार बनाने पर सफाई देते हुए उन्होंने कहा हमने इस बारे में लोगों की राय ली और फिर सरकार बनाई. उन्होंने स्वीकार किया कि उनके इस्तीफे ने लोगों को नाराज किया. केजरीवाल ने कहा कि मैं यह जानना चाहता था कि आखिर लोग नाराज क्यों हैं. लोगों से बातचीत के बाद मुझे इसकी दो वजहें पता चलीं.आप सरकार के जाने के बाद दिल्ली भ्रष्टाचार बहुत बढ़ गया है और लोगों की हमसे उम्मीदें बहुत बढ़ गई थीं.

Facebook Comments

संबंधित खबरें:

  • संबंधित खबरें उपलब्ध नहीं

मीडिया दरबार के मॉडरेटर 1979 से पत्रकारिता से जुड़े हैं. एक साप्ताहिक से शुरूआत के बाद अस्सी के दशक में स्वतंत्र पत्रकार बतौर खोजी पत्रकारिता में कदम रखा, हिंदी के अधिकांश राष्ट्रीय अख़बारों में हस्ताक्षर. उसी दौरान राजस्थान के अजमेर जिले के एक सशक्त राजनैतिक परिवार द्वारा एक युवती के साथ किये गए खिलवाड़ पर नवभारत टाइम्स के लिए लिखी रिपोर्ट वरिष्ठ पत्रकार श्री मिलाप चंद डंडिया की पुस्तक "मुखौटों के पीछे - असली चेहरों को उजागर करते पचास वर्ष" में भी संकलित की गयी है. कुछ समय के लिए चौथी दुनियां के मुख्य उपसंपादक रहे किन्तु नौकरी कर पाने के लक्खन न होने से तेईस दिन में ही चौथी दुनिया को अलविदा कह आये. नब्बे के दशक से पिछले दशक तक दूरदर्शन पर समसामयिक विषयों पर प्रायोजित श्रेणी में कार्यक्रम बनाते रहे. अब वैकल्पिक मीडिया पर सक्रिय.