Loading...
You are here:  Home  >  अपराध  >  Current Article

दुष्कर्म के बाद 70 फीट ऊंचे टावर से कूद कर दी जान..

By   /  July 3, 2014  /  No Comments

    Print       Email
इस खबर को अपने मित्रों से साझा करें..

मध्य प्रदेश के बीना में दुष्कर्म की शिकार एक युवती ने 70 फीट ऊंचे टावर पर चढ़कर छलांग लगा दी. उसकी मौत के दो दिन बाद भी पुलिस मामले में न तो आरोपी का पता कर पाई और न ही कोई और जानकारी हासिल कर पाई है. पुलिस ने युवती को विक्षिप्त बताकर मामले को हल्का करने की कोशिश की. Rape_victim

दिल दहला देने वाली ये घटना सोमवार की है. पोस्टमॉर्टम रिपोर्ट आने के बाद बुधवार को इस वारदात का खुलासा हुआ. एसपी ने कहा कि पोस्टमॉर्टम रिपोर्ट से सिर्फ ‘संबंध’ बने होने का पता चल सकता है, दुष्कर्म हुआ या नहीं यह जांच के बाद पता चलेगा. वहीं, युवती का पोस्टमॉर्टम करने वाले पैनल के मुखिया डॉ. बलबीर कैथोरिया ने कहा है कि लड़की के साथ दुष्कर्म हुआ है.

उसके शरीर पर ‘स्ट्रगल साइन’ दांत से काटने तथा खरोंच के निशान मिले हैं. टावर से कूदने के कारण पसलियां टूट गई थीं और बाएं पैर में फ्रैक्चर था. दुष्कर्म सामूहिक था या किसी एक व्यक्ति द्वारा किया गया था, इसकी जांच के लिए वैजाइनल स्वाब टेस्ट के लिए सैंपल लिया गया है.

पुलिस कुछ करने को तैयार नहीं

डॉ. कैथोरिया ने बताया कि बुधवार को पैनल द्वार रिपोर्ट तैयार होने के बाद मैंने खुद दोपहर 1.30 पर एसडीओपी को फोन पर इसकी सूचना दी, लेकिन देर रात कोई रिपोर्ट लेने आया ही नहीं. एसडीओपी जितेंद्र सिंह का कहना है कि जांच अधिकारी ने रिपोर्ट क्यों नहीं ली, कह नहीं सकता. बीना टीआई एमए सैय्यद ने बताया कि पीएम रिपोर्ट के बाद जांच प्रक्रिया शुरू की जाएगी.

शहडोल से इंदौर के लिए निकली थी युवती

लड़की के पिता के ने बताया, ‘डिंडौरी जिले के वनग्राम तरछ की रहने वाली यह 19 वर्षीय छात्रा शहडोल में पढ़ाई कर रही थी. 22 जून को जबलपुर में पोस्ट ऑफिस की परीक्षा देने के बाद वह इंदौर के लिए निकली थी. 29 जून को मैंने फोन लगाया तो मोबाइल बंद था. लड़की बीना कैसे पहुंची, इस बारे में किसी को कोई जानकारी नहीं थी.’

एसडीओपी जितेंद्र सिंह ने बताया कि युवती को मृत्यु के एक दिन पूर्व कुछ लोगों ने रेलवे स्टेशन पर एक युवक के साथ देखा था. इसके आधार पर हम मामले की तह तक पहुंचने की कोशिश कर रहे हैं.

क्या हुआ था सोमवार को

औरैया निवासी प्रत्यक्षदर्शी संजय के अनुसार, सोमवार सुबह 6 बजे एक निर्वस्त्र युवती पेड़ के पीछे खड़ी थी. भीड़ जुटते देख लड़की भागकर मंदिर के पास छिप गई. लोग वहां भी पहुंच गए तो युवती दौड़ लगाकर एक्सट्रा हाईटेंशन टावर पर चढ़ गई. भीड़ जब तक वहां पहुंच पाती, लड़की अर्थ वायर से लटक गई. एक युवक आगे बढ़ा, लेकिन युवती के हाथ से वायर छूट गया और जमीन पर गिरते ही उसकी मौत हो गई. लड़की के शव के पास से एक बैग मिला. इसमें उसकी जानकारी मिली.
बेटी! लोग अच्छे नहीं हैं, संभलकर रहना

एसडीओपी जितेंद्र सिंह ने बताया कि युवती को मृत्यु के एक दिन पूर्व कुछ लोगों ने रेलवे स्टेशन पर एक युवक के साथ देखा था. युवती हींगटी रोड पर कैसे पहुंची, उसके साथ क्या हुआ, युवक कहां गया, इसका पता पुलिस लगाने की कोशिश कर रही है. पुलिस ने बताया कि युवती के पिता से जानकारी मिली है कि 29 जून की शाम युवती जबलपुर के लिए रवाना हुई. उसी रात्रि 10.30 के आसपास लोगों ने बीना स्टेशन पर युवती को देखा था. 30 जून की सुबह बजे चंद्रशेखर वार्ड के औरैया क्षेत्र में युवती नग्नावस्था में दिखी. लोगों ने उसे कपड़े देने की कोशिश की, लेकिन युवती ने कपड़े नहीं लिए. भीड़ से बचने के लिए युवती आबादी से दूर एक खेत में खड़े टावर तक गई और उस पर चढ़कर नीचे गिर गई.

