/मेहर तरार से शादी करने की फ़िराक में थे थरूर..

मेहर तरार से शादी करने की फ़िराक में थे थरूर..

नई दिल्ली. सुनंदा पुष्कर की मौत को लेकर एक के बाद एक खुलासे हो रहे हैं। पुलिस जांच में अब ऐसी बातें सामने आ रही हैं कि दोनों के बीच सब कुछ ठीक नहीं चल रहा था। वरिष्‍ठ पत्रकार नलिनी सिंह और सुनंदा के नौकर नारायण ने एसडीएम के सामने अपने बयान दर्ज कराए हैं, उनमें कहा गया है कि मेहर तरार को लेकर दोनों के बीच झगड़ा चल रहा था। वहीं, एक समाचार चैनल ने दावा किया है कि थरूर सुनंदा से तलाक लेकर पाकिस्तानी पत्रकार मेहर तरार से शादी करना चाहते थे। यह शादी आम चुनाव के बाद होनी थी। थरूर के मेहर के अलावा भी दो महिलाओं से संबंध थे।tharoor_saga_1389874022_540x540

सुनंदा की करीबी ने अपने बयान में क्या कहा
सुनंदा पुष्कर की करीबी और वरिष्‍ठ पत्रकार नलिनी सिंह ने एसडीएम के पास दर्ज कराए बयान में कहा है कि सुनंदा की मौत के एक हफ्ते पहले से दोनों के बीच लड़ाई चल रही थी। नलिनी ने कहा, ‘मेहर तरार से रिश्तों को लेकर थरूर औऱ सुनंदा के बीच हाथापाई तक भी हुई थी। मौत से पहले सुनंदा की मेहर तरार के साथ ट्विटर पर भी कुछ कहासुनी हुई थी।’
एसडीएम के सामने नलिनी ने पहले ये बातें मौखिक तौर पर कही थीं, लेकिन बाद में उन्होंने बयान रिकॉर्ड कराया। उन्‍होंने कहा, ’17 जनवरी की रात 12.10 बजे सुनंदा ने मुझे फोन किया था। हमारे बीच थरूर और मेहर तरार के अफेयर को लेकर करीब 7 मिनट तक बातचीत हुई। सुनंदा बहुत घबराई हुई थी और रो रही थी’

ईमेल को लेकर भी हुई चर्चा
नलिनी ने बताया कि उनके और सुनंदा के बीच थरूर और तरार के ईमेल को लेकर भी बातचीत हुई थी। उन्‍होंने बताया, ‘सुनंदा को लग रहा था कि वह काफी बीमार हैं। सुनंदा ने उन्‍हें बताया कि उनका टीबी का इलाज चल रहा था। बात करते-करते काफी रात हो गई थी।’

सुनंदा के नौकर का बयान
सुनंदा के नौकर नारायण ने भी एसडीएम को दिए अपने बयान में दोनों के बीच लड़ाई होने की बात कही है। नारायण ने बताया, ‘थरूर और सुनंदा के बीच 16 जनवरी की रात को भी मेहर तरार को लेकर जमकर लड़ाई हुई। दोनों शुक्रवार सुबह 4.30 बजे तक लड़ते रहे। सुनंदा के शरीर पर चोट के निशान थे जो शायद दोनों के बीच हाथापाई की वजह से आए थे।’

एक समाचार चैनल ने भी नलिनी और नारायण के बयानों का हवाला देते हुए दावा किया है कि जून 2013 में शशि और मेहर दुबई में मिले थे। दोनों तीन दिन साथ ही रुके थे। सुनंदा के दोस्तों ने सबूतों के साथ इसकी जानकारी दी थी। नलिनी सिंह ने बयान दिया है कि मेहर मामले में सुनंदा बीबीएम अकाउंट से डिलीट मैसेज रिट्रीव करना चाहती थीं। इसके लिए उन्होंने नलिनी से मदद मांगी थी। नारायण सिंह के मुताबिक, तिरुवनंतपुरम से दिल्ली आते वक्त 15 जनवरी को विमान में भी दोनों के बीच झगड़ा हुआ था। चैनल ने नलिनी और नारायण के बयानों के हवाले से यह दावा किया है कि थरूर के मेहर के अलावा कई और महिलाओं से भी संबंध थे, जिनका पता चलने पर सुनंदा और थरूर के रिश्ते तल्ख हो गए थे।

मैं अपने बयान पर कायम: थरूर
चैनल के मुताबिक, शशि थरूर ने इन बयानों पर कहा है कि वे अपने 2 जुलाई के बयान पर कायम हैं। थरूर ने कहा था, ‘अपनी पत्नी की दुखद मौत पर, और शुरू से ही, मैंने गुजारिश की है कि इसकी संपूर्ण जांच होने चाहिए और जांच पारदर्शी और जल्दी खत्म होनी चाहिए। पुष्कर परिवार का भी यही मत है और हमने अधिकारियों के साथ पूरी तरह सहयोग किया है। मैं इस लंबी चल रही जांच को एक स्पष्ट और निर्णायक परिणाम तक पहुंचाने की गुजारिश दोहराता हूं, ताकि सभी अटकलों को विराम दिया जा सके।’
(भास्कर)

Facebook Comments

संबंधित खबरें:

  • संबंधित खबरें उपलब्ध नहीं

मीडिया दरबार के मॉडरेटर 1979 से पत्रकारिता से जुड़े हैं. एक साप्ताहिक से शुरूआत के बाद अस्सी के दशक में स्वतंत्र पत्रकार बतौर खोजी पत्रकारिता में कदम रखा, हिंदी के अधिकांश राष्ट्रीय अख़बारों में हस्ताक्षर. उसी दौरान राजस्थान के अजमेर जिले के एक सशक्त राजनैतिक परिवार द्वारा एक युवती के साथ किये गए खिलवाड़ पर नवभारत टाइम्स के लिए लिखी रिपोर्ट वरिष्ठ पत्रकार श्री मिलाप चंद डंडिया की पुस्तक "मुखौटों के पीछे - असली चेहरों को उजागर करते पचास वर्ष" में भी संकलित की गयी है. कुछ समय के लिए चौथी दुनियां के मुख्य उपसंपादक रहे किन्तु नौकरी कर पाने के लक्खन न होने से तेईस दिन में ही चौथी दुनिया को अलविदा कह आये. नब्बे के दशक से पिछले दशक तक दूरदर्शन पर समसामयिक विषयों पर प्रायोजित श्रेणी में कार्यक्रम बनाते रहे. अब वैकल्पिक मीडिया पर सक्रिय.