/चीनी घुसपैठ पर राजनाथ सिंह का बेतुका बयान..

चीनी घुसपैठ पर राजनाथ सिंह का बेतुका बयान..

चीन की ओर से घुसपैठ के प्रयासों की खबरों के बीच भारत ने गुरुवार को कहा कि ऐसी घटनाएं सीमा के बारे में समझ में अंतर के चलते होती है और दोनों देशों के नेता मुद्दे के समाधान के बारे में बात कर रहे हैं.Rajnath-Singh

गृह मंत्री राजनाथ सिंह ने यहां संवाददाताओं से कहा कि सीमा के बारे में समझ में अंतर के कारण सीमा पर घुसपैठ होती है. सिंह ने पिछले कुछ दिनों में जम्मू-कश्मीर के लद्दाख क्षेत्र के दामचोक और चुमार क्षेत्र में चीनी सैनिकों के घुसपैठ के दो प्रयासों के बारे में पूछा गया था.

चीनी सैनिकों की घुसपैठ के प्रयास ऐसे समय में हुए हैं जब प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी और राष्ट्रपति शी चिनफिंग ने पोर्टालिजा में ब्रिक्स शिखर सम्मेलन के दौरान मंगलवार को सीमा विवाद का समधान निकालने के विषय पर जोर दिया था. गृह मंत्री ने कहा कि दोनों देशों के प्रमुख सीमा मुद्दे और उसे सुलझाने के बारे में बातचीत कर रहे हैं.

उन्होंने कहा कि चीनी घुसपैठ विगत में भी हुई जब चीनी पक्ष भारतीय क्षेत्र में प्रवेश कर गए और भारतीय सुरक्षाबलों ने उन्हें पीछे धकेल दिया. राजनाथ ने कहा कि कभी-कभी वे प्रवेश करते हैं और हमारे सुरक्षा बल उन्हें पिछले धकेल देते हैं.

Facebook Comments

संबंधित खबरें:

  • संबंधित खबरें उपलब्ध नहीं

मीडिया दरबार के मॉडरेटर 1979 से पत्रकारिता से जुड़े हैं. एक साप्ताहिक से शुरूआत के बाद अस्सी के दशक में स्वतंत्र पत्रकार बतौर खोजी पत्रकारिता में कदम रखा, हिंदी के अधिकांश राष्ट्रीय अख़बारों में हस्ताक्षर. उसी दौरान राजस्थान के अजमेर जिले के एक सशक्त राजनैतिक परिवार द्वारा एक युवती के साथ किये गए खिलवाड़ पर नवभारत टाइम्स के लिए लिखी रिपोर्ट वरिष्ठ पत्रकार श्री मिलाप चंद डंडिया की पुस्तक "मुखौटों के पीछे - असली चेहरों को उजागर करते पचास वर्ष" में भी संकलित की गयी है. कुछ समय के लिए चौथी दुनियां के मुख्य उपसंपादक रहे किन्तु नौकरी कर पाने के लक्खन न होने से तेईस दिन में ही चौथी दुनिया को अलविदा कह आये. नब्बे के दशक से पिछले दशक तक दूरदर्शन पर समसामयिक विषयों पर प्रायोजित श्रेणी में कार्यक्रम बनाते रहे. अब वैकल्पिक मीडिया पर सक्रिय.