जांच के लिए जाएगी टीम

युवती बीना कैसे पहुंची, उसके साथ क्या हुआ, यह सब पता लगाने की कोशिश पुलिस कर रही है. रात्रि में स्टेशन पर युवती को देखा गया था. मौके से कुछ सुराग मिले हैं, जिनसे जांच की दिशा तय हो रही है. पीएम रिपोर्ट मिलने के बाद हमारी टीम डिंडौरी, शहडोल, जबलपुर, इंदौर जाएगी.
– सचिन अतुलकर, एसपी सागर (आईजी के साथ वार्षिक निरीक्षण पर बीना आए थे.)

दोस्तों से भी होगी पूछताछ
युवती के बैग से कुछ फोटोग्राफ्स मिले हैं, जिनके आधार पर उसके दोस्तों से भी पूछताछ की जाएगी. 22 जून को जबलपुर में टेस्ट देने के बाद लड़की इंदौर में किस सहेली के यहां रुकी. बीना उसके साथ कौन आया, इसका पता भी लगाया जाएगा. पीएम रिपोर्ट मिलने के बाद हमारी चार सदस्यीय टीम चारों स्थानों पर जाकर जानकारी लेगी. युवती के साथ दुष्कर्म हुआ है या सहमति से संबंध बने थे, इसका पता पीएम रिपोर्ट का अध्ययन करने के बाद ही चलेगा. 29 जून की रात्रि जबलपुर जाने के लिए लड़की बीना स्टेशन आई थी. औरैया क्षेत्र में लड़की कैसे पहुंची, बैग मंदिर में कैसे पहुंचा पता, लगाने की कोशिश की जा रही है.
– जितेंद्र सिंह पवार, एसडीओपी बीना

वह भी तो किसी की बेटी थी
अपने घर के सामने खेत में लड़की को दौड़ते हुए देखा था. बाद में किसी ने बताया कि लड़की लोगों से कपड़े मांग रही थी, लेकिन किसी ने नहीं दिए. हमारे सामने ऐसी बात आती तो अपने कपड़े भी उतारकर दे देते. जैसी हमारी बेटी है, ऐसे ही वह भी तो किसी की बेटी थी. साहब, ऐसा लगता है जैसे हमारे ही घर में कोई मर गया हो. बेटी, बहुओं को घर से बाहर निकलने में डर लगने लगा है.
– लक्ष्मीबाई विश्वकर्मा, निवासी औरैया

लड़की को पागल समझकर अनसुना कर दिया
लड़की छह, सवा छह बजे मोहल्ले में आई थी. नल के पीछे खेत में छुप कर बैठी थी. एक महिला शौच के लिए गई, उसने बिना कपड़ों के लड़की को देखा तो वापस आ गई और मोहल्ले में अन्य महिलाओं को बताया. धीरे-धीरे सभी लोग वहां पहुंच गए. लोगों ने कपड़ा देने की कोशिश की, लेकिन उसने कपड़े नहीं लिए. फिर लड़की ने दौड़ लगा दी. दौड़ लगाकर एक आम के पेड़ के पीछे वह छुप गई. वहां से निकल रहे एक लड़के को उसने बुलाया. लड़के ने उसे पागल समझकर अनसुना कर दिया. वहां भी लोगों को आते देख लड़की ने खेतों में से दौड़ लगाई और टावर पर चढ़ गई. टावर पर चढ़ने के बाद लड़की ने ऊपर का तार पकड़ लिया और झूल गई. पांच मिनट तक झूलने के बाद उसके हाथ छूट गए. नीचे गिरने से उसकी मौके पर ही मौत हो गई. लड़की के पीछे गांव का एक लड़का सरनाम सिंह मोटरसाइकिल लेकर गया. उसके पास पहुंचने से पहले ही लड़की गिर गई थी.
– संजय पाराशर, निवासी औरैया

विधानसभा में उठाएंगे मुद्दा
बहुत दुखद घटना है, जानकारी लगने पर हमने गांव में ब्लॉक कांग्रेस अध्यक्ष को भेजकर लड़की के पिता से बात की. लड़की होनहार थी. उसकी डिटेल लेकर विधानसभा में मुद्दा उठाएंगे. यहां डिंडौरी कलेक्टर से भी हमने पीड़ित परिवार को मदद की बात कही है.
– ओमकार सिंह मरकाम, डिंडौरी विधायक

राष्ट्रीय महिला आयोग से शिकायत
मामले की शिकायत राष्ट्रीय महिला आयोग से कर दी है. विधानसभा नेता प्रतिपक्ष सत्यदेव कटारे को भी सूचना दी है. जरूरत पड़ने पर प्रदेश कांग्रेस बीना में धरना देगी.
– संजय सिंह ठाकुर, पूर्व महामंत्री प्रदेश युकां

सेंटर फॉर सोशल जस्टिस की टीम आएगी

आदिवासी युवती से जुड़ा मामला होने के कारण जांच के लिए अहमदाबाद से मानव अधिकारों के लिए काम करने वाली सामाजिक संस्था सेंटर फॉर सोशल जस्टिस की मैनेजिंग डायरेक्टर जोआना लोखंडे अपनी टीम के साथ 4 जुलाई को बीना पहुंच रही हैं.
– अभिषेक राय, संस्था के सामाजिक न्याय अधिवक्ता

जब हम आरोपियों को पकड़ रहे हैं, तो ज्ञापन की जरूरत क्या
युवती के साथ हुई घटना की निंदा करते हुए कांग्रेस नेतागण जनपद अध्यक्ष इंदर सिंह ठाकुर के साथ आईजी पंकज श्रीवास्तव को ज्ञापन सौंपने पहुंचे. कांग्रेसियों को पुलिस थाने के अंदर जाने से रोकने के लिए टीआई एमए सैय्यद ने मेन गेट लगा दिया और कहा कि जब हम कार्रवाई कर रहे हैं तो ज्ञापन की आवश्यकता क्या है. इस पर कांग्रेसी उखड़ गए और ज्ञापन सौंपने की जिद करने लगे. कांग्रेस नेताओं को समझाने एसडीओपी जितेंद्र सिंह पवार आए और ज्ञापन लेने की बात करने लगे. लेकिन उन्होंने इनकार कर दिया और कहा कि ज्ञापन तो एसपी या आईजी को ही सौंपा जाएगा. लगभग 30 मिनट इस बात को लेकर टीआई, एसडीओपी से कांग्रेस नेताओं की हुज्जत चलती रही.

आखिर में एसडीओपी ने एसपी को सूचना दी और एसपी सचिन अतुलकर ने ज्ञापन लेकर सभी को उचित कार्यवाही के लिए आश्वस्त किया. ज्ञापन में 48 घंटों के अंदर मामले का खुलासा नहीं होने पर बीना बंद करने की चेतावनी दी गई है. ज्ञापन सौंपने वालों में जिला पंचायत सदस्य इंदर सिंह यादव, पीपी नायक, अशोक मिश्रा, राजाभाई, युवक कांग्रेस विधानसभा क्षेत्र अध्यक्ष वासु यादव, नरेंद्र सिंह ठाकुर, अभिषेक बिलगैयां, विशाल सिंह, एसआर यादव, संजय सिंह सहित अन्य शामिल रहे. आदिवासी युवती के बीना में हादसे का शिकार होने पर युवक कांग्रेस ने बुधवार की शाम गांधी तिराहा पर मोमबत्ती जलाकर श्रद्धांजलि दी.

(भास्कर)

Facebook Comments

इस खबर को अपने मित्रों से साझा करें..
    Print       Email
  • Published: 3 years ago on July 3, 2014
  • By:
  • Last Modified: July 3, 2014 @ 1:42 pm
  • Filed Under: अपराध

About the author

मीडिया दरबार के मॉडरेटर 1979 से पत्रकारिता से जुड़े हैं. एक साप्ताहिक से शुरूआत के बाद अस्सी के दशक में स्वतंत्र पत्रकार बतौर खोजी पत्रकारिता में कदम रखा, हिंदी के अधिकांश राष्ट्रीय अख़बारों में हस्ताक्षर. उसी दौरान राजस्थान के अजमेर जिले के एक सशक्त राजनैतिक परिवार द्वारा एक युवती के साथ किये गए खिलवाड़ पर नवभारत टाइम्स के लिए लिखी रिपोर्ट वरिष्ठ पत्रकार श्री मिलाप चंद डंडिया की पुस्तक “मुखौटों के पीछे – असली चेहरों को उजागर करते पचास वर्ष” में भी संकलित की गयी है. कुछ समय के लिए चौथी दुनियां के मुख्य उपसंपादक रहे किन्तु नौकरी कर पाने के लक्खन न होने से तेईस दिन में ही चौथी दुनिया को अलविदा कह आये. नब्बे के दशक से पिछले दशक तक दूरदर्शन पर समसामयिक विषयों पर प्रायोजित श्रेणी में कार्यक्रम बनाते रहे. अब वैकल्पिक मीडिया पर सक्रिय.

पाठक चाहे आलेखों से सहमत हों या असहमत, किसी भी लेख पर टिप्पणी करने को स्वतंत्र हैं. हम उन टिप्पणियों को बिना किसी भेद-भाव के निडरता से प्रकाशित भी करते हैं चाहे वह हमारी आलोचना ही क्यों न हो. आपसे अनुरोध है कि टिप्पणियों की भाषा संयत एवं शालीन रखें - मॉडरेटर

You might also like...

पनामा के बाद पैराडाइज पेपर्स लीक..

Read More →
Page Reader Press Enter to Read Page Content Out Loud Press Enter to Pause or Restart Reading Page Content Out Loud Press Enter to Stop Reading Page Content Out Loud Screen Reader Support
%d bloggers like this